तेज धूप के कारण त्वचा में हो सकती है कोलेजन की कमी, चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स

तेज धूप के कारण चेहरे पर होनी वाली झुर्रियों से बचना है, तो सुबह 10 बजे से 3 बजे के बीच सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से बचें।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 08, 2020Updated at: Apr 08, 2020
तेज धूप के कारण त्वचा में हो सकती है कोलेजन की कमी, चेहरे की झुर्रियों को कम करने के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स

तेज गर्मी और धूप आपकी त्वचा के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। खासकर तब जब आपकी त्वचा गोरी और साफ हो। ऐसा इसलिए भी क्योंकि आपकी गोरी त्वचा जिसमें मेलेनिन की कमी होती है, ये आसानी से सूरज आने वाली हानिकारक किरणों का शिकार हो जाती है। वहीं तेज धूप के कारण चहरे में कोलेजन की मात्रा भी कम होने लगती है, जिसके कारण ये डल हो जाता है। इसलिए अगर आपकी त्वचा गोरी है, तो आपको गर्म और उमस भरे महीनों में इसकी अतिरिक्त देखभाल करनी होगी। क्योंकि आपकी त्वचा में मेलेनिन वर्णक की मात्रा कम होती है। इस वजह से, धूप के संपर्क में आने से आपकी त्वचा सुस्त और तैलीय हो सकती है। ऐसा त्वचा आसानी से एजिंग के भी शिकार हो जाते हैं और गर्मी के कारण इन पर झुर्रियां भी पड़ने लगती हैं। इसलिए आज हम आपको तेज धूप के कारण चेहरे पर झुर्रियां होने के पीछे का साइंस बताएंगे, साथ ही कुछ आसान उपाय भी बताएंगे, जो इससे बचाव में आपकी मदद करें।

insidewrinles

कैसे तेज धूप के कारण चेहरे पर होती है झुर्रियां? 

वास्तव में, 90 फीसदी झुर्रियां सूरज के संपर्क में आने से होती हैं। दरअसल सूरज की खतरनाक पराबैंगनी किरणें त्वचा की गहरी परतों को नुकसान पहुंचा सकती हैं। यह कोलेजन को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है और यह बदले में, त्वचा की लोच, इसके टाइटनिंग और संरचना को प्रभावित करता है। इसीलिए आपको गर्मी के महीनों में अपनी त्वचा को धूप से बचाना चाहिए। दरअसल जबसूर्य से पराबैंगनी किरणें त्वचा में प्रवेश करती हैं, तो वे लोचदार तंतुओं को नुकसान पहुंचाते हैं और त्वचा को कड़क बना देते हैं, जिससे झुर्रियां विकसित होती हैं। सूरज की रोशनी उम्र के धब्बों या हाथों, चेहरे और अन्य क्षेत्रों पर जगह जगह झाई पैदा करने के लिए भी जिम्मेदार है। 

खेलें ये क्विज और परखें अपना हेल्थ ज्ञान : 

Loading...

इसे भी पढ़ें : T-Zone Skin Care Tips: टी-ज़ोन के पिंपल्‍स और एक्‍सट्रा ऑयल को कम करने मे मदद करेंगी 5 ईजी टिप्‍स

आहार और त्वचा का कनेक्शन

त्वचा लगातार सूरज के साथ एक लड़ाई लड़ रही होती है, और लगातार मरम्मत और खुद को पुनर्जीवित कर रही है। आपकी त्वचा को युवा और स्वस्थ दिखने के लिए सही पोषण की आवश्यकता होती है। अगर आप जंक फूड बहुत खा रहे हैं, तो आप अपनी त्वचा को जंक भी खिला रहे हैं। ऐसे में एंटीऑक्सिडेंट जैसे विटामिन सी और ई, साथ ही विटामिन ए और बी विटामिन बायोटिन, स्वस्थ त्वचा के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं। आप इन सभी पोषक तत्वों के साथ हर दिन ताजे फल और सब्जियां खाएं। वहीं टमाटर, खट्टे, हरी पत्तेदार सब्जियां और गाजर आपकी त्वचा में लोच लाने का काम कर सकती हैं, जो आपके झुर्रियों को कम कर सकता है। वहीं आप कुछ उपाय भी कर सकते हैं, जो आपके चेहरे को झुर्रियां से बचा सकते हैं।

insidegulabjal

इसे भी पढ़ें : चेहरे पर ही क्यों ज्यादा निकलते हैं पिंपल्स? जानें इससे बचने के लिए 6 जरूरी बातें

  • -पर्याप्त पानी लें: हर दिन कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पिएं। डिहाइड्रेशन आपकी त्वचा के लिए बुरा हो सकता है। इसलिए आपको इसे हाइड्रेटेड रखने के लिए पर्याप्त तरल पदार्थ पीने की जरूरत है।
  • -सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें: धूप में बाहर जाने से 15 से 30 मिनट पहले सनस्क्रीन लगाएं। वहीं इसका ख्याल बार-बार रखें और इसे चहरे पर लगाते रहें क्योंकि आपका पसीना इसे धो देगा। ऐसे सनस्क्रीन चुनें, जो UVB और UVA किरणों से सुरक्षा प्रदान करते हैं।
  • -धूप के सीधे संपर्क से बचें: कोशिश करें कि सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच बाहर जाने से बचें। यह वह समय है जब सूर्य की किरणें बेहद तेज होती है और उसकी पराबैंगनी विकिरण त्वचा के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है।
  • -सुरक्षात्मक कपड़े पहनें: ऐसे कपड़े चुनें जो आपकी त्वचा को सांस लेने में मदद कर सकें। इसके साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि आपके कपड़े ऐसे हों कि ये सूरज की कठोर किरणों से आपके चहरे, बाहों और पैरों को ढंके।
  • -गुलाब जल का इस्तेमाल: गुलाबजल का इस्तेमाल चेहरे के लिए कई कारणों से किया जाता है। इसलिए इसे आपको अपने पर्स में ही रखना चाहिए। साथ में कुछ कॉटन भी साथ में रख लें। फिर दिन भर के बीच जब भी आपको समय मिले इसे नियमित अंतराल पर अपने चेहरे पर लगाते रहें। यह आपकी त्वचा को निखारेगा और तरोताजा रखेगा।

Read more articles on Skin-Care in Hindi

Disclaimer