लंबे समय से हो रही पाचन संबंधी समस्‍याओं का कारण हो सकता है तनाव, जानें तनाव को कम करने के आसान तरीके

यदि तनाव को अनिंयंत्रित छोड़ दिया जाए, तो यह पाचन संबंधी कई समस्‍याओं के खतरे को बढ़ाता है। आइए यहां तनाव को कम करने के तरीके जानें।  

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Jul 07, 2020
लंबे समय से हो रही पाचन संबंधी समस्‍याओं का कारण हो सकता है तनाव, जानें तनाव को कम करने के आसान तरीके

क्‍या आप भी अक्‍सर पाचन संबंधी समस्‍याएं महसूस कर रहे हैं? क्‍या ऐसा लंबे समय से हो रहा है? तो आप तनाव में हो सकते हैं। तनाव एक ऐसी मानसिक समस्‍या है, जिसे यदि समय रहते कंट्रोल न किया जाए, तो यह कई अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को पैदा कर सकता है। जिसमें आपके इम्‍यून सिस्‍टम से लेकर त्‍वचा और बालों के साथ-साथ पाचन पर भी तनाव का असर पड़ सकता है। कई बार पाचन संबंधी समस्‍याओं के पीछे आपका गलत खानपान और दिन भर की शारीरिक गतिविधि कारण हो सकते हैं। ये दो प्रमुख कारक हैं जो पाचन संबंधी समस्याओं के लिए जिम्मेदार हैं। लेकिन इसके अलावा, आपको जानकर हैरानी होगी कि तनाव भी आपकी पाचन प्रक्रिया को परेशान कर सकता है। जी हां, ऐसे कई लक्षण हैं, जिनके पीछे तनाव होता है, लेकिन कम ही लोग इन सबके बारे में जानते हैं। इसलिए, आइए यहां तनाव और पाचन संबंधी समस्‍याओं के बीच संबंध को सही समझने के लिए लेख को आगे पढ़ें। 

तनाव और पाचन स्‍वास्‍थ्‍य के बीच संबंध 

Stress Affect Your Digestive Health

ऐसा माना जाता है कि जब कोई व्‍यक्ति तनाव महसूस करता है, तो सबसे पहले उसकी इम्‍युनिटी पर उसका असर होता है। तनाव के कारण व्‍यक्ति की इम्‍युनिटी कमजोर होने लगती है, जिसके कारण वह फ्लू, इंफेक्‍शन या पाचन संबंधी समस्‍याओं से गुजर सकता है। हालांकि बहुत से लोग तनाव को गंभीर स्थिति नहीं मानते हैं। लेकिन अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह हृदय रोगों के उच्‍च जोखिम के साथ आपके स्वास्थ्य को कई तरह से नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: क्या तनाव लेने से कमजोर हो जाती है आपकी इम्यूनिटी? जानें एक्सपर्ट की राय और स्ट्रेस कम करने के तरीके

बहुत अधिक तनाव के कारण लगातार सिरदर्द, मांसपेशियों में तनाव, छाती में दर्द, अनियमित दिल की धड़कन, हाई बीपी और भूख में उतार-चड़ाव के साथ आपके पाचन पर असर दिखता है। तनाव के कारण कई पाचन संबंधी समस्‍याएं पैदा हो सकती हैं, तनाव से पारसपर्मेटिक तंत्रिका तंत्र की सक्रियता होती है, जो गैस्ट्रिक एसिड और रस के स्राव का कारण बनता है, जैसे: 

  • एसिडिटी
  • कब्ज
  • दस्‍त 
  • मल में कठिनाई
  • अपच
  • भूख न लगना या अधिक लगना 
Stress Affect On Health

यहां कुछ बिन्‍दू दिए गए हैं, जो आपको तनाव और पाचन के बीज के संबंध को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेंगे: 

1. आंत और मस्तिष्क तंत्रिकाएं एक-दूसरे से परस्पर जुड़े होते हैं। इसलिए, तनाव आपके आंत और पाचन तंत्र में व्यवधान पैदा कर सकता है। तनाव हमारे पाचन तंत्र को नुकसान पहुँचाता है, जिससे पेट में खून की आपूर्ति कम हो जाती है और आंत बैक्टीरिया में असंतुलन आदि समस्‍याएं होती है। 

2. तनाव की अधिकता आपके आंत और पाचन पर प्रभाव डालती है, जिसमें अल्पकालिक तनाव से भूख में कमी और धीमी गति से पाचन होता है जबकि दीर्घकालिक और क्रोनिक तनाव से इरिटेबल बाउल सिंड्रोम और अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्‍याएं हो सकती हैं।  

3. तनाव से पेट में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जिससे अपच और दिल की जलन होती है। चूंकि आंत में बैक्टीरिया भोजन को तोड़ने के लिए जिम्मेदार हैं, इसलिए, उनकी प्रकृति में असंतुलन पाचन समस्याएं पैदा कर सकता है। ऐसा केवल हम नहीं, बल्कि अध्‍ययन भी बताते हैं कि खुश रहने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्‍याएं कम हो सकती हैं। 

इसे भी पढ़ें: डिप्रेशन और तनाव का शरीर पर इन 5 तरीकों से पड़ सकता है बुरा असर, लक्षण दिखते ही हो जाएं सावधान

4. इसके अलावा, तनाव के कारण जब आप मस्तिष्‍क पर जोर देते हैं, तो यह स्‍ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल रिलीज करता है, जो आपके वजन को बढ़ाने के लिए जिम्‍मेदार हो सकता है। तनाव आपके वजन बढ़ने, डायबिटीज और ईटिंग डिसऑर्डर जैसी कई समस्‍याओं के लिए जिम्‍मेदार हो सकता है। 

तनाव से बचने के लिए क्‍या करें?

Stress Affect On Health

  • यदि आप तनाव को कम करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आप अपनी हेल्‍दी डाइट और लाइफस्‍टाइल पर ध्‍यान दें। 
  • आप रोजाना नियमित रूप से एक्‍सरसाइज करें और ब्रीदिंग एक्‍सरसाइज, मांइंडफुल मेडिटेशन और मार्निंग वॉक करें। यह सभी एक्‍सरसाइज आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रहने और तनाव को कम करने में मदद करेंगे। 
  • प्रतिदिन खूब सारा पानी पिएं और खाना स्किप न करें। 
  • सकारात्‍मक सोचें और खुश रहने की कोशिश करें। जिसके लिए आपको जो बातें परेशान कर रही हैं, उन्‍हें अपने करीबी दोस्‍तों या परिवार के सदस्‍य को बताएं। जिससे कि आप तनावमुक्‍त रह सकें। 

Read More Article On Mind And Body In Hindi 

Disclaimer