Motivational Tips: रोज सुबह खुद से कहें ये 9 बातें, कभी नहीं आएगी आपके मन में निराशा

अच्छा सोचेंगे तो अच्छा ही आउटकम बाहर आएगा। यही आपकी खुशी का पैमाना है। खुद से अच्छी बातें करें तो आप हर रोज संतुलित माइंडसेट में रहेंगे। 

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiUpdated at: Aug 02, 2021 10:27 IST
Motivational Tips: रोज सुबह खुद से कहें ये 9 बातें, कभी नहीं आएगी आपके मन में निराशा

जिंदगी एक रोलर कोस्टर है, जहां कभी खुशी तो कभी गम है। हर दिन एक जैसा रहे यह जरूरी नहीं। निराशा, फ्रस्ट्रेशन, गुस्सा, झुंझलाहट जो भी नकारात्मक विचार होते हैं, इनसे हमारे मन की शांति जाती है साथ ही हमारा शरीर बीमार पड़ता है। आप जिसको प्यार करते हैं उससे दूरी होने पर आपको कई तरह के उतार चढ़ाव से गुजरना पड़ता है। लेकिन एक इंसान होने के नाते आप खुद के साथ ज्यादती भी नहीं कर सकते। ऐसे में अगर आपको खुश रहना है तो रोज सुबह खुद से ये 8 बातें कहें, आपका दिन निराशा से दूर रहेगा। साथ ही आपके नेगेटिव इमोशन आपसे दूर होंगे और प्रोडक्टिविटी व क्रिएटिविटी बढ़ेगी। तो आइए जानते हैं वे 8 बातें कौन सी हैं।

Inside1_motivationaltips

1. खुश रहें

जब आप परेशानी में होते हैं ऐसे में कोई आपसे कहे कि आप खुश रहे हैं तो शायद आपको उस इंसान पर गुस्सा आएगा। क्योंकि आप उस समय दुख में हैं। लेकिन अब्राहम लिंकन ने कहा था आपका मन अगर खुश है तो आप खुश हैं। खुशी भीतर से आती है बाहर से नहीं। ऐसा मैंने भी महसूस किया है कि जब हम दुख के इमोशन्स को बढ़ावा देते हैं तो वे उतने ही बढ़ते हैं। तो इससे बेहतर है कि खुद को खुश करने की कोशिश करें। तो आज आप खुद से ये वादा करें कि आप आज खुश रहेंगे। 

2. अपनी बॉडी की देखभाल करें

आप खुद से रोज ये कहें कि आप आज अपनी बॉडी की देखभाल करेंगे। आप एक्सरसाइ करेंगे। खुद को गिफ्ट देंगे। अच्छी डाइट लेंगे। खुद के साथ जबरदस्ती नहीं करेंगे। डेल कार्नेगी की किताब हाउ टू स्टॉप वरिंग ऐंड स्टार्ट लिविंग में लिखा है कि जब आप खुद के शरीर की केयर करते हैं तो आप अपने लिए, परिवार के लिए एक बेहतर इंसान बन पाते हैं। अपनी खुशियों की जिम्मेदारी आप खुद लें। जब तक आप नहीं चाहेंगे तब तक कोई विचार आपको परेशान नहीं कर सकता। खुद के सपनों की खुद लें। इसके साथ ही आप अपनी बॉडी और मन दोनों को खुश रख पाएंगे।

3. दिमागी खुराक लें

खुद से रोज ये कहें कि आज आप खुद के दिमाग को कुछ अच्छी खुराक देंगे। अपने दिमाग को और ज्ञानवान बनाएंगे। डेल कार्नेगी अपनी किताब हाउ टू स्टॉप वरिंग ऐंड स्टार्ट लिविंग में लिखते हैं कि खुद से रोज कहें कि आज आप कुछ ऐसा पढ़ेंगे जिससे आपकी दिमागी कसरत होगी। इससे आप मेंटल लोफर बनने से बच जाते हैं। तो वहीं, लेखक और पेशे से वकील रह चुके अशोक अरोड़ा की किताब सिंपल टिप्स फॉर श्योरशॉट सक्सेस में लिखा है कि मन को फूलों का गुलदस्ता बनाएं। नकारात्मक विचारों को निकालकर सकारात्मकता को लाकर आप अपनी खुशबू दूसरों में भी भेज सकते हैं। जिससे बाकियों में भी खुशियां बहेंगी। किताबें  पढ़ने से आप ज्ञानवान बनते हैं।

Inside2_motivationaltips

इसे भी पढ़ें : वर्ल्ड हैप्पीनेस डे: आपमें ही छिपे हैं आपकी खुशियों के राज, बस आदत में शामिल कीजिए ये 7 बातें

4. आज को जिएं

बहुत बड़े ऋषि मुनि से लेकर दार्शनकि सभी यही कहते आए हैं कि वर्तमान में जिएं। लेकिन यह कहना जितना आसान है उतना आसान इस पर अमल करना नहीं है। क्योंकि जब कुछ चीजें हमें परेशानी करती हैं, या हम उनसे ना चाहते हुए भी परेशान होते हैं तो वे हमारा पीछा करती हैं। तो ऐसे में जो बाते आपको परेशान कर रही हैं उन्हें पूरी तरह से आप अपने भीतर से बाहर नहीं निकाल सकते, लेकिन उनकी जगह पर आप दूसरे विचारों को रिप्लेस कर सकते हैं। खुद को व्यस्त कर सकते हैं, ताकि वो विचार आपको बार-बार परेशान न करें। इस तरह आप वर्तमान में जी सकते हैं। आप जिंदगी भर किसी परेशानी में नहीं रह सकते। आपके दिन के 24 घंटे होते हैं उन 24 घंटों में कोशिश करें कि उन घंटो को ठीक से जिएं।

5. रूटीन लिखें

आज आपको क्या करना है उसकी योजना बनाएं। यह काम आप रात को सोने से पहले भी कर सकते हैं। इससे होगा ये कि आप किसी को करने की बहुत जल्दबाजी में नहीं होंगे और लिखने से आपके फैसले गलत नहीं होंगे। दिन भर में हर घंटे आपको क्या करना है यह जरूरी नहीं है कि आप उसे पूरी तरह से अपनाएं, लेकिन आप ब्लैंक माइंड नहीं होंगे, और आपको ऐसा भी महसूस नहीं होगा कि आपको पास करने के लिए कुछ नहीं है। डेली रूटीन लिखने से आप दिनभर काम की ऊर्जा और सकारात्मकता से भरे रहेंगे। 

इसे भी पढ़ें : खुशी और दर्द को कैसे संतुलित करता है आपका दिमाग, शोधकर्ताओं ने बताई वजह

6. खुद के लिए आधा घंटा निकालें

डेल कार्नेगी ने अपनी किताब में लिखा है कि आप खुद के लिए रोजाना कम से कम आधा घंटा निकालें। इस आधे घंटे में आप अपने  बारे में भगवान के बारे में सोच सकते हैं। ताकि आपकी जिंदगी का पर्सपेक्टिव आपको समझ आए। आप खुद से चाहते क्या हैं यह आपको समझ आए। इससे आपकी निर्णय की क्षमता बढ़ेगी जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और पर्सनैलिटी में एक सकारात्मक बदलाव आएगा। 

Inside3_motivationaltips

7. डरना नहीं है

आज आप तय करें कि आपको आज डरना नहीं है। फिर चाहें वो खुशियों का डर हो या प्यार का। खुद से प्यार करें, जो आपको प्यार करते हैं उनसे प्यार करें। इन खुशियों से डरें नहीं उनका आनंद लें। जब आपका मन खुश होगा तो आपके आसपास के लोगों को भी आप खुश कर पाएंगे। अपने हर पल को जीएं। जीवन की कोई गारंटी नहीं है। आपको नहीं मालूम नहीं कि आपका कौन सा दिन अंतिम होगा, इससे बेहतर होगा कि आज में जिएं और डरना छोड़ें।

8. उबाऊ न बनें

अशोक अरोड़ा अपनी किताब सिंपल टिप्स फॉर श्योरशॉट सक्सेस में लिखते हैं कि खुद की निराशा को दूर करने का यह मतलब भी नहीं है कि आप अपनी उपलब्धियां दूसरों को सुनाकर दूसरों को बोर कर दें। अगर आप किसी के साथ अपने मन की बात शेयर कर रहे हैं तो उसकी भी सुनने की कोशिश करें। अगर आप सिर्फ अपनी ही सुनाते रहेंगे तो इससे सामने वाला इंसान बोर जाएगा और आपकी बात सुनने को तैयार नहीं होगा। हर दिन लोगों से बात करें पर कुछ उनकी सुनें और कुछ अपनी सुनाएं।

9. आप अपने जैसे इकलौते हैं

खुद को रोज मोटिवेट करें और खुद से कहें कि आप अपने जैसे इकलौते हैं। इस तरह आप खुद को मोटिवेट कर पाएंगे और अपनी क्षमताओं को समझ पाएंगे। हर सुबह खुद से कहें कि आज का ये दिन आपके लिए नया है। कल जो भी बुरा हुआ आप उसे बार-बार याद करके खुद को परेशान नहीं करेंगे।

अच्छा सोचेंगे तो अच्छा ही आउटकम बाहर आएगा। यही आपकी खुशी का पैमाना है। खुद से अच्छी बातें करें तो आप हर रोज संतुलित माइंडसेट में रहेंगे। 

Read More Articles on mind-body in hindi

 
Disclaimer