टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए 5 वेट लॉस टिप्स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 21, 2017
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • टाइप 2 डायबिटीज़ होने पर शुगर बिल्कल छोड़ दें।
  • डाइट में बदलाव करने में वज़न हो सकता है कम।
  • दवाईयां टाइम पर लें और एक्सरसाइज़ करें।

जिन लोगों का ब्लड शुगर लेवल नॉर्मल से ज़्यादा होता है, उन्हें बहुत ज़्यादा भूख और प्यास लगती है। सिर्फ यही नहीं, वो बिना काम करे भी थकान महसूस करते हैं। उनका मूड कभी भी बदल जाता है। टाइप 2 डायबिटीज़ के ये सारे लक्षण मरीज़ को काफी डिप्रेस कर देते हैं। और-तो-और, इसमें वज़न कम करने में भी बहुत मुश्किल होती है। हालांकि, राहत की बात यह है कि यह नामुमकिन नहीं है। बस इसमें मेहनत बहुत लगती है। इसलिए, आप ब्रेकफास्ट टाइम पर करें, दिन में फिज़िकली एक्टिव रहें, नींद पूरी लें और ये 5 वेट लॉस टिप्स फॉलो करें। इससे आपकी लाइफ बेहतर होगी।

मोटापा कम करने में मददगार है ये एक मामूली सी लकड़ी

1- शुगर बिल्कुल छोड़ दें

अपनी डाइट से शुगर बिल्कुल कट कर दें, जैसे- सोडा, जूस, स्वीट टी, शुगर वाली कॉफी आदि। अगर आपका ये सब पीने का मन कर रहा है, तो इनकी जगह पानी पिएं। शुगर कट करने से आपके ब्लड शुगर लेवल में काफी फर्क पड़ेगा, इंसुलिन की हेवी डोज़ लेने से भी बचेंगे और वेट लॉस में भी मदद मिलेगी।

2- हेल्दी फैट्स खाएं

अगर फैट्स के बिना आपका काम नहीं चलता, तो अपनी डाइट में इन्हें शामिल ज़रूर करें। लेकिन, फैट्स हेल्दी होने चाहिए, जैसे- रियल बटर, एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल और नट्स। इन्हें खाने से ना सिर्फ आपका पेट लंबे समय तक भरा रहेगा, बल्कि बैड कोलेस्ट्रॉल भी कम होगा, बालों में एक्स्ट्रा शाइन आएगी और वेट लॉस में भी मदद मिलेगी।

3- फिज़िकल एक्टिविटी बढ़ाएं

जिन लोगों को टाइप 2 डायबिटीज़ हो, उन्हें दिन में अपनी फिज़िकल एक्टिविटी बढ़ा देनी चाहिए, जैसे- सीढ़ियां ज़्यादा चढ़ना, सैर करना या एक्सरसाइज़ करना। इससे उनका शुगर लेवल भी कम होगा और वज़न कम करने में भी मदद मिलेगी। फिटनेस एक्सपर्ट्स की मानें तो स्ट्रेंथ ट्रेनिंग से भी फायदा हो सकता है।

4- ब्रेकफास्ट स्किप ना करें

कई लोग ब्रेकफास्ट छोड़ देते हैं। उन्हें लगता है कि ब्रेकफास्ट और लंच एक साथ करने से वज़न कम होगा। लेकिन, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। टाइप 2 डायबिटीज़ के मरीज़ों को तो ब्रेकफास्ट कभी भी स्किप नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से इंसान पूरे दिन ज़रूरत से ज़्यादा खाता है। सिर्फ यही नहीं, ब्रेकफास्ट में प्रोटीन और फाइबर ज़रूर होने चाहिए। इससे आप एनर्जेटिक फील करेंगे और मेटाबॉलिज़म भी सुधरेगा।

5- डाइट फूड्स से दूर रहें

लोगों को लगता है कि डाइट फूड्स खाने से उनका वज़न नहीं बढ़ेगा, कैलोरीज़ बॉडी में कम जाएंगी, तो वो गल्ती कर रहे हैं। दरअसल, ये डाइट फूड्स, जैसे- डाइट सोडा, पैकेज्ड स्मूदी, फ्लेवर्ड फैट-फ्री योगर्ट और फ्रूट जूस ही सबसे ज़्यादा अनहेल्दी होते हैं। इसलिए, इनसे बचकर रहें।

 

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Weight Loss In Hindi 

Loading...
Write Comment Read ReviewDisclaimer
Is it Helpful Article?YES1323 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर