खराब से खराब डाइजेशन को 2 दिन में सुधार देती हैं ये 5 आयुर्वेदिक औषधियां, बस ध्‍यान रखें ये एक बात

अगर आप अपने खराब डाइजेशन से परेशान हैं तो यहां हम आपको कुछ आयुर्वेदिक नुस्‍खों के बारे में विस्‍तार से बता रहे हैं, जो आपकी मदद करेंगे।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: May 01, 2020
खराब से खराब डाइजेशन को 2 दिन में सुधार देती हैं ये 5 आयुर्वेदिक औषधियां, बस ध्‍यान रखें ये एक बात

डाइजेशन (Digestion) खराब होने का पता तब चलता है जब हमें अपच, खट्टी डकार और बदहजमी की शिकायत होती है। इस अवस्‍था को अंग्रेजी में इनडाइजेशन (Indigestion) कहते हैं। इस दौरान आपको पेट दर्द, गैस, पेट फूलना, आपके मुंह में एक अम्‍लीय स्‍वाद आना, आपके पेट के ऊपरी हिस्‍से में जलन, मतली और उल्‍टी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इस प्रकार की समस्‍याएं गर्मियों के दिनों ज्‍यादा देखने को मिलती है। 

ग्रेटर नोएडा स्थित कैलाश नेचुरोपैथी हॉस्पिटल के चिकित्‍सा प्रभारी डॉक्‍टर उमाशंकर शर्मा का कहना है क‍ि, खराब डाइजेशन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे फास्‍ट फूड का अत्‍यधिक सेवन, कोल्‍ड ड्रिंक्‍स, अल्‍कोहल, स्‍मोकिंग और तैलीय भोजन आदि। हालांकि, इनडाइजेशन का कारण अल्‍सर जैसी कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं, जिसके लिए आपको डॉक्‍टर से परामर्श लेने की आवश्‍यकता है। अगर आपका डाइजेशन खराब होने की वजह आपका खानपान है तो इसे आप कुछ आयुर्वेदिक घरेलू उपचार की मदद से ठीक कर सकते हैं, जिसके बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं। लेकिन उससे पहले आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि डाइजेशन है क्‍या? 

intestine

डाइजेशन क्‍या है: What is digestion?

वेब एमडी के अनुसार, डाइजेशन का तात्‍पर्य हमारी पाचन क्रिया से है, जिसमें हमारा शरीर भोजन को पोषक तत्‍वों में बदलने का काम करता है, जिसका उपयोग हमारा शरीर उर्जा, विकास और कोशिकाओं की मरम्‍मत के लिए करता है। पाचन क्रिया का मुख्‍य कार्य शरीर में मौजूद पाचन तंत्र (जठरांत्र संबंधी मार्ग) करता है। जो मुंह से शुरू होकर गुदा पर समाप्‍त होता है। यह मांसपेशियों की एक चेन (श्रृंखला) से बना है जो भोजन और अन्य कोशिकाओं के कार्यों का समायोजन (Coordinate) करता है, जो भोजन को तोड़ने के लिए एंजाइम और हार्मोन बनाते हैं। पूरे पाचन तंत्र के अंतर्गत तीन अन्य अंग हैं जो पाचन के लिए आवश्यक हैं: लिवर (यकृत), पित्ताशय की थैली, और अग्न्याशय।

डाइजेशन सुधारने के आयुर्वेदिक उपचार: Ayuvedic Ways To Improve Your Digestion

1. धनिया पाउडर और सोंठ

दो चम्‍मच धनिया पाउडर और आधा चम्‍मच सोंठ को दो ग्‍लास पानी में अच्‍छी तरह से उबाल लें। जब ये पूरी तरह से पककर काढ़ा का रूप ले ले तब आप इसे ठंडा कर लें। इस काढ़े को 4-4 चम्‍मच तीनों टाइम लें। आपका खराब डाइजेशन सुधर जाएगा।

इसे भी पढ़ें: पथरी, लिवर का बढ़ना और माइग्रेन जैसे 20 रोगों का नाश करती है 'कटेरी', जानिए उपचार विधि

2. सोंठ और सौंफ 

जब भी आपका डाइजेशन खराब हो आप एक चौथाई चम्‍मच सोंठ, एक चम्‍मच सौंफ और उसमें आधा चम्‍मच मिश्री के दाने मिलाकर सुबह, दोपहर और शाम को खाएं। इसे चबा चबाकर खाएं। इससे आपकी पाचन क्रिया दुरुस्‍त रहेगी।

ayurveda

3. हरड़

डाइजेशन खराब होने पर आधा चम्‍मच हरड़ का चूर्ण शहद के साथ लें। इससे जरूर आपका डाइजेशन ठीक होगा। इस औषधि का आप विशेषज्ञ की सलाह पर नियमित रूप से भी सेवन कर सकते हैं। 

4. बड़ी इलायची

अगर आपके घर में बड़ी इलायची उपलब्‍ध है तो इसे पीसकर पाउडर बना लें। आधा चम्‍मच बड़ी इलाचयी पाउडर और आधा चम्‍मच मिश्री के साथ लें। इससे आपका डाइजेशन इंप्रूव होगा।

इसे भी पढ़ें: संक्रमण से बचने के लिए आयुष मंत्रालय की सलाह- इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए पीएं हर्बल काढ़ा, जानिए बनाने का तरीका

5. जायफल और नीबू का रस 

आप रोजाना 2 चम्‍मच नीबू के रस में 3 चुटकी जायफल का पाउडर मिक्‍स कर के पी सकते हैं। जायफल औषधीय गुणों से युक्‍त है, यह अनिद्रा में भी राहत पहुंचाता है।

यह लेख कैलाश नेचुरोपैथी हॉस्पिटल, ग्रेटर नोएडा के चिकित्‍सा प्रभारी डॉक्‍टर उमाशंकर शर्मा से हुई बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles On Ayurveda In Hindi

Disclaimer