कान के पीछे से आती है बदबू या दुर्गंध? जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव

कान के पीछे से आने वाली बदबू (smell behind ears) के कई कारण हो सकते हैं। ऐसे में इनके लक्षण, कारण और बचाव को समझना जरूरी है।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jun 28, 2021Updated at: Jun 28, 2021
कान के पीछे से आती है बदबू या दुर्गंध? जानें इसके कारण, लक्षण और बचाव

लोगों को लगता है कि कान के पीछे आने वाले बदबू कान में जमा मैल और उचित ढंग से साफ सफाई ना होने के कारण आती है। पर हमेशा ऐसा नहीं होता। कभी-कभी कान के पीछे से बदबू आने के पीछे कुछ गंभीर कारण भी जिम्मेदार हो सकते हैं, जिसे हम अनदेखा कर देते हैं और आगे चलकर ये लक्षण गंभीर बीमारी का रूप ले सकती है। जी हां, आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि कान के पीछे बदबू या दुर्गंध के क्या कारण (Smell behind ears causes) हो सकते हैं? साथ ही इसके लक्षण (Smell behind ears symptoms) और बचाव के बारे में भी जानेंगे। ये लेख हीलिंग केयर ईएनटी क्लीनिक नोएडा के ईएनटी स्पेशलिस्ट (एमबीबीएस एमएस) डॉ अंकुर गुप्ता (Dr. Ankur Gupta) द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया गया है। पढ़ते हैं आगे...

कान के पीछे आती दुर्गंध का कारण (causes of smell behind ears)

कान को Eustachian tube dysfunction से जुड़ने के लिए कान के परदे के पीछे की खाली जगह काम आती है। इस जगह में तरल पदार्थ मौजूद होते हैं, जिसमें बैक्टीरिया मौजूद नहीं होते हैं। लेकिन जब कोई व्यक्तत नाक या गले में इंफेक्शन की समस्या से ग्रस्त होता है तो Eustachian tube के जरिये कान के मध्य हिस्से में पहुंच सकते हैं, जिसके कारण कान संक्रमित हो जाता है और कान के पीछे से बदबू आने लगती है। इसके अलावा कुछ और कारण भी है जो कान के पीछे आने वाली दुर्गंध की वजह बनते हैं। जानते हैं इनके बारे में-

  1. जब कान में इंफेक्शन हो जाता है तो उसका असर कान के बाहरी और अंदरूनी हिस्से दोनों का सतह पर पड़ता है। ऐसे में कान के मध्य में सूजन आनी शुरू हो जाती है और इसके कारण कान के पीछे बदबू आ सकती है।
  2. जब किसी कारणवश कान में चोट लगती है तो व्यक्ति को दर्द महसूस होता है इसके साथ-साथ कान के पीछे से स्मेल भी आ सकती है।
  3. पानी में तैरते वक्त कभी-कभी पानी कानों में चला जाता है, जिसके कारण बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं। इन बैक्टीरिया के कारण कान के पीछे से बदबू आ सकती है।
  4. Cholesteatoma (कॉलेस्टेटोमा रोग), एक कान से संबंधित बीमारी होती है, जिसमें कान के परदे के पीछे की त्वचा पर गांठ बनने लगती है। इस गांठ के कारण कान में दर्द और कान के पीछे बदबू आनी शुरू हो जाती है। 
  5. कान में मैल जमा होता है तो इसके कारण कानों में बैक्टीरिया पैदा हो जाते हैं और यह भी कान के पीछे से आने वाली बदबू का कारण बनते हैं।
  6. साइनस इनफेक्शन होने पर कान के पीछे से बदूब आ सकती है और माथे पर सूजन भी इसी के लक्षणों में से एक है। ऐसे में साइनस से ग्रस्त लोगों को कान की सफाई और कान की उचित देखभाल की जरूरत होती है।

कान के पीछे बदबू आने के लक्षण (symptoms of smell behind ears)

कान में बदबू के साथ-साथ कुछ और लक्षण भी नजर आते हैं-

  • कान में मवाद बनना
  • कान में दर्द महसूस करना
  • सुनने में तकलीफ महसूस करना
  • गले में सूजन महसूस करना
  • कान का बहना
  • कान में मैल जमा होना
  • कान में खुजली होना
  • सिर दर्द होना
  • गले में तकलीफ होना
  • कान से गाढ़ा पदार्थ का निकलना
  • कान से ब्लीडिंग होना

 इसे भी पढ़ें- कान से खून निकलना नहीं है सामान्य, जानें इसके 5 कारण

कान के पीछे की बदबू से बचाव (preventions of smell behind ears)

  1. बच्चों के कान में पानी जानें से रोकें।
  2. कान में किसी भी प्रकार के स्प्रे का इस्तेमाल ना करें।
  3. गंदे पानी को कानों में डालने से बचें।
  4. अपने कानों को समय-समय पर साफ करते रहें।
  5. कान के बाहरी सतह की सफाई के लिए गीले कपड़े का इस्तेमाल न करें।
  6. कानों में किसी भी प्रकार का तेल डालने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  7. कॉटन से केवल कान के बाहरी त्वचा को साफ करें। कान के बीच में कॉटन का इस्तेमाल ना करें।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदु से पता चलता है कि कान के पीछे से आने वाली बदबू के पीछे कई कारण छिपे हो सकते हैं। ऐसे में कान की बदबू के दौरान कुछ अन्य लक्षण भी है, जिनको समझना जरूरी है। इसके अलावा यदि कान में भारीपन महसूस हो, कान में दर्द हो, कान से बार-बार डिस्चार्ज हो, सुनने में तकलीफ महसूस हो या कान को टच करने पर बदबू आए और कान को क्लीन करने के बाद भी अत्यधिक मेल जमा हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ये किसी गंभीर बीमारी के संकेत हो सकते ।हैं लापरवाही होने से कान की गंभीर समस्या हो सकती है।

Read More Articles on other disease in hindi

Disclaimer