शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स की कमी से हो सकती हैं कई समस्याएं, जानें 5 कारण क्यों जरूरी हैं Antioxidants

Antioxidants सिर्फ इम्यूनिटी ही नहीं बढ़ाते, बल्कि ये आपके शरीर में कई अन्य फायदे भी पहुंचाते हैं। आइए जानते हैं शरीर के लिए इनके खास फायदे।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Dec 18, 2020 13:52 IST
शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स की कमी से हो सकती हैं कई समस्याएं, जानें 5 कारण क्यों जरूरी हैं Antioxidants

कोरोनावायरस के संक्रमण से बचे रहने के लिए अब पूरी दुनिया का ध्यान इम्यूनिटी बढ़ाने पर है। ऐसे में  कुछ इम्यूनिटी बूस्टर चीजों की लिस्ट में एक नाम एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants)से भरपूर खाद्य पदार्थों का भी आता है। पर क्या आप जानते हैं कि असल में एंटीऑक्सीडेंट्स क्या हैं (What are Antioxidants) और ये इम्यूनिटी कैसे बढ़ा सकते हैं? दरअसल, एंटीऑक्सीडेंट मानव शरीर की कोशिकाओं में नुकसानदेह फाइन रेडिकल्स को बनने से रोकते हैं।  ये फाइन रेडिकल्स, जिन्हें हम मुक्त कण भी कहते हैं, ये एक प्रकार के इलेक्ट्रॉन होते हैं, जो कि ऑक्सीडेटिव तनाव पैदा करते हैं और शरीर में हेल्दी सेल्स को बीमार करते हैं। सेल्स का बीमार होना, शरीर के कई अंगों को धीमे-धीमे प्रभावित करने लगता है और इससे इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है और आप किसी भी कारण से तुरंत बीमार पड़ सकते हैं। एंटीऑक्सीडेंट इस तरह से सेल डैमेज को रोकते हैं और आपको लंबे समय तक स्वस्थ रहने में मदद करते हैं।

insideantioxidants

क्यों जरूरी हैं शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स- what antioxidants do for us?

शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स कई कारणों से जरूरी होते हैं। इसमें विटामिन, खनिज, एंजाइम और कई प्राकृतिक उत्पाद शामिल होते हैं। जैसे कि विटामिन ए, सी, ई, जिंक, आयरन और सेलेनियम आदि। एंटीऑक्सीडेंट के ये गुण कई तरह के रोगों का इलाज करने का काम करते हैं। वो कैसे आइए जानते हैं विस्तार से

1. फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाते हैं

एंटीऑक्सीडेंट कुछ खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं और मुक्त कणों को बेअसर करके इन नुकसानों से शरीर को बचाते हैं। जैसे कि 

  • -फ्री रेडिकल्स सेल्स को डैमेज करने से
  • - ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से
  • -शरीर में टॉक्सिंस के बढ़ने से
  • -कैमिकल रिएक्सशन से
  • -रेडिएशन के हानिकारक प्रभाव से
insidefunctionofantioxidants

इसे भी पढ़ें : सर्दियों में जरूर खाएं इम्यूनिटी बढ़ाने वाले ये 3 खास लड्डू, जानें रेसिपी

2.सूजन को रोकते हैं एंटीऑक्सीडेंट

एंटीऑक्सीडेंट सेल्स में हो रहे सूजन को रोकने का काम करते हैं और इससे जोड़ों के दर्द की समस्या में कमी आती है। साथ ही ये आंखों के सेल्स को भी स्वस्थ रखते हैं, ताकि उम्र बढ़ने के साथ भी हमारी आंखें कमजोर न हो।

3.मस्तिष्क में होने वाली नुकसानों से बचाते हैं

आपने कई बार सुना होगा कि लोगों को पार्किंसंस या अल्जाइमर रोग हो जाते हैं, जिसके उनमें ऑक्सीडेटिव तनाव बढ़ जाता है और न्यूरोलॉजिकल फंक्शन डिस्टर्ब हो जाता है। ऐसे में व्यक्ति का दिमाग सही से काम नहीं करता है और वो सब भूलने लगता है। इस परेशानी से आपको एंटीऑक्सीडेंट्स बचा सकते हैं। ये ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकते हैं और आपके मस्तिष्क को स्वस्थ रखते हैं।

4. कोरोनरी हृदय रोग के खतरे को कम करता है

कोरोनरी हृदय रोग आमतौर पर खराब कोलेस्ट्रॉल के कारण होता है। ऐसे में आप एंटीऑक्सीडेंट फूड्स को खा कर खराब कोलेस्ट्रॉल के असर को बेअसर कर सकते हैं। दरअसल, कोरोनरी हृदय रोग का खतरा तब बढ़ जाता है, जब  फ्री रेडिकल्स कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (एलडीएल) कोलेस्ट्रॉल को धमनी की दीवारों से चिपके रहने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इससे धमनी (आर्टरीज) में खून के जाने का रास्ता ब्लॉक हो जाता है और जब ये स्थिति बहुत ज्यादा बढ़ जाती है, तो हार्ट अटैक यानी कि दिल का दौरा पड़ जाता है।

इसे भी पढ़ें : Black Tea Benefits: काली चाय पीने से भी बेहतर होती है इम्यूनिटी, एक्सपर्ट से जानें इसके सभी फायदे और नुकसान

5. उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है

उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में आपके शरीर में कई बदलाव नजर आने लगते हैं। जैसे कि आपके शरीर में मेटाबोलिज्म धीमा होने लगता है, चीजें भूल जाते हैं आप और स्किन पर झुर्रियां आने लगती हैं। ऐसे में एंटीऑक्सीडेंट आपके सेल्स को अंदर से विकसित और पोषित करते हैं और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके आपके शरीर में  उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करते हैं।

तो, आपको अगर शरीर को स्वस्थ रखना है, तो आपको  एंटीऑक्सीडेंट्स को अपने जीवन में शामिल करना होगा। इसे शामिल करने का सबसे अच्छा तरीका है अपने डाइट में  एंटीऑक्सीडेंट फूड्स (Healthy Foods High in Antioxidants) को शामिल करें। इसके लिए टमाटर, नींबू,स्ट्रॉबेरी, सूखे मेवे, ब्रोकली, लहसुन और मछली आदि को एक सही और भरपूर मात्रा में खाएं। 

Read more articles on Other-Diseases in Hindi

Disclaimer