क्‍या आप भी घमौरियों से हैं परेशान? जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

घमौरियां, अक्‍सर गर्मी और बारिश के मौसम में ही परेशान करती है। गर्म और नम मौसम में ही यह पनपती और परेशान करती हैं। हालांकि इससे छुटकारा मिल सकता है। इसके लिए कुछ आसान उपाय हैं। 

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jun 18, 2019
क्‍या आप भी घमौरियों से हैं परेशान? जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

घमौरियां एक ऐसी हैं, जिसमें त्‍वचा पर चुभन महसूस होता है। कई बार इसमें खुजली भी हो सकती है। यह वयस्कों और बच्चों को तब होता है जब आपकी त्‍वचा पर पसीने की वजह से नमी बरकरार रहती है। या कई बार बारिश में भीगने से भी ये हो सकता है। घमौरियों में आपके शरीर पर छोटे-छोटे लाल उभार हो जाते हैं, जिसे आमतौर पर लाल चकत्‍ते कहते हैं। यह सिर, पीठ, गर्दन, हाथों, बगल और जांघों में भी हो सकती है। घमौरियां ज्‍यादातर गर्म और नम स्थितियों की वजह से होता है। 

 

घमौरियों के कारण 

घमौरियां तब होती हैं जब पसीने वाले छिद्र बाधित हो जाते हैं। ऐसे में पसीना वाष्पित होने के बजाए त्‍वचा के नीचे ही रूक जाते हैं, जो त्‍वचा पर सूजन और दाने या लाल चकत्‍ते उत्‍पन्‍न करते हैं। हालांकि, यह स्‍पष्‍ठ तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि पसीने वाले छिद्र क्‍यों बाधित हुए। हालांकि इसके कुछ संभावति कारण हो सकते हैं। जैसे- नवजात शिशु में पसीने वाली नलिकाएं या छिद्र विकसित नहीं होते हैं और वह आसानी से बंद हो सकते हैं, जिससे पसीना त्‍वचा के नीचे ही रूक जाता है और बच्‍चों में घमौरियों का कारण बनता है। 

इसके लिए गर्म मौसम भी जिम्‍मेदार होते हैं। गर्म व नम मौसम में भी घमौरियों की समस्‍या हो सकती है। इसके होने का एक और कारण शारीरिक गतिविधियां भी हैं। कई बार कठिन कसरत, कड़ी मेहनत करने से ज्‍यादा पसीना होने के कारण त्‍वचा पर लाल चकत्‍ते पड़ जाते हैं। इसके अलावा अधिक गर्मी या अत्‍यधिक तापमान के कारण भी घमौरियां हो सकती हैं। किसी बीमारी या आलस्‍य में लंबे समय तक गर्मी में विस्‍तर पर पड़े रहने की वजह से भी घमौरियां होने की संभावना रहती है। 

कई बार गर्म मौसम में रहने वाले लोगों में भी घमौरियां होने की संभावना अधिक होती है। कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां हमेशा गर्मी रहती है। ऐसी जगहों पर रहने वाले लोगों को घमौरियां होने की संभावना भी अधिक रहती है। 

इसे भी पढ़ें: ज्‍यादा तनाव और चिंता करने से हो सकती हैं ये 7 शारीरिक समस्‍याएं, सातवीं है जानलेवा

घमौरियों से बचने के लिए क्‍या करें 

घमौरियों से बचने के लिए सबसे पहले उसके कारणों को समझना होगा। जैसा कि हमने आपको बताया है कि घमौरियां क्‍यों होती हैं। ऐसे में इससे बचाव के लिए निम्‍नलिखित उपाय किए जा सकते हैं। 

  • घमौरियों से बचने के लिए आप हल्‍के, सफेद और कॉटन के कपड़े पहनें। 
  • ज्‍यादा देर गर्मी में न रहें। गर्मी से बचने के लिए कूलर, पंखे और एयरकंडीशन में रहें। 
  • ऐसे कार्य से बचें जिसमें ज्‍यादा पसीना आता हो। हालांकि इसका मतलब यह बिल्‍कुल भी नहीं है कि एक्‍सरसाइज़ नहीं करना। 
  • रोजाना किसी अच्‍छे साबुन से नहाएं। नहाते समय स्‍क्रबर का भी प्रयोग कर सकते हैं। इससे रोमछिद्र खुल जाएंगे। 

घमौरियों का उपचार 

  • शुरूआती स्‍टेज में घमौरियों से बचने के लिए आप घमौरियों वाले पाउडर या कुछ घरेलू नुस्‍खों की मदद ले सकते हैं। 
  • इसके लिए आप ऐलोवेरा जेल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 
  • आप चंदन का लेप लगाकर भी घमौरियों से निजात पा सकते हैं। 
  • मुल्‍तानी मिट्टी में गुलाब जल मिलाकर इसका पेस्‍ट तैयार करें और लगाएं। घमौरियों से राहत मिलेगी। 
  • घमौरियों की चुभन से बचने के लिए बर्फ का भी प्रयोग कर सकते हैं। 
  • अगर घमौरियां ज्‍यादा हैं तो आप किसी त्‍वचा रोग विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं। 
Read More Articles On Other Diseases In Hindi
Disclaimer