Doctor Verified

बच्चों में टाइफाइड होने पर दिखते हैं ये लक्षण, जानें कैसे करें बचाव

Typhoid Symptoms in Kids: बच्चों में टाइफाइड या मियादी बुखार के लक्षण दिखते ही इलाज जरूर कराना चाहिए, जानें बच्चों में टाइफाइड के लक्षण।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 04, 2022Updated at: Jul 04, 2022
बच्चों में टाइफाइड होने पर दिखते हैं ये लक्षण, जानें कैसे करें बचाव

Typhoid Symptoms in Children: टाइफाइड को मियादी बुखार और मोतीझरा के नाम से भी जाना जाता है। टाइफाइड एक बैक्टीरियल इन्फेक्शन है, जो बैक्टीरिया से युक्त प्रदूषित पानी पीने या भोजन का सेवन करने से होता है। बच्चों में टाइफाइड बुखार बहुत खतरनाक माना जाता है क्योंकि सही समय पर इसका इलाज न मिलने से स्थिति गंभीर हो सकती है। छोटे बच्चों की इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण उनमें बैक्टीरियल इन्फेक्शन का खतरा ज्यादा रहता है। बच्चों को टाइफाइड होने पर ज्यादातर पेरेंट्स यह समझ नहीं पाते हैं कि उन्हें क्या समस्या हो रही है। इसलिए बच्चों में टाइफाइड के लक्षण के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है।

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण (Typhoid Symptoms in Kids in Hindi)

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण इन्फेक्शन होने के एक या दो हफ्ते के भीतर दिखने शुरू होते हैं। एससीपीएम हॉस्पिटल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ शेख जफर के मुताबिक शुरुआत में टाइफाइड के लक्षण हल्के हो सकते हैं, लेकिन जैसे यह समस्या बढ़ती  ही लक्षण भी गंभीर होने लगते हैं। बच्चों में टाइफाइड के लक्षण चार हफ्ते या उससे ज्यादा समय के लिए बने रह सकते हैं। आमतौर पर बच्चों में टाइफाइड होने पर ये लक्षण दिखाई दे सकते हैं-

Typhoid Symptoms in Kids

इसे भी पढ़ें: बच्चों में प्रोटीन की कमी से कौन से रोग हो सकते हैं? जानें क्या खिलाकर करें ये कमी पूरी

तेज बुखार- बच्चों में टाइफाइड होने पर शुरुआत में हल्का बुखार होता है, लेकिन धीरे-धीरे मरीज को 100.4 डिग्री फारेनहाइट का बुखार हो सकता है।

भूख न लगना- बच्चों में टाइफाइड होने पर भूख नहीं लगती है। इसकी वजह से बच्चा दूध पीना या खाना बंद कर देता है।

गले में खराश- टाइफाइड होने पर दिखने वाले आम लक्षणों में से एक गले में खराश होना भी है।

वजन कम होना- बच्चों में टाइफाइड की समस्या गंभीर होने पर उनका वजन तेजी से घट सकता है।

पेट खराब होना- टाइफाइड होने पर बच्चे का पेट खराब हो सकता है। इसके अलावा पेट में तेज दर्द हो सकता है।

लगातार खांसी- टाइफाइड इन्फेक्शन होने पर बच्चे को गंभीर रूप से खांसी की समस्या हो सकती है।

स्किन पर रैशेज- टाइफाइड होने पर बच्चे के स्किन पर रैशेज हो सकते हैं और गुलाबी धब्बे दिख सकते हैं।

टाइफाइड से बचाव के टिप्स (Typhoid Prevention Tips in Hindi)

बच्चों में टाइफाइड होने पर इलाज के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। बच्चों को टाइफाइड से बचाने के लिए आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

  • बच्चों को साफ या उबला हुआ पानी पीने को दें।
  • खाना पकाने में साफ पानी का इस्तेमाल करें।
  • अपना और बच्चे का हाथ समय-समय साफ करें।
  • बच्चे को बाहर का खाना न दें।
  • स्ट्रीट फूड्स खिलाने से बचें।
  • अधपका या कच्चा फल न खिलाएं।

बच्चों में टाइफाइड के लक्षण दिखते ही आपको डॉक्टर की सलाह लेकर जांच करानी चाहिए। जांच के बाद ऊपर बताई गयी बातों का ध्यान रखने और सही इलाज लेने से टाइफाइड से आसानी से निपटा जा सकता है।

(Image Courtesy: Freepik.com)

Disclaimer