वजाइना (योनि) में गीलापन महसूस होने के हो सकते हैं कई कारण, डॉक्टर से समझें पूरी बात

Vaginal Wetness Reasons : महिलाओं में वजाइना गीली रहना एक सामान्य समस्या है, लेकिन कई बार दूसरी समस्याओं के कारण हाेता है। जानें इनके बारे में-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Jul 26, 2021 10:32 IST
वजाइना (योनि) में गीलापन महसूस होने के हो सकते हैं कई कारण, डॉक्टर से समझें पूरी बात

क्या आपकी वजाइना भी गीली रहती है? महिलाओं में वजाइना का गीला रहना सामान्य बात है, लेकिन कई बार यह समस्या उन्हें परेशान कर देती है। हमेशा वजाइना के गीले रहने के पीछे कई कारण हाे सकते हैं, इसलिए आपकाे इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। 

दरअसल, वजाइना के रूखेपन या सूखेपन से महिलाओं काे कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसलिए कहा जाता है कि वजाइना गीली रहनी चाहिए, लेकिन हमेशा गीली रहना भी ठीक नहीं है। लगातार वजाइना के गीले रहने की स्थिति में डॉक्टर आपकाे डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करना चाहिए। अगर वजाइना गीली न हाे, ताे महिलाओं काे शारीरिक संबंध बनाने में कठिनाई हाे सकती है। याेनि की दीवाराें के अंदर काेशिकाएं एक तरल पदार्थ का निर्माण करती है, जिससे याेनि गीली रहती है। अगर यह बहुत अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का निर्माण करती है, ताे यह किसी संक्रमण का लक्षण या संकेत हाे सकता है। स्त्री राेग विशेषज्ञ शिल्पा घाेष से जानें इसके बारे में-

vagina

1. पीरियड्स के दौरान 

 जब शारीरिक संबंध बनाने के दौरान याेनि द्रव का उत्पादन अधिक मात्रा में हाेता है, ताे पीरियड्स के कारण भी याेनि में गीलापन महसूस हाे सकता है। इसके साथ ही पीरियड्स में बदलाब हाेने पर हॉर्माेन लेवल प्रभावित हाेता है, जिससे मासिक धर्म च्रक के दौरान वजाइना गीली रहती है। साथ ही यह मासिक धर्म के शुरुआत या आखिर में भी हाे सकता है।

इसे भी पढ़ें - बिना प्रेगनेंसी के ब्रेस्ट से दूध (सफेद पानी) निकलना हो सकता है कई रोगों का संकेत, जानें इनके बारे में

2. एस्ट्राेजन का स्तर बढ़ना

शरीर में एस्ट्राेजन हॉर्माेन का स्तर बढ़ने पर भी याेनि में अधिक गीलापन महसूस हाे सकता है। यह तरल पदार्थ यानी याेनि स्त्राव चिपचिपा हाेता है। अगर आपकाे लंबे समय तक यह समस्या रहे ताे इस स्थिति में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

vagina 

3. याेनि में सूजन आने पर

जब याेनि की परत में सूजन आ जाती है, ताे इसे डिक्वामेटिव वेजिनाइटिस कहा जाता है। इस स्थिति में महिलाओं काे पीले रंग का याेनि स्त्राव हाेता है। कुछ महिलाएं इस समस्या से काफी परेशान रहती हैं। यह पीले रंग का वजाइनल डिस्चार्ज चिपचिपा हाेता है और इसमें गंध नहीं हाेती है। इस स्थिति में महिलाओं काे जलन भी नहीं हाेती है, यह सामान्य हाेता है लेकिन धीरे-धीरे यह समस्या असामान्य हाे सकती है।  

इसे भी पढ़ें - बारिश में ज्यादा होती है वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) की समस्या, जानें इससे बचाव के लिए 5 टिप्स

4. पेल्विक कंजेशन सिंड्राेम 

अगर आपकी वजाइना में हमेशा गीलापन रहता है, ताे हाे सकता है कि आप पेल्विक कंजेशन सिंड्राेम की शिकार हाे। इसमें महिलाओं काे अकसर याेनि स्त्राव हाेता है। इतना ही नहीं पेल्विक कंजेशन सिंड्राेम की वजह से मासिक धर्म भी अनियमित हाे सकते हैं। इसमें याेनि में दर्द भी हाे सकता है।

अगर लंबे समय तक आपकाे यह समस्या हाे या आपकाे याेनि स्त्राव में जलन या गंध महसूस हाे, ताे तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें और जरूरी जांच करवाएं।

Read More Articles on Womens Health in Hindi

 
Disclaimer