मस्तिष्क में रक्त प्रवाह (ब्लड सर्कुलेशन) बढ़ाने के 5 आसान तरीके, जो दूर करेंगे रोजमर्रा की कई समस्याएं

कुछ आसान ट‍िप्‍स की मदद से आप अपने द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ा सकते हैं ज‍िससे मस्‍त‍िष्‍क ठीक तरह से काम कर सके 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Aug 05, 2021Updated at: Aug 05, 2021
मस्तिष्क में रक्त प्रवाह (ब्लड सर्कुलेशन) बढ़ाने के 5 आसान तरीके, जो दूर करेंगे रोजमर्रा की कई समस्याएं

द‍िमाग में ब्‍लड फ्लो कम होने के क्‍या लक्षण हैं? अगर आपको खाना गुटकने में परेशानी हो, बैलेंस करने में द‍िक्‍कत हो, बोलने में आप लड़खड़ा रहे हों या मांसपेश‍ियों में कमजोरी, शरीर के अंग सुन्‍न होना, द‍िमाग में कन्‍फ्यूजन, आंखों की रौशनी कम होना आद‍ि ये लक्षण बताते हैं क‍ि आपके मस्‍तिष्‍क में ब्‍लड फ्लो कम हो रहा है। अगर आपको ये लक्षण नजर आएं तो तुरंत डॉक्‍टर के पास जाएं। ये लक्षण समय के साथ गंभीर हो सकते हैं। हमारे द‍िमाग को ठीक तरह से काम करने के ल‍िए ऑक्‍सीजन की जरूरत होती है और ऑक्‍सीजन की सप्‍लाई ब्‍लड के जर‍िए होती है, अगर ब्‍लड फ्लो अच्‍छा होगा तो आपका द‍िमाग बेहतर तरह से काम कर सकेगा। इस लेख में हम द‍िमाग में ब्‍लड फ्लो बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

try meditation

द‍िमाग का ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के आसान तरीके (Ways to increase blood circulation in brain)

इन 5 आसान तरीकों से आप द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर कर सकते हैं पर इन तरीकों को रोजाना अपनाने से ही लाभ म‍िलेगा-

1. मेड‍िटेशन करें (Meditation)

अगर आप द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाना चाहते हैं तो आपको मेड‍िटेट करना चाह‍िए। मेड‍िटेशन से ब्‍लड में ऑक्‍सीजन की मात्रा बढ़ती है और द‍िमाग ठीक ढंग से काम करता है। 

2. ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज करें (Breathing exercise)

मेड‍िटेशन के अलावा आपको रोजाना ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज करनी चाह‍िए। ब्रीथ‍िंग एक्‍सरसाइज से गर्दन, शोल्‍डर, चेस्‍ट की मसल्‍स र‍िलैक्‍स होती हैं, इससे ब्‍लड फ्लो ठीक हो जाता है। ब्रीथिंग एक्‍सरसाइज करने के ल‍िए सुबह का समय अच्‍छा होता है क्‍योंक‍ि उस समय हवा ताजी होती है। 

3. स्‍मोक‍िंग छोड़ दें (Quit smoking)

द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के ल‍िए आपको धूम्रपान पूरी तरह से छोड़ देना चाह‍िए। धूम्रपान के नुकसान की बात करें तो स्‍मोक‍िंग से द‍िमाग तक जाने वाले ब्‍लड फ्लो पर असर पड़ता है। जो लोग धूम्रपान करते हैं उनके द‍िमाग तक पहुंचने वाला ऑक्‍सीजन का स्‍तर धीरे-धीरे ग‍िरने लगता है। 

4. रोजाना कसरत करें (Exercise daily)

आपको हर द‍िन कसरत करनी चाह‍िए। द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर रखने के ल‍िए कसरत के फायदे अनेक हैं। कसरत करने से शरीर में ऑक्‍सीजन की मात्रा बढ़ती है, ब्‍लड फ्लो बेहतर होता है। अगर आप कसरत नहीं करना चाहते तो आप स्‍व‍िम‍िंग, साइक‍िल चला सकते हैं, डांस करना भी एक अच्‍छा ऑप्‍शन है। आपको एरोब‍िक्‍स भी करना चाह‍िए उससे हार्ट रेट बढ़ता है। 

5. वॉक करें (Walk)

मस्‍त‍िष्‍क तक ब्‍लड सप्‍लाई बेहतर रखने के ल‍िए आपको रोजाना चलना चाह‍िए। अगर आप छोटे-छोटे कदम भी लेंगे तो आपके ल‍िए फायदेमंद होगा। आप द‍िन में 3 से 5 म‍िनट भी वॉक कर सकते हैं। वॉक करने के फायदे कई हैं ज‍िनमें से एक है शरीर का ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर होना। आपको वाहन का इस्‍तेमाल करने के बजाय वॉक करनी चाह‍िए इसके अलावा ल‍िफ्ट के बजाय सीढ़ी का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए।

इसे भी पढ़ें- ये 3 गेम्स बनाते हैं दिमाग को तेज और याददाश्त को बेहतर, एक्सपर्ट से जानें इन्हें खेलना कैसे है फायदेमंद

मस्‍त‍िष्‍क में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के ल‍िए क्‍या खाएं? (Food that increase blood circulation in brain)

eat berries 

  • आपको द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के ल‍िए फ्लेवोनॉयड्स का सेवन करना चाह‍िए, इससे ब्‍लड सर्कुलेशन अच्‍छा होता है। 
  • फ्लेवोनॉयड्स बेरीज़, डॉर्क चॉकलेट, अंगूर, एप्‍पल आदि में पाया जाता है। 
  • ब्‍लूबेरीज़ खाने से द‍िमाग को ऑक्‍सीडेट‍िव स्‍ट्रेस से राहत म‍िलती है। 
  • द‍िमाग की सेहत के ल‍िए आप बेरीज़ को ताजा, ड्राइड या फ्रोजन फॉर्म में खा सकते हैं। 
  • फ्लेवोनॉयड्स का सेवन करते समय आपको कैलोरीज नहीं बढ़ानी है इस बात का भी ध्‍यान रखें। 
  • द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के ल‍िए आपको चुकंदर के जूस को पीने के फायदे भूलना नहीं चाह‍िए।
  • चुकंदर में नाइट्रेट की मात्रा होती है जो मस्‍तिष्‍क में खून की मात्रा बढ़ाने का काम करता है। 
  • चुकंदर को आप सलाद के फॉर्म में भी खा सकते हैं या चुकंदर का ताजा जूस भी फायदेमंद होता है। 
  • चुकंदर के अलावा नाइट्रेट हरी पत्‍तेदार सब्‍ज‍ियों में भी पाया जाता है जैसे पत्‍तागोभी। 

द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ाने के ल‍िए नट्स फायदेमंद हैं? (Nuts are beneficial to increase blood circulation in brain)

eat nuts

जी हां, अगर आप अपनी डाइट में नट्स को शाम‍िल करें तो द‍िमाग में ब्‍लड सर्कुलेशन की मात्रा बढ़ेगी। हमारा द‍िमाग शरीर के कुल ऑक्‍सीजन का 20 प्रत‍िशत इस्‍तेमाल करता है जबक‍ि उसका भार शरीर के दो प्रत‍िशत से भी कम है। हमारे शरीर में ब्‍लड के जर‍िए ऑक्‍सीजन अलग-अलग अंगों तक पहुंचती है इसल‍िए ये जरूरी है क‍ि ब्‍लड फ्लो आपके ब्रेन तक सही ढंग से पहुंचें। आप अपने द‍िमाग में ब्‍लड का फ्लो बेहतर कर सकते हैं। इसके ल‍िए आप हेल्‍दी डाइट की मदद भी ले सकते हैं। जैसे-

  • नट्स का सेवन करने से द‍िमाग को सालों तक हेल्‍दी रखा जा सकता है। 
  • आपको अपनी डाइट में अखरोट, बादाम, काजू को शाम‍िल करना चाह‍िए। 
  • नट्स में व‍िटाम‍िन ई की भरपूर मात्रा होती है ज‍िससे द‍िमाग की कार्य क्षमता बढ़ती है। 
  • आप नट्स को कच्‍चा या रोस्‍ट करके दोनों तरीकों से खा सकते हैं, हर तरह से नट्स के फायदे अनेक हैं। 
  • नट्स के अलावा आपको एवोकाडो का सेवन भी करना चाह‍िए, एवोकाडो के फायदे की बात करें तो इसमें मोनोसैचुरेटेड फैट होता है ज‍िससे बैड कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा कम होती है और ब्‍लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। 

इसे भी पढ़ें- हेल्दी और एक्टिव ब्रेन के लिए डाइट में शामिल करें ये 7 फूड्स

स्‍ट्रेच‍िंग के जर‍िए बढ़ा सकते हैं ब्‍लड फ्लो (Streching helps to increase blood circulation in brain)

practice streching

स्‍ट्रेच‍िंग हमारी बॉडी के ल‍िए फायदेमंद मानी जाती है। स्‍ट्रेच‍िंग से ब्‍लड सर्कुलेशन न स‍िर्फ मस्‍त‍िष्‍क बल्‍क‍ि पूरी बॉडी में बेहतर होता है। आपको हर द‍िन लेग्‍स, हैंड्स, शोल्‍डर, नेक स्‍ट्रेचिंग करनी चाहि‍ए। आपको सीधा खड़ा होकर अपने पैरों को हाथों से छूना चाह‍िए, इससे भी द‍िमाग में ब्‍लड फ्लो बेहतर होता है। स्‍ट्रेच‍िंग करते समय आपको इस बात का ध्‍यान रखना है क‍ि आपकी कमर या पीठ में झटका न लगे। स्‍ट्रेच‍िंग के दौरान आपको गहरी सांस भी लेनी चाह‍िए। इससे ऑक्‍सीजन आपके शरीर की ब्‍लड वैसल्‍स में तेजी से जाएगी और ब्‍लड का फ्लो बेहतर करेगी।

इन तरीकों से आप मस्‍त‍िष्‍क में ब्‍लड फ्लो को बेहतर कर सकते हैं पर अगर आपको द‍िमाग से जुड़ी कोई समस्‍या का सामना करना पड़ रहा है तो बि‍ना समय लगाए अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

Read more on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer