Doctor Verified

सर्दियों में बढ़ जाता है इन 5 समस्याओं का खतरा, डॉक्टर से जानें बचाव के उपाय

ठंड के मौसम में बीमार‍ियों से बचने के ल‍िए कॉमन प्रॉब्‍लम्‍स और उनसे बचने के उपाय जान लें।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Oct 31, 2022 15:52 IST
सर्दियों में बढ़ जाता है इन 5 समस्याओं का खतरा, डॉक्टर से जानें बचाव के उपाय

ठंड का मौसम दस्‍तक दे चुका है। इस मौसम में शरीर जल्‍दी बीमार‍ियों की चपेट में आ जाता है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे हम ठंड के द‍िनों में सेहत के प्रत‍ि ज्‍यादा लापरवाह हो जाते हैं। लोग ठंड में आलस्‍य के चलते कसरत करना कम कर देते हैं। वहीं डाइट का ख्‍याल न रखने से इम्‍यून‍िटी कमजोर हो जाती है और आप आसानी से बीमार‍ियों की चपेट में आ जाते हैं। जरा सी लापरवाही के कारण बीमार‍ि‍यों का खतरा, ठंड के द‍िनों में दुगना हो जाता है। आइए जानते हैं सर्द‍ियों में आपको सबसे ज्‍यादा क‍िन शारीर‍िक समस्‍याओं का खतरा हो सकता है और इनसे बचने के ल‍िए क्‍या करना चाह‍िए। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

winter diseases

1. रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन

सर्द‍ियों के द‍िनों में ठंडी हवा सीधा रेस्‍प‍िरेटरी ट्रैक्‍ट पर अटैक करती है। इसके कारण नाक बंद होना, नाक बहना, खांसी जैसी समस्‍याएं हो सकती हैं। रेस्‍प‍िरेटरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन के कारण बुखार के साथ सांस लेने की समस्‍या हो सकती है। इसका इलाज करने के ल‍िए डॉक्‍टर से सलाह लें। घरेलू उपायों का इस्‍तेमाल न करें। रेस्‍प‍िरेटरी ट्रैक्‍ट इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए ताजी हवा में सांस लें, योग करें और कसरत को न छोड़ें।

इसे भी पढ़ें- रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने के लिए क्या खाएं? जानें फायदेमंद फूड्स

2. त्‍वचा से जुड़ी समस्‍याएं

ठंड के मौसम में त्‍वचा से जुड़ी समस्‍याएं कॉमन हो जाती हैं। ठंड के कारण त्‍वचा रूखी हो जाती है। त्‍वचा में रूखेपन के कारण, त्‍वचा का ख‍िंचना, रैशेज, रेडनेस आद‍ि समस्‍याएं सकती है। ठंड के द‍िनों में हम पानी का सेवन भी कम करते हैं इसल‍िए भी त्‍वचा शुष्‍क हो जाती है। त्‍वचा को ठंड के द‍िनों में भी मॉश्चराइज करते रहें।

3. जोड़ों में दर्द होना

ठंड के द‍िनों में जोड़ों में दर्द बढ़ सकता है। ठंडी हवा के प्रभाव से मांसपेश‍ियों में कमजोरी महसूस होती है और दर्द बढ़ जाता है। ज‍िन लोगों को अर्थराइट‍िस की श‍िकायत होती है, उन्‍हें इस दौरान खास सावधानी बरतनी चाह‍िए। अपने शरीर को गरम कपड़ों से ढकें और कसरत करना न भूलें। मांसपेश‍ियों में अकड़न के कारण भी ठंड के द‍िनों में मसल्‍स पेन की समस्‍या बढ़ सकती है।

4. सर्दी और जुकाम

ठंड के द‍िनों में हम अक्‍सर सर्दी और जुकाम के श‍िकार हो जाते हैं। कमजोर इम्‍यून‍िटी भी इसका एक कारण हो सकता है। मौसम में बदलाव का असर शरीर पर पड़ता है और कुछ लोग ठंड की चपेट में आ जाते हैं। सर्दी-जुकाम जैसी बीमार‍ियां एक से दूसरे व्‍यक्‍त‍ि में फैलती हैं इसल‍िए इस दौरान खास सावधानी बरतनी चाह‍िए।

5. गले से जुड़ी समस्‍या

सर्द‍ियों के द‍िनों में गले से जुड़ी समस्‍याएं कॉमन हो जाती हैं। वायरल इंफेक्‍शन के कारण गले में सूजन आ जाती है। सूजन के कारण गले में दर्द और खराश महसूस होती है। वायरल इंफेक्‍शन के कारण गले में खराश, सर्दी-जुकाम हो जाता है। इससे बचने के ल‍िए हेल्‍दी डाइट लें और गले में खराश होने पर नमक के पानी से गरारे करें।  

सर्द‍ियों में बीमार‍ियों से कैसे बचें?

  • ठंड के दिनों में वायरल इंफेक्‍शन से बचने के ल‍िए साफ-सफाई पर गौर करें।
  • रोजाना स्‍नान लें और कुछ भी खाने से पहले और बाद में हाथों को अच्‍छी तरह से साफ करें।
  • फ्लू का टीका नहीं ल‍िया है, तो डॉक्‍टर की सलाह पर वैक्‍सीन डोज पूरा करें।
  • मौसमी फल और सब्‍ज‍ियों का सेवन करें।
  • ठंड के द‍िनों में तला-भुना खाना अच्‍छा लगता है लेक‍िन म‍िर्च-मसाले और तेल से दूरी बरतें।
  • शरीर को ठंडी हवा से बचाने के ल‍िए गरम कपड़ों का इस्‍तेमाल करें।
  • इम्‍यून‍िटी मजबूत बनाए रखने के ल‍िए घर के बने ताजे खाने का सेवन करें।

इन ट‍िप्‍स की मदद से आप ठंड के द‍िनों में बीमार‍ियों के खतरे से बच सकते हैं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।

Disclaimer