Expert

खर्राटों से छुटकारा पाना है तो रोज करें आदि मुद्रा का अभ्यास, जानें तरीका

Yoga Mudra For Snoring: खर्राटों की वजह से सिर्फ आपको ही शर्मिंदा नहीं होना पड़ता है, बल्कि इससे आपके आसपास के लोगों को भी परेशानी होती है।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Jul 05, 2022Updated at: Jul 05, 2022
खर्राटों से छुटकारा पाना है तो रोज करें आदि मुद्रा का अभ्यास, जानें तरीका

सोते समय खर्राटे आना बहुत आम समस्या है। लेकिन इसके कारण हमारे परिवार के सदस्यों या अन्य करीबियों काफी असहजता महसूस हो सकती है। हमारे खर्राटों को कारण दूसरों की नींद भी खराब होती है। इसके कारण हमें कई बार शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ सकता है। बहुत अधिक थकान, स्मोकिंग, शराब पीना, मोटापा, नींद की कमी, तनाव और कई अन्य कारणों की वजह से आपको सोते समय खर्राटों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। खर्राटों से छुटकारा पाने के लिए लोग तरह-तरह के घरेलू नुस्खे आजमाते हैं लेकिन कोई खास फायदा देखने को नहीं मिलता है। योगाचार्य जूही कपूर की मानें तो जीवनशैली की खराब आदतों में बदलाव के साथ ही कुछ सरल व्यायाम करने से खर्राटों की समस्या से काफी हद तक राहत पाने में मदद मिल सकती है। यहां तक कि कुछ योग मुद्राओं का अभ्यास खर्राटों के छुटकारा पाने के लिए बहुत कारगर साबित हो सकता है। ऐसी ही एक योग मुद्रा है आदि मुद्रा। जानें आप इसका अभ्यास कैसे कर सकते हैं।

mudra for snoring

खर्राटों से छुटकारा पाने के लिए कैसे फायदेमंद आदि मुद्रा (Adi Mudra For Snoring)

आदि मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर में एनर्जी आती है। इस मुद्रा को करने से शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बेहतर होती है और फेफड़ों के कार्य करने की क्षमता भी बढ़ती है। आपको इस मुद्रासन को करने से माइंड रिलैक्स लगेगा और नर्वस स‍िस्‍टम भी बेहतर कार्य करेगा, जिससे खर्राटों में काफी राहत मिलती है।

इसे भी पढें: घुटनों को स्वस्थ रखने के लिए करें ये 4 काम, मजबूत होंगे घुटने और दर्द से मिलेगा छुटकारा

कैसे करें अभ्यास

इस मुद्रा को करना आसान है। आपको अंगूठे को छोटी उंगली के बेस पर रखना है और बाकि उंंगल‍ियों से अंगूठे को ढक देना है। इससे एक मुट्ठी बनेगी। अब अपनी उंगलियों को हथेली के साथ स्पर्श करते हुए और हाथों को घुटनो या जांघों पर रखें। अपनी आंखें बंद रखें और इस दौरान सांस लेते और छोड़ते रहें। अभ्यास के दौरान अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और कंधों को आराम दें। मुद्रा की स्थिति को अपने घुटने की कैप पर रखें। अधिकतम परिणाम के लिए कम से कम 10 मिनट लगातार चार सप्ताह तक इसका अभ्यास करें।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Juhi Kapoor (@theyoginiworld)

इसे भी पढें: डिलीवरी के बाद पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्ट योगासन है अर्ध हलासन, जानें करने का तरीका

एक्सपर्ट क्या सलाह देते हैं

आदि मुद्रा का अभ्यास कोई भी कहीं भी कर सकता है। अगर आप इसका नियमित अभ्यास करते हैं, तो इससे सेहत को कई अन्य फायदे भी मिलते हैं। यह आपके पेट को स्वस्थ रखने में मददगार है और अग्नाशय के कार्य को बेहतर बनाता है। लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए इसका अभ्यास बहुत फायदेमंद है। यह मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने में सहायक है। इसके अलावा यह सांस संबंधी रोगों से छुटकारा दिलाने के साथ ही दिल को स्वस्थ रखने में भी मदद करती है। सेहतमंद रहने के लिए आदि मुद्रा को रूटीन का हिस्सा बनाना चाहिए।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer