सोते समय खर्राटे लेना मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी है खराब, व्यवहार में दिखता है इसका बुरा असर

खर्राटे लेना लाइफस्टाइल से जुड़ी बाकी बीमारियों की तरह ही है, जो इस बात का सूचक है कि आप एक बहुत अनहेल्दी लाइफस्टाइल रूटीन फॉलो कर रहे हैं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jul 06, 2020Updated at: Jul 06, 2020
सोते समय खर्राटे लेना मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी है खराब, व्यवहार में दिखता है इसका बुरा असर

सोते समय खर्राटे लेना बबुत आम है, पर वहीं ये आपके खराब होते स्वास्थ्य का भी एक गंभीर सूचक है। खर्राटे लेना उन लोगों में अधिक आम है जो 40 वर्ष से अधिक उम्र के हैं और जिनमें अत्यधिक वजन, धूम्रपान की आदतें या सांस लेने में समस्या है। वहीं खर्राटे अक्सर बढ़े हुए टॉन्सिल, बढ़े हुए जीभ या गर्दन के चारों ओर अतिरिक्त वजन का कारण बनते हैं। इन सबके कारण फेफड़ों में यात्रा करने के लिए वायुमार्ग को बहुत संकीर्ण बना जाता है और इससे गले में कंपन होता है, इसलिए खर्राटे की आवाज होती है। पर हाल ही में आए रिसर्च की मानें, तो खर्राटे का मानसिक स्वास्थ्य पर भी गहरा असर पड़ता है। वो कैसे आइए जानते हैं।

insidesnoring

मानसिक स्वास्थ्य और खर्राटे लेना

ठीक से काम करने के लिए आपके मस्तिष्क को नींद की आवश्यकता होती है। नींद के दौरान भी, मस्तिष्क काम करना जारी रखता है, क्योंकि यह दिन की घटनाओं को संसाधित करता है। तो एक अच्छी रात की नींद स्मृति, निर्णय लेने, सीखने और अन्य संज्ञानात्मक कार्यों को बढ़ाने के लिए आवश्यक है। वहीं खर्राटे लेने से इन सब में खलल पड़ता है, जिससे व्यक्ति थका हुआ, तनावमय और चिड़चिड़ा महसूस करता है।

इसे भी पढ़ें : अपनी तुलना दूसरों से करना कितना सही या कितना गलत, जानिए अपनी किन आदतों को बदलना है जरूरी

खर्राटे का मनोवैज्ञानिक प्रभाव

नींद से वंचित मस्तिष्क में कुछ मनोवैज्ञानिक प्रभाव होते हैं जो जरूरी नहीं कि बहुत स्पष्ट हैं, लेकिन परेशान करने वाले हैं। यह संज्ञानात्मक हानि की ओर जाता है, जिसमें खराब नींद स्मृति को संग्रहित करने और पुनः प्राप्त करने में मस्तिष्क की दक्षता को कम करती है। यह रचनात्मकता, एकाग्रता में बाधा डाल सकता है, और जोखिम लेने वाले व्यवहारों में वृद्धि कर सकता है। वहीं इसके कई और नुकसान भी है।

खर्राटे भविष्य में अवसाद की ओर अग्रसर करते हैं

परेशान नींद चिंता का कारण बन सकती है, और यह चिंता तनाव से निपटने की क्षमता को कम करती है। जो लोग पहले से ही चिंता से पीड़ित हैं, नींद की कमी उनके लक्षणों को खराब कर सकती है। जिन व्यक्तियों को स्लीप एपनिया होता है, उनमें अवसाद विकसित होने की संभावना अधिक होती है। ऑक्सीजन की कमी और नींद की गड़बड़ी मस्तिष्क के कामकाज में परिवर्तन का कारण बन सकती है, जिससे अवसाद हो सकता है। जो व्यक्ति अधिक खर्राटे लेते हैं उनका निजी जीवन भी बहुत प्रभावित रहता है।

insidementalhealth

व्यवहार में भी दिखने लगता है इसका असर

खर्राटे लेने वाले व्यक्तियों में आत्मसम्मान की कमी जैसी स्थतियां भी देखी गई हैं। साथ भी पाया जाता है और यह उनके रिश्तों पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। जहां वे अपने खर्राटों के कारण असुरक्षित महसूस करते हैं, वे व्यवहार में भी शामिल होते हैं जैसे कि अपने साथी के साथ सोने से परहेज करते हैं या यहां तक कि अन्य सदस्यों के साथ अपने बिस्तर या कमरे को साझा करने से भी बचते हैं। वहीं इसके अन्य नुककानों की बात करें, तो

  • - नींद की कमी हमें भावनात्मक रूप से अधिक संवेदनशील बना सकती है। यह न केवल हमारे आत्मविश्वास को प्रभावित करता है, बल्कि हमें भटका हुआ और खोया हुआ महसूस कराता है। यह हमारी हताशा हिष्णुता को भी कम कर सकता है।
  • - अशांत नींद या वंचित नींद वाले कामकाजी व्यक्तियों के लिए, यह उनके कार्य-जीवन को बुरी तरह प्रभावित करता है, जिसमें ध्यान और उत्पादकता प्रभावित होती है। 
  • -परेशान और लोगों से बुरा व्यवहार करना।

इसे भी पढ़ें : महामारी के दौरान लोगों में सुसाइडल विचारों को रोकने की सख्त जरूरत, जानें मेंटल हेल्थ पर WHO की खास टिप्स

कुछ जीवनशैली में बदलाव हैं, जो खर्राटों को कम करने में मददगार हैं:

  • - वजन कम करना।
  • -सोने के समय भारी भोजन से बचने के लिए नींद की स्थिति बदलना।
  • - किसी भी एलर्जी और सांस की समस्याओं के लिए चिकित्सा सहायता लें।
  • -सोने से पहले धूम्रपान छोड़ना और शराब के सेवन से बचना।
  • -अनिद्रा, अवसाद, चिंता, रिश्ते के मुद्दों जैसे खर्राटों के मनोवैज्ञानिक प्रभावों के लिए, एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से पेशेवर मदद लें।

Read more articles on Mind-Body in Hindi

Disclaimer