कई गंभीर बीमारियों में रामबाण है तीता फूल, जानें फायदे और इस्तेमाल का तरीका

तीता फूल का इस्तेमाल आयुर्वेद में औषधि के रूप में किया जाता है, जानें इसके फायदे और इस्तेमाल का तरीका।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Apr 10, 2022Updated at: Apr 10, 2022
कई गंभीर बीमारियों में रामबाण है तीता फूल, जानें फायदे और इस्तेमाल का तरीका

आयुर्वेद में पुराने समय से ही इलाज के लिए तमाम तरह की फूल और पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। प्रकृति में मौजूद तमाम ऐसी फूल, पत्तियां हैं जो आपके शरीर को न सिर्फ बीमारियों से बचाने का काम करते हैं बल्कि इनका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं के रूप में बीमारियों को दूर करने के लिए भी किया जाता है। स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए और बीमारियों को दूर करने के लिए तीता फूल के फायदे (Teeta Phool Benefits) अनेकों हैं। तीता फूल में मौजूद गुण आपको कई गंभीर बीमारियों में फायदा देते हैं। तीता फूल में मौजूद गुण शरीर में खून की कमी जैसी गंभीर समस्या को दूर करने के लिए बहुत उपयोगी माने जाते हैं। आइये जानते हैं आयुर्वेद के मुताबिक तीता फूल के फायदे और इनके इस्तेमाल का तरीका। 

तीता फूल के फायदे (Teeta Flower Benefits in Hindi)

Teeta-Flower-Benefits

तीता फूल को इसके कड़वे स्वाद की वजह से तीता कहा जाता है। इस फूल का इस्तेमाल सजावट में भी किया जाता है। तीता फूल को कोला बहक, धापत टीटा (असमिया), जंगली नॉनमंगखा (मणिपुरी) जैसे कई अन्य नामों से भी जाना जाता है। इस फूल में मौजूद औषधीय गुण के कारण इसका इस्तेमाल कई गंभीर समस्याओं में बहुत उपयोगी माना जाता है। तीता फूल में मौजूद कई औषधीय गुण गंभीर बीमारियों और इन्फेक्शन आदि को ठीक करने के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। आयुर्वेद में इस फूल को गठिया, खांसी जैसी समस्या को दूर करने के लिए बहुत ही प्रभावी औषधि माना जाता है। तीता फूल स्वास्थ्य से जुड़ी इन समस्याओं में बहुत फायदेमंद माना जाता है।

इसे भी पढ़ें : अशोक के पेड़ की छाल से दूर होती हैं ये 6 समस्याएं, आयुर्वेदाचार्य से जानें कैसे करें इस्तेमाल

1. शरीर में खून की कमी दूर करने में उपयोगी

तीता फूल का इस्तेमाल शरीर में खून की कमी दूर करने के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें मौजूद गुण शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर संतुलित रखने का काम करते हैं। तीता फूल क्षारीय प्रकृति का होता है और असम, मणिपुर में इसका इस्तेमाल सब्जी या खाना बनाने में मसाले के रूप में भी किया जाता है। आप आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह के अनुसार तीता फूल का इस्तेमाल शरीर में खून की कमी की समस्या को दूर करने के लिए कर सकते हैं।

Teeta-Flower-Benefits

2. सर्दी और खांसी में फायदेमंद

तीता फूल सर्दी और खांसी की समस्या में बहुत फायदेमंद होते हैं। इसमें मौजूद गुण एंटीबायोटिक के रूप में काम करते हैं जो शरीर में इन्फेक्शन की समस्या को दूर करने में फायदेमंद माने जाते हैं। इसका इस्तेमाल सर्दी और खांसी को दूर करने के लिए किया जा सकता है। इस समस्या में आप तीता फूल की चाय का सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : मुंह के छालों के लिए बेस्ट आयुर्वेदिक नुस्खा है बहेड़ा, जानें इसके उपयोग का सही तरीका

3. गठिया की समस्या में फायदेमंद

तीता फूल गठिया या अर्थराइटिस की समस्या में बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। इस फूल की चाय या सब्जी खाने से आपको गठिया की समस्या में फायदा मिलता है। इसके लिए आप आयुर्वेदिक डॉक्टर या एक्सपर्ट की सलाह ले सकते हैं।

4. स्किन से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद

तीता फूल स्किन से जुड़ी समस्याओं में बहुत फायदेमंद माने जाते हैं। इसकी चाय या सब्जी का सेवन करने से आपको स्किन को फायदा मिलता है। इसकी से जुड़ी समस्या जैसे स्किन पर दानें, इचिंग आदि को दूर करने के लिए आप तीता फूल को आयुर्वेदिक औषधि के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

5. लिवर के लिए उपयोगी

तीता फूल का सेवन लिवर के लिए बहुत उपयोगी मन जाता है। लिवर और प्लीहा से जुड़ी समस्याओं के इलाज में इसका इस्तेमाल भी किया जाता है। आप तीता फूल के पत्तों का अर्क लिवर को मजबूत करने और प्लीहा से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : आयुर्वेद के अनुसार क्या है नहाने का सही समय? आयुर्वेदाचार्य से जानें आपको कब नहीं नहाना चाहिए

आयुर्वेद में तीता फूल का इस्तेमाल काफी समय से किया जाता है। आप ऊपर बताई गयी समस्याओं के अलावा कई अन्य समस्याओं में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। तीता फूल का इस्तेमाल कई तरीकों से किया जाता है। आप इसका इस्तेमाल मसालों के रूप में कर सकते हैं। इसके अलावा तीता फूल की सब्जी जो मणिपुर और असम के इलाकों में बहुत प्रसिद्द है, का सेवन कर सकते हैं। कई समस्याओं में तीता फूल की चाय का सेवन किया जाता है। इसका इस्तेमाल किसी भी बीमारी में करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer