Tips for happy married life: वैवाहिक जीवन में आ रही हैं ये 5 दिक्कतें? माता-पिता से लें काउंसलिंग

शादी में आ रही परेशानियों के बारे में अगर आप अपने माता-पिता से बात नहीं करना चाहते हैं, तो आपको किसी प्रोफेशनल काउंसलर की मदद लेनी चाहिए।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Oct 02, 2020Updated at: Oct 02, 2020
Tips for happy married life: वैवाहिक जीवन में आ रही हैं ये 5 दिक्कतें? माता-पिता से लें काउंसलिंग

शादी की बात हो या प्यार की, हम अक्सर अपने मां-पिता की जगह बाकी लोगों के साथ परेशानियों को शेयर करना ज्यादा पसंद करते हैं। जब कि ये सही नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि आपके माता-पिता का अनुभव आपके किसी दोस्त से ज्यादा है और उनके सुझाव आपके लिए लंबे समय तक काम कर सकते हैं। पर आपको पहले ये जानना होगा कि किस प्वाइंट पर जाकर आपको अपने माता-पिता से मदद लेनी चाहिए। क्योंकि अगर आप बात-बात पर भी अपने माता-पिता के पास जाएंगे, तो ये भी शादी में अन्य परेशानियों का सबब बन सकता है। ऐसे में आपको सबसे पहले उन वैवाहिक जीवन की दिक्कतों को समझना होगा, जिसके बारे में आपको अपने माता-पिता से बात करनी चाहिए और उनकी मदद लेनी चाहिए। तो आइए जानते हैं इन्हीं दिक्कतों के (Married Life Problems and solutions) बारे में।

insideproblemsofmarriedlife

1.साथ रहने में परेशानी होना

अक्सर दो लोग जो एक दूसरे से प्यार भी करते क्यों न हो पर शादी की शुरुआत में उन्हें साथ रहने में परेशानी होती है। ऐसे में अगर आप और आपके साथी पहले से ही समस्याओं का सामना कर रहे हैं और उन पर काम नहीं किया है, तो ये दिक्कतें और बढ़ सकती हैं। ऐसे में पहले तो आप दोनों को एडजस्ट करने की कोशिश करनी चाहिए, उसके बाद भी चीजें समझ में न आ रही हों, तो माता-पिता की मदद लेनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि आपके माता-पिता आपको समझा सकते हैं कि एक दूसरे की कमियों और खामियों के साथ भी प्यार से कैसे (Happy Married Life tips) रहा जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : फिर लौट रहा अर्ली मैरिज (कम उम्र में शादी) का दौर, जानिए क्‍या है शादी करने की सही उम्र

2.एक-दूसरे पर दोष देने की आदत

हर एक चीज के लिए एक-दूसरे पर दोष देने से रिश्ते खराब होने लगते हैं। निराशा तब अक्सर और बढ़ जाती है जब आपकी भावनात्मक जरूरतें पूरी नहीं होती हैं। ऐसे में एक रिश्ता खराब होने लगता है। आपके साथी पर उंगली उठाना आसान है पर उन्हें समझना आपको मुश्किल लग सकता है। ऐसे में आपके माता-पिता काउंसलर की तरह काम कर सकते हैं और आपको एक टीम के रूप में एक साथ काम करने में मदद कर सकते हैं। ताकि आप दोनों को पता लग सके कि दो लोग जब एक साथ मेहनत करें, तो रिश्ते बेहतर बनाए दा सकते हैं।

3.बातचीत बंद हो जाने पर

जब आप और आपका साथी आपस में पूर जोर-आजमाइश करने के बाद भी एक-दूसरे से संवाद करने और बात करने में कठिनाई महसूस कर रहे हों, तो समझें कि रिश्ता पूरा खराब हो चुका है। ऐसे में आपको अपने माता-पिता से बात करनी चाहिए और खुद की और पार्टनर गलतियों को समझने की कोशिश करनी चाहिए। ऐसे में आपके माता-पिता आपको साथ में बिठा कर समझा सकते हैं और उन परेशानियों का भी हल बता सकते हैं, जिसके कारण आपकी बातचीत बंद हुई हो।

insideparentshelp

4.एक दूसरे से कनेक्शन खत्म कर लेना

आप अपने साथी से अनबन कर सकते हैं पर अगर आपने उनसे बातचीत बंद कर दी है, तो ये बड़ी समस्या बन सकती है। आप एक साथ रहते हुए अलग रह रहे हैं, तो असल में ये खराब होगी शादी के लक्षण है। ऐसे में सबसे पहले तो आपको एक -दूसरे से बता करनी चाहिए और फिर अपने दोस्तों और माता-पिता की मदद लेनी चाहिए। अगर आप अपने माता-पिता की मदद नहीं लेना चाहते तो आप ऑनलाइन मैरिज काउंसलिंग की मदद ले सकते हैं। आपको अपने साथी को गहरे स्तर पर समझने, सहानुभूति और जानने के लिए सीखने और महसूस करने में मदद करेगी।

इसे भी पढ़ें : म्यूचुअल फंड हो या शेयर्स, पीएफ हो या पेंशन के पेपर, शादी के बाद साथी से शेयर करें ये महत्वपूर्ण बातें

5.अलग होने के बारे में सोचना

दो लोगों के बीच बहुत अंतर होता है इसका मतलब ये नहीं है कि आप एक-दूसरे से अलग हो जाएं। अगर तब भी आप एक-दूसरे को तलाक लेने या अलग होने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको अपने माता-पिता से बात करनी चाहिए। इस फैसले को लेते वक्त बहुत जल्दबाजी न करें और कोशिश करें कि पहले तो एक दूसरे के साथ रह कर देखा जाए और रिश्ता बना कर रखा जाए।

अगर आप और आपका साथी बहुत बार लड़ रहे हैं और एक दूसरे को समझने की कोशिश ही नहीं कर पा रहे हैं, तो आपको एक दूसरे के साथ प्यार से समय बिताना चाहिए। इसके बाद भी चीजें ठीक न हो तो आपको अपने दोस्त और फैमिली से बात करनी चाहिए। वहीं आपको अपने माता-पिता को देख कर सीखना चाहिए कि कैसे असहमतियों के बाद भी दो लोग साथ रह सकते हैं।

Read more articles on Marriage on Hindi

Disclaimer