अगरु या अगर वृक्ष के तेल और चूर्ण आते हैं इन 7 बीमारियों के इलाज में काम, जानें इसके फायदे-नुकसान

अगरु (अगर वृक्ष) हो, जड़ हो या इसका चूर्ण, ये सेहत के लिए कई समस्याओं को दूर करने में बेहद उपयोगी है। जानते हैं इसके बारे में...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jul 22, 2021Updated at: Jul 22, 2021
अगरु या अगर वृक्ष के तेल और चूर्ण आते हैं इन 7 बीमारियों के इलाज में काम, जानें इसके फायदे-नुकसान

आयुर्वेद में अगरु (Agarwood) बेहद खास और महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों में से एक है। इसे अगर वृक्ष के नाम से भी जाना जाता है। यह स्वाद में कड़वी होने के साथ-साथ तीखी भी होती है। इसके उपयोग से न केवल चेहरे पर चमक आती है बल्कि मोटापा, कान की समस्या, उल्टी की समस्या आदि समस्याओं को भी दूर करने में बेहद उपयोगी है। आज का हमारा लेख इसी जड़ी बूटी पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि अगरु के उपयोग से सेहत को क्या-क्या फायदे (Agarwood health benefits) होते हैं। साथ ही इसके नुकसान (Agarwood side effects) के बारे में भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

1 - गले की समस्या को करे दूर

गले की कई समस्याओं को दूर करने में अगरु बेहद उपयोगी है। ऐसे में अगरु के चूर्ण को सौंठ के साथ मिलाएं और शहद के साथ सेवन करें। ऐसा करने से न केवल खांसी दूर होती है बल्कि सांस की नली में आई सूजन से भी राहत मिलती है।

2 - जोड़ों के दर्द से राहत

जोड़ों के दर्द को दूर करने में ही अगरु बेहद उपयोगी है। ऐसे में इसके पत्तों को पीसकर उसका लेप तैयार करें। ऐसा करने से न केवल गठिया की समस्या दूर होती है बल्कि जोड़ों में सूजन, लकवा आदि की समस्या में से भी लाभ मिलता है।

इसे भी पढ़ें- कूठ का पौधा होता है अस्थमा, खांसी जैसी इन 7 बीमारियों में फायदेमंद, एक्सपर्ट से जानें प्रयोग का तरीका

3 - बुखार को बढ़ने से रोके

अगरु बुखार को दूर करने में भी उपयोगी है। यह शरीर से सर्दी को दूर कर शरीर में ताकत पहुंचाती है। ऐसे में अगरु का सेवन अश्वगंधा, शतावरी और गिलोय जैसी महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों के साथ करें। ऐसा करने से शारीरिक कमजोरी तो दूर होती ही है साथ ही थकान, बुखार, सर्दी आदि से भी राहत मिलती है।

4 - चेहरे की समस्या को करें दूर

जो लोग चेहरे के दाग धब्बे, काले निशान आदि से परेशान हैं वे अगरु के इस्तेमाल से अपनी इस परेशानी को दूर कर सकते हैं। इसके अलावा अगरु पित्ती के कारण होने वाली खुजली, फोड़े फुंसी, चर्म विकार आदि को दूर करने में भी उपयोगी है। इसके लिए आपको अगरु की छाल से बना चूर्ण लेना होगा और उसमें गाय के घी को मिलाना होगा। इस मिश्रण के सेवन से कई समस्या दूर होती हैं।

इसे भी पढ़ें- आयुर्वेद में गंध प्रसारिणी के पौधे का है विशेष महत्व, इन 5 समस्याओं में दिलाता है तुरंत आराम

5 - उल्टी को रोके

अगरु उल्टी की समस्या को दूर करने में भी उपयोगी है। ऐसे में आप अगरु के चूर्ण में एक चम्मच शहद को मिलाएं और इसका सेवन करें। ऐसा करने से उल्टी की समस्या से राहत मिलती है। इसके अलावा यदि आप भूख ना लगने की समस्या से परेशान है या पेट की समस्या जैसे अपच, पट में दर्द आदि से परेशान हैं तो आप इस मिश्रण का सेवन कर सकते हैं। ऐसा करने से समस्या से छुटकारा मिलेगा।

6 - सिर के दर्द से भी आराम

अगरु सिर के दर्द में आराम भी पहुंचा सकता है। ऐसे में आपको अगरु की लकड़ी को घिसकर उसका लेप तैयार करना है और उसमें थोड़ा सा कपूर मिलाना है। अब बने मिश्रण को प्रभावित स्थान पर लगाना है। ऐसा करने से सिर के दर्द से आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें- सोया की पत्तियों का सेवन आयुर्वेद के अनुसार करने पर दूर होती हैं कई बीमारियां, जानें प्रयोग का तरीका

7 - सेक्सुअल पावर को बढ़ाएं

अगरु का तेल सेक्स पावर बढ़ाने के लिए आपके काम आ सकता है। ऐसे में आप पान के पत्ते के ऊपर कुछ बूंदें अगरु के तेल की डालें और थोड़ी देर मुंह में रखें। ऐसा करने से समस्या से छुटकारा मिल सकता है। हालांकि इसका इस्तेमाल करने से पहले एक बार एक्सपर्ट से सलाह लें।

अगरु के नुकसान (Agarwood side effects)

अगरु का उपयोग अगर उचित मात्रा में किया जाए तो यह सेहत को किसी भी तरीके से नुकसान नहीं पहुंचाता है। ऐसे में इसका उपयोग करने से पहले एक्सपर्ट से इसकी सीमित मात्रा की जानकारी दें। उसके बाद भी इसका प्रयोग या सेवन करें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि अगरु का तेल हो या चुर्ण, यह सेहत को कई समस्याओं से दूर करने में उपयोगी है। लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले जरूरी मात्रा का होना जरूरी है। इसके लिए एक्सपर्ट आपके काम आ सकते हैं। 

इस लेख में इस्तेमाल की जानें वाली फोटोज़ shutterstock से ली गई हैं।

Read More Articles on ayurveda in hindi

Disclaimer