अचानक से चिंता और अवसाद महसूस होना करता है आपको परेशान? डॉ. स्वाती बाथवाल से जानें इसे कम करने वाले वंडर फूड्स

डॉ. स्वाती बाथवाल की मानें, तो जब आप स्वस्थ भोजन खाते हैं, तो इसका प्रभाव आपके मन पर भी पड़ता है। इससे आप चिंता, दुख और अवसाद को भी कम कर सकते हैं।

Pallavi Kumari
Written by: स्वाती बाथवालPublished at: May 27, 2020Written by: Pallavi Kumari
अचानक से चिंता और अवसाद महसूस होना करता है आपको परेशान? डॉ. स्वाती बाथवाल से जानें इसे कम करने वाले वंडर फूड्स

अचानक से चिंता, दुख और अवसाद महसूस होना खराब होते मानसिक स्वास्थ्य का एक बड़ा संकेत है। दरअसल मस्तिष्क में एक रासायनिक असंतुलन के कारण अवसाद (depresion) होता है। हमारी नसें एक दूसरे से न्यूरोट्रांसमीटर नामक रसायन के माध्यम से संचार करती हैं। स्वस्थ खाद्य पदार्थ हमारे मूड पर एक शक्तिशाली प्रभाव डाल सकते हैं। कभी-कभी चॉकलेट का एक टूकड़ा खाने से हमारा मूड खराब हो सकता है या कुछ लोगों के लिए समोसा या चिप्स का पैकेट खाने से भी मूड ठीक नहीं हो सकता। इस तरह अक्सर भोजन मूड बनाने या बिगाड़ने का काम करते है। तो, आइए हम कुछ ऐसे विशिष्ट खाद्य पदार्थों (foods to reduce depresion) को देखें, जो हमारी चिंता और अवसाद को कम करने में मदद कर सकते हैं। 

insidefoodfordepression

केसर

जब चिंता को नियंत्रित करने की बात आती है तो केसर एक अद्भुत मसाला है। केसर हमारी प्राचीन संस्कृति से इस्तेमाल किया जाने वाला एक मसाला है। यह मसाला तनाव हार्मोन को रिलीज करने में मदद करता है। अगर आपको चिंता हो रही है या मूड खराब है, तो एक गिलास पानी में 2-3 घंटे के लिए थोड़ा सा केसर भिगोएं और एक कप एक दिन में पीएं। साथ ही आप एक कप गर्म पानी के साथ एक कप केसर की चाय भी बना सकते हैं और बादाम को भी ट्रिप्टोफैन में शामिल कर सकते हैं, जो कि हैप्पी होर्मोन को रिलीज करता है।

 इसे भी पढ़ें : 6 संकेत जो बताते हैं कि आप बाहर से खुश हैं मगर अंदर से डिप्रेशन में हैं, जानें संकेत

टमाटर में लाइकोपीन 

टमाटर में लाइकोपीन एक यौगिक है, जो टमाटर को लाल रंग देता है। अगर आप रोजाना टमाटर खाते हैं, तो शोध बताते हैं कि यह एक सप्ताह के भीतर अवसाद की दर को आधा कर सकता है। अगर आपके आहार में फोलेट की मात्रा कम है, तो साग और बीन्स की तरह यह भी अवसाद को ट्रिगर कर सकता है। इसलिए फोलेट से भरपूर साग और बीन्स का उपयोग करें। मुझे पता है कि यह गर्मी के दिन है और साग आसानी से नहीं मिलेंगे, इसलिए कृपया गेहूं घास, मोरिंगा, आंवला पाउडर का उपयोग प्रतिदिन लगभग 1 बड़ा चम्मच पानी के साथ करें या इसे अपने स्मूदी, लस्सी और दही में मिलाकर इसका सेवन करें। 

insidestayhappywithfood

हैप्पी फूड

क्या आपने कभी सोचा है कि जब हम लॉ महसूस होते हैं तो हम कार्बोहाइड्रेट खाने के लिए क्यों तरसते हैं? ऐसा इसलिए है क्योंकि शर्करा सहित कार्बोहाइड्रेट ट्रिप्टोफेन (एक अमीनो एसिड जो मस्तिष्क को हैप्पी हार्मोन पहुंचाता है) परिवहन में मदद करता है। हमारे हैप्पी हार्मोन सेरोटोनिन, अमीनो एसिड ट्रिप्टोफैन की मदद के बिना आपके मस्तिष्क को नहीं मिल सकता है। इसे पाने का सबसे अच्छा तरीका है कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज, चिया के बीज, तरबूज के बीज का सेवन करना।

एंटीऑक्सीडेंट की खुराक

एंटीऑक्सिडेंट जैसे हरी चाय, सेब, अंगूर, लौंग, अजवायन, दालचीनी और जायफल एंटी-इंफ्लेमेटरी के रूप में काम करते हैं और अच्छा महसूस करने में मदद करते हैं। ट्रिप्टोफैन से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे केला, अखरोट और बादाम भी आप अपने खाने में शामिल कर सकते हैं।

insidedepressionnotofriedfood

 इसे भी पढ़ें : डिप्रेशन के मरीजों के लिए रामबाण है मछली का तेल

फ्राइड फूड को कहें ना

खाद्य पदार्थ, जो हमारे खराब मूड का कारण बनते हैं उनमें तले हुए मांस और इससे बने खाद्य पदार्थ हैं, जिनका हमें सेवन करने से बचना चाहिए। वहीं आर्किडोनिक एसिड, जो एक प्रकार का वसा भी है, ये गैर-शाकाहारी भोजन में पाए जाते हैं औ हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते है। साथ ही यह हमारी नसों में सूजन को भी कम करता है। एक अन्य रसायन जो सूची में सबसे ऊपर है, वह एस्पार्टेम या कोई कृत्रिम स्वीटनर है। आर्टिफिशियल स्वीटनर केवल हमारे फ्रिज़ी पेय या शीतल पेय में ही नहीं, बल्कि अनाज, च्युइंग गम, चॉकलेट और मिठाइयों में भी मौजूद होते हैं। इसलिए आर्टिफिशियल स्वीटनर से बचें। इसके अलावा, हमेशा फिट और स्वस्थ रहने के लिए प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ आवश्यक हैं। साथ ही व्यायाम, कुछ योग और प्राणायाम करें। हंसते हुए योग करें और अपने विटामिन डी के स्तर को बढ़ाने के लिए धूप में निकलें।

Read more articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer