इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अपनी कॉफी को बनाए विटामिन से भरपूर, इस्तेमाल करें ये 5 चीजें

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए शरीर को कई विटामिन की खास अवश्कता होती है, तो आइए जानते हैं ऐसे ही इम्यूनिटी बूस्टर चीजों के बारे में।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 06, 2020
इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अपनी कॉफी को बनाए विटामिन से भरपूर, इस्तेमाल करें ये 5 चीजें

कॉफी के बिना कई लोगों के लिए अपनी सुबह की शुरुआत करना थोड़ा मुश्किल होता है। हालांकि कैफीन शरीर और मस्तिष्क को दिन की शुरुआत करने के लिए बहुत जरूरी किक देता है, लेकिन जब आप खाली कैलोरी ले रहे हैं, तो इसे ज्यादा लेना भी शरीर के लिए स्वस्थ नहीं है। हालांकि, ऐसे कई तरीके हैं, जिनकी मदद से आप अपनी कॉफी को हेल्दी और इम्यूनिटी बू्स्टर बना सकते हैं। इसके लिए आप इसनें कई विटामिन और पोषक तत्वों को जोड़ सकते हैं, जो आपकी स्वास्थ्य के लिए हर तरह से फायदेमंद हैं। इस तरह की कॉफी आपके मूड स्विंग्स से लेकर दिल की सेहत में सुधार और वजन घटाने में कई तरह से सहायता कर सकती है। तो आइए जानते हैं कौन सी वो चीजें हैं, जो आपकी कॉफी को विटामिन से भरपूर बना सकते हैं।

insidecoffee

अदरक और सोंठ पाउडर से कॉफी बनाएं

दालचीनी की ही तरह आप अदरक के पानी में अपनी रोजाना की कॉफी बना सकते हैं। अदरक आपकी कॉफी में एक गेम-चेंजर की तरह काम कर सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि अदरक के जड़ में मजबूत एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी-वायरल गुण होते हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा को बढ़ाने के काम में आ सकते हैं। इस तरह ये आपको मौसमी इंफेक्शन से बचाए रख सकते हैं।  इसके अलावा, इसका उपयोग मांसपेशियों में तनाव, मतली, सूजन और पाचन को बहेतर बनाने में मदद करता है। साथ ही ये कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए भी अच्छा है। जिन लोगों को डायबिटीज है, उन लोगों में इसके कई स्तर से लड़ने में अदरक काफी फायदेमंद है। वहीं अधिक लाभ पाने के लिए आप कॉफी में सोंठ पाउडर मिला सकते हैं।

दालचीनी के पानी में बनाएं कॉफी

दालचीनी को हमेशा से ही अपने औषधीय गुणों के कारण जाना जाता है। दालचीनी में रासायनिक, सिनामाल्डिहाइड होता है, जो कोशिकाओं यानी कि बॉडी सेल्स के संपर्क में आने पर चयापचय (मेटाबॉलिज्म) दर को बढ़ा देता है। इसमें एक शक्तिशाली एंटी-डायबिटिक प्रभाव होता है, जो शरीर को कई तरह के संक्रमणों से बचाए रखने में मदद करता है। साथ ही इसमें कई एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन बी, के, बीटा-कैरोटीन, लाइकोपीन नामक पोषक तत्व भी होते हैं, जो शरीर के बाकी कामकाम में मदद करते हैं। ऐसे में आप अपनी कॉफी के लिए दावचीनी के पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आपको दावचीनी डालकर पानी को उबालने की जरूरत है और फिर उससे आप अपनी रेगुलर कॉफी बनाएं। डायबिटीक लोगों के लिए ऐसा कॉफी में चीनी डालने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि उऩके लिए ये ऐसे ही फायदेमंद है।

insidecoconutoil

इसे भी पढ़ें : बलगम कम कर सकता है मेथी चाय, ल्यूक कॉउटिन्हो से जानें फेफड़ों को स्वस्थ रखने के आसान उपाय

हल्दी भी है फायदेमंद

हल्दी न केवल सब्जी के लिए, बल्कि यह कॉफी के लिए एक अद्भुत तरीके से काम कर सकता है। हल्दी का उपयोग पारंपरिक रूप से प्रतिरक्षा को बढ़ाने, घावों को भरने और शरीर में एंटी-ऑक्सीडेंट को बढ़ावा देने के लिए किया गया है। इसके हीलिंग गुण करक्यूमिन से आते हैं, जो इसमें मौजूद मुख्य सक्रिय घटक है। ऐसे में कॉफी में सिर्फ एक चुटकी हल्दी पाउडर डालना कई तरह से हमारे शरीर के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। 

नारियल का तेल और घी

नारियल का तेल और घी दोनों ही आपके शरीर के लिए अद्भुत हैं। उन्हें हर दिन आपकी कॉफी में भी जोड़ा जा सकता है। घी या नारियल के तेल जैसे पौष्टिक वसा का उपयोग भूख वाले हार्मोन के उत्पादन को दबा सकता है, पाचन धीमा कर सकता है, जिससे आप कम खा सकते हैं। इससे वजन संतुलित करने में मदद मिल सकती है। जहां एक ओर नारियल के तेल का वजन विटामिन-ई सामग्री पर अधिक होता है, वहीं दूसरी ओर घी विटामिन-ए, डी, ई, के और ओमेगा-3 और ओमेगा-9 फैटी एसिड जैसे विटामिन से भरा होता है। ऐसे में आप बस एक चम्मच नारियल तेल या घी मिलाकर कॉफी बनाएं।

इसे भी पढ़ें : रोजाना नाक में डालें दो बूंद बादाम का तेल, इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ कई बीमारियों से भी दिलाएगा निजात

इलाइची

इलाइची सिर्फ आपकी चाय के साथ ही नहीं, बल्कि कॉफी के साथ भी बहुत अच्छी लगती है। साथ ही इलायची एक पारंपरिक दवा के रूप में समर्थित किया गया है, जिसमें एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, स्वाद को बढ़ाता है और आवश्यक खनिज और यहां तक कि कैंसर से लड़ने में भी मदद करता है। वहीं इनमें कुछ फाइबर तत्व भी होते हैं, जो आपके पाचन तंत्र को विनियमित करने में मदद कर सकते हैं। इसलिए आप इलाइची दो कूट के रखिए और इस पॉउडर को कॉफी में ऊपसे से मिलाकर इस्तेमाल करें।

Read more articles on Home-Remedies in Hindi

Disclaimer