Coronavirus: विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोरोना वायरस से निपटने के भारत के प्रयासों की तारीफ की है। इस जंग को जीतने का भरोसा भी जताया है।   

"/>

WHO ने कहा- भारतीयों में बेहतर है रोगों से लड़ने की क्षमता, कोरोना वायरस से जरूर जीतेगा भारत!

Coronavirus: विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कोरोना वायरस से निपटने के भारत के प्रयासों की तारीफ की है। इस जंग को जीतने का भरोसा भी जताया है।   

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Apr 03, 2020Updated at: Apr 03, 2020
WHO ने कहा- भारतीयों में बेहतर है रोगों से लड़ने की क्षमता, कोरोना वायरस से जरूर जीतेगा भारत!

Coronavirus Pandemic In India: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कोरोनोवायरस से निपटने के भारत के प्रयासों की प्रशंसा की है। एक खबरिया चैनल को दिए साक्षात्‍कार में WHO के विशेष प्रतिनिधि डॉ डेविड नावरो ने COVID-19 के लिए देश में चल रहे लॉकडाउन को सही ठहराया है। उन्होंने कहा कि, यूरोप और अमेरिका जैसे विकसित देशों ने कोविड-19 को गंभीरता से नहीं लिया, जबकि भारत इससे अच्छी तरह से निपट रहा है। उन्होंने कहा कि गर्म मौसम के चलते भारत के लोगों में बीमारियों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता अच्‍छी होती है। जो उम्‍मीद दिलाती है कि उनका शरीर कोरोना को हरा देगा।

डॉ नवारो ने बैठक में बीसीजी वैक्सीन सहित सभी सवालों के विस्तृत जवाब दिए। डॉ नवारो ने कोरोनोवायरस से लड़ने के लिए मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कड़े कदमों की प्रशंसा की। लॉकडाउन के बारे में लोगों की समस्याओं के बारे में उन्होंने कहा कि यह समस्या जितनी परेशानी होगी, उतनी ही जल्दी सभी लोग मुक्त होंगे।

coronavirus-in-india

कोरोनो वायरस से छुटकारा पाने के लिए भारत के प्रयास

डॉ नवारो ने आग्रह किया कि हमें एक साथ प्रतिस्पर्धा करनी होगी। हमने पहले ऐसे किसी दुश्मन का सामना नहीं किया है। वो कहते हैं, "हम सभी खतरे में हैं। मुझे आज बीमारी नहीं है, लेकिन शायद कल मैं इससे ग्रसित हो सकता हूं। मुझे अपने परिवार और समुदाय को इससे बचाना है। भारत के लोगों को इसे गंभीरता से लेने के लिए धन्यवाद। भारत में एक अद्भुत क्षमता है। कोरोना वायरस एक मूक दुश्मन है और इससे तभी निपटा जा सकता है जब हर कोई इसमें एक साथ खड़ा रहे।"

इसे भी पढ़ें: सरकार ने लांच किया ये नया मोबाइल ऐप, 2 मिनट में बताएगा कोरोना वायरस है या नहीं!

डॉ नवारो की मास्क को लेकर सलाह

संक्रमित लोगों को मास्क का उपयोग करना चाहिए जिससे संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके। संक्रमण वाले लोगों को दूसरों से कम से कम दो मीटर दूर रहना चाहिए। हालांकि, मास्क के उपयोग के साथ, खांसी और छींकने का सही तरीका जानना आवश्यक है। डॉ नवारो ने कहा, "स्वास्थ्य कर्मचारियों को सुरक्षा की सबसे अधिक आवश्यकता है। वे फ्रंटलाइन कार्यकर्ता हैं। मास्क उनके लिए आवश्यक हैं। हालांकि, मैं ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों के मास्क पहनने का समर्थन करता हूं, क्योंकि यह वायरस किसी को भी तेजी से पकड़ता है। मास्क के अलावा, हर किसी को अभी भी रूमाल से अपना मुंह ढंकना चाहिए और फिर तुरंत हाथ धोना चाहिए। यदि इस तरह के किसी समाधान से दूर हैं तो हमेशा पूरी सुरक्षा के लिए एक सैनिटाइज़र को रखें।"

coronavirus-in-india

क्या भारत को कम चिंता करनी चाहिए?

डॉ नवारो ने कहा कि हमें उम्मीद है कि भारत में इस वायरस का प्रभाव दुनिया के अन्य देशों की तुलना में कम है। गर्म जलवायु वाले देश बीमारियों के प्रति अधिक प्रतिरोधी हैं और आशा करते हैं कि COVID-19 ने अन्य देशों की तुलना में यहां अपनी पकड़ खो देगा। उन्होंने कहा, "जहां तक बीसीजी प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण होने वाले संक्रमण से लोगों को बचाने की बात है, मुझे इससे भी मदद मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा, लोगों का आयु वर्ग बीमारी का मुकाबला करने का एक महत्वपूर्ण कारक है।"

इसे भी पढ़ें: कोरोना से ठीक हुए अमित और बिहार की अनीता ने सुनाई अपनी 'ट्रीटमेंट' की कहानी, जनता के लिए कही ये बात

लॉकडाउन के लिए सही तरीके

बीमारी से पूर्ण सुरक्षा के लिए सोशल डिस्‍टेंसिंग, सेल्‍फ आइसोलेधन और लॉकडाउन के सही तरीकों पर डॉ नवारो कहते हैं:

  • आप बीमार महसूस नहीं कर सकते हैं, लेकिन अगर आपको खांसी या छींक आती है, तो आप दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए लोगों से दूरी बनाए रखें।
  • यदि आपको सांस लेने में तकलीफ है, तो अपने आप को अलग कर लें। परिवार के साथ रहते हुए, उन्हें भी अलग-थलग कर दें। कम से कम चौदह दिनों के लिए किसी के संपर्क में न आएं।
  • लॉकडाउन के दौरान अपने समुदाय में एक निगरानी प्रणाली बनाएं। संदिग्धों की पहचान करने का एक तरीका विकसित करें।
  • लॉकडाउन मुश्किल है। गरीब और गरीब हो जाते हैं, खाने और पीने की कीमतों में वृद्धि हो जाती है। लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। लेकिन बीमारी का मुकाबला करना आवश्यक है। अपने व्यवहार को बदलकर हम अपने समुदाय को बीमारी से बचा सकते हैं।

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer