अश्वगंधा और शिलाजीत साथ में लेने से मिलते हैं कई फायदे, आयुर्वेदाचार्य से जानें सेवन का तरीका और कुछ नुकसान

अश्वगंधा और शिलाजीत का एक साथ सेवन करने से स्वास्थ्य को कई फायदे हो सकते हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraUpdated at: Jan 07, 2022 12:39 IST
अश्वगंधा और शिलाजीत साथ में लेने से मिलते हैं कई फायदे, आयुर्वेदाचार्य से जानें सेवन का तरीका और कुछ नुकसान

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में कई तरह की जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करके बीमारियों को प्राकृतिक तरीके से दूर करने की कोशिश की जाती है। कई ऐसी जड़ी-बूटियां हैं, जिसका मिश्रण स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। उन्हीं जड़ी-बूटियों में अश्वगंधा और शिलाजीत है। हम में से कई लोगों का मनाना है कि शिलाजीत सेक्सुअल हेल्थ से जुड़ी परेशानी को दूर करने में मददगार होता है। लेकिन आपको बता दें कि यह न सिर्फ सेक्सुअल हेल्थ बल्कि आपके ओवर ऑल हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। वहीं, अश्वगंधा भी कई तरह की बीमारियों को दूर करने में लाभकारी है। सिरसा के आयुर्वेदाचार्य श्रेय शर्मा का कहना है कि शिलाजीत और अश्वगंधा एक साथ सेवन करने से दिमाग और मांसपेशियों को मजबूत किया जा सकता है। इसके अलावा यह स्वास्थ्य के लिए अन्य तरह से भी लाभकारी होता है। आइए विस्तार से जानते हैं अश्वगंधा और शिलाजीत (ashwagandha and shilajit benefits) के फायदे -

अश्वगंधा और शिलाजीत के फायदे (ashwagandha and shilajit benefits)

1. दिमाग को करे तेज 

अश्वगंधा और शिलाजीत मस्तिष्क कार्य प्रणाली के लिए काफी अच्छा हो सकता है। दरअसल, शिलाजीत में न्यूरोप्रोटेक्टिव एजेंट पाया जाता है, जो आपके मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इसके साथ ही यह आपके याददाश्त को भी बढ़ाने में असरदार हो सकता है। इतना ही नहीं, अश्वगंधा भी आपके मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इसमें एंटी-अल्जाइमर गुण मौजूद होता है, जो अल्जाइमर जैसी मस्तिष्क की बीमारी के खतरे को कम करने में प्रभावी है। 

साथ ही अश्वगंधा और शिलाजीत एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है, जो फ्री रैडिकल के कार मस्तिष्क की समस्याओं को दूर करने में प्रभावी है। ऐसे में आप आयुर्वेद एक्सपर्ट की सलाह पर अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। यह आपके मस्तिष्क के लिए काफी प्रभावी साबित हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - सर्दियों में शरीर को गर्म रखने के लिएं करें इन 5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का सेवन

2. इम्यूनिटी करे बूस्ट

कोरोनाकाल में अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, अश्वगंधा में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी का प्रभाव होता है। यह प्रभाव शरीर के इम्यून पावर को जरूरत के अनुसार बदल सकता है। इतना ही नहीं, यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को सुधारने में असरदार है। वहीं, शिलाजीत के इस्तेमाल से भी इम्यूनिटी बूस्ट की जा सकती है। कोरोनाकाल के बढ़ते मामलों को देखते हुए आप अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए शिलाजीत और अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं। यह बहुत ही लाभकारी है। 

3. मांसपेशियों को करे मजबूत 

मांसपेशियों को मजबूत करने में भी अश्वगंधा और शिलाजीत आपके स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी है। शिलाजीत आपकी मांसपेशियों की मजबूती और बनावट को बेहतर करता है। वहीं, अश्वगंधा का इस्तेमाल भी मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए किया जा सकता है। मांसपेशियों की मजबूती और बनावट को बेहतर करने के लिए आप इन दोनों का मिश्रण ले सकते हैं। यह आपके लिए काफी फायदेमंद है।

4. यौन स्वास्थ्य के लिए बेहतर 

शिलाजीत और अश्वगंधा का मिश्रण यौन स्वास्थ्य में सुधार के लिए प्रभावी माना जाता है। यह टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को बेहतर करने में असरदार है। इतना ही नहीं, यह लो स्पर्म काउंट की परेशानी को दूर करने में भी उपयोगी हो सकता है। स्पर्म की गुणवत्ता को बेहतर करने के लिए आप अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। 

5. मोटापे से छुटकारा

अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन करने से आप मोटापे की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। यह मिश्रण आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में प्रभावी माना जाता है। साथ ही यह पेट की चर्बी को कम करने में असरदार है। रोजाना सुबह अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन करने से आप अपने बढ़ते वजन को काफी हद तक कंट्रोल कर सकते हैं। 

6. यूरिन संक्रमण को दूर करने में प्रभावी

अश्वगंधा और शिलाजीत यूरिन संक्रमण को दूर करने के लिए काफी प्रभावी होता है। शिलाजीत और अश्वगंधा में एंटी-बैटीरियल और एंटीवायरल गुण होता है, जो संक्रमण से बचाव करने में आपकी मदद कर सकता है। इसमें संक्रमण में होने वाली समस्या जैसे- खुजली, दर्द, चिड़चिड़ापन दूर करने की क्षमता होती है। 

इसे भी पढ़ें - गैस और कब्ज की आयुर्वेदिक दवा: इन 8 जड़ी-बूटियों से करें गैस और कब्ज की समस्या दूर

7. थकान और कमजोरी करे दूर

अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन थकान और कमजोरी को दूर करने के लिए प्रभावी माना जाता है। यह मिश्रण शरीर में उर्जा प्रदान करने के लिए काफी प्रभावी है। अगर आपको काफी कमजोरी महसूस हो रही है, तो दूध के साथ अश्वगंधा और शिलाजीत का मिश्रण लें। इससे आपको काफी आराम महसूस होगा। 

कैसे करें अश्वगंधा और शिलाजीत का प्रयोग ( How to Use Ashwaganda and Shilajit )

अश्वगंधा और शिलाजीत स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हो सकता हैं। हालांकि, इसका सेवन डॉक्टर की सलाह पर ही करें। वहीं, सही तरीके से इसका इस्तेमाल करें। 

मार्केट में आपको अश्वगंधा और शिलाजीत का चूर्ण बहुत ही आसानी सी उपलब्ध हो सकता है। इसके अलावा इसका कैप्सूल भी मिलता है, जिसका सेवन आप आयुर्वेदाचार्य की सलाह पर कर सकते हैं।

इसके अलावा अश्वगंधा और शिलाजीत चूर्ण को दूध के साथ लें। दूध के साथ कैसे और कितनी मात्रा में लेनी है, यह आयुर्वेदाचार्य आपकी स्थिति के अनुसार सलाह दे सकते हैं। 

वहीं, अगर आप चाहें, तो चाय के रूप में भी अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, यह डॉक्टर आपकी स्थिति और उम्र के आधार पर सही अनुपात बता सकता है।

अश्वगंधा और शिलाजीत के नुकसान ( Ashwaganda and Shilajit Side Effects  )

ध्यान रखें कि अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। अधिक मात्रा में अश्वगंधा का सेवन स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेय हो सकता है। वहीं, कुछ लोगों को इसके सेवन से बचना चाहिए। जैसे -

  • पेट से जुड़ी परेशानी जैसे- कब्ज, गैस, अपच इत्यादि।
  • ब्लड प्रेशर की परेशानी होने पर डॉक्टर से सलाह लें।
  • मधुमेह की दवा लेने पर
  • गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन कराने से पहले डॉक्टर से सलाह लेँ। 
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को न दें।

अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभाकारी हो सकता है। लेकिन ध्यान रखें कि इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना है। वहीं, डॉक्टर की सलाह पर ही अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन करें। अगर आपको किसी तरह की गंभीर समस्या है, तो बिना डॉक्टर की राय के इसका सेवन करने से बतें। इसके अलावा अगर आपको अश्वगंधा और शिलाजीत का एक साथ सेवन करने से किसी तरह की समस्या महसूस हो रही है, तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

Disclaimer