स्तनपान कराने वाली महिलाओं (ब्रेस्टफीडिंग मॉम) के लिए धूम्रपान करना कितना हानिकारक है?

अगर आप बच्चे को फीड कराती हैं तो इस दौरान धूम्रपान करने के साइड इफेक्ट न केवल बच्चे पर पड़ेंगे। बल्कि आपके लिए भी यह बहुत अधिक खतरनाक हो सकता है।

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 21, 2021Updated at: Jul 21, 2021
स्तनपान कराने वाली महिलाओं (ब्रेस्टफीडिंग मॉम) के लिए धूम्रपान करना कितना हानिकारक है?

अगर आप एक ब्रेस्ट फीडिंग (Breastfeeding) मां हैं तो, क्या आप स्मोकिंग के खतरों से वाकिफ हैं। दरअसल इस दौरान स्मोकिंग (Smoking) करने से न केवल आपके बच्चे को बल्कि आपको भी खतरा है। स्मोकिंग (Smoking) का आपकी हेल्थ पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। डॉ रंजना बैकन, गायनोकोलॉजिस्ट, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल का कहना है कि इसके कारण आपमें दूध बनने की प्रक्रिया प्रभावित हो सकती है। इस वजह से दूध का उत्पादन कम होने लगता है। तब आपको चक्कर आना या जी घबराना जैसे लक्षणों का भी सामना करना पड़ सकता है। साथ ही आपका बच्चा भी इसके कारण परेशान हो सकता है। जब आप दूध पिलाने के साथ स्मोकिंग (Smoking) करती हैं तो आपके दूध के माध्यम से निकोटिन (Nicotine) जैसे टॉक्सिंस आपके शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते हैं। जो आप दोनों के लिए नुकसानदायक होते हैं। 

Inside1breastfeeding

WHO के मुताबिक एक बच्चे के लिए 6 महीने तक उसकी मां का दूध ही सर्वोत्तम है। अगर आप इस दौरान धूम्रपान कर रही हैं तो आपको कुछ निम्न बातें जान लेनी चाहिएं। 

कितना निकोटिन ट्रांसफर होता है (Nicotine Transferred)

बच्चे को दूध पिलाने के दौरान कुछ केमिकल आपके अंदर ट्रांसफर होते हैं तो कुछ नहीं। इनका ही एक सबसे बड़ा उदाहरण है निकोटिन। जोकि सिगरेट का सबसे अधिक एक्टिव इंग्रेडिएंट होता है। दूध पिलाते समय निकोटिन ट्रांसफर होने की मात्रा उससे दोगुनी होती है जितना निकोटिन प्लेसेंटा के मध्यम से ट्रांसफर हो सकता है।

 मां और बच्चे पर धूम्रपान का प्रभाव (Side Effects)

  • -उन महिलाओं के बच्चों का कोई सोने का एक फिक्स पैटर्न नहीं होता है जो धूम्रपान करती हैं।
  • -यही नहीं जो बच्चे धूम्रपान करने वाली मां का दूध पीते हैं वह सडन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम से पीड़ित होने के अधिक रिस्की होते हैं और उन्हें अस्थमा जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं।
  • -निकोटिन के कारण बच्चे के व्यवहार में एक बदलाव देखने को मिल सकता है जैसे वह बाकी दिनों के मुकाबले अधिक रो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : स्तनपान (ब्रेस्टफीडिंग) कराने वाली महिलाओं को व्रत रखना चाहिए या नहीं? जानें न्यूट्रीशनिस्ट से

धूम्रपान करने वाली मांओं के लिए सुझाव (Advice For Nursing Moms)

अगर मां रोजाना 20 से कम सिगरेट पीती है तो निकोटिन के कारण उसे या उसके बच्चे को ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा। लेकिन अगर वह रोजाना 20 से अधिक सिगरेट पीती है तो उसके बच्चे में निम्न रिस्क बढ़ जाते हैं : 

अगर आप इन सब रिस्क के बाद भी धूम्रपान करना जारी रखना चाहती है तो आपको सिगरेट पीने के लगभग एक घंटे तक इंतजार करना चाहिए और इसके बाद ही दूध पिलाना चाहिए।

Inside2breastfeedingandsmoking

सिगरेट को कैसे छोड़ें (Ways To Quit Smoking)

अगर आप सिगरेट छोड़ने के लिए तैयार हो जाती हैं तो यह इतना आसान भी नहीं होता है। दरअसल अगर आप उसकी आदी थीं तो उसकी आदत छूटने में समय लग सकता है। इसलिए आप निकोटिन की क्रेविंग होने पर निकोटिन पैच का प्रयोग कर सकती हैं। यह पैच आपको निकोटिन का एक बहुत ही कम डोज देती है। जिससे आपकी क्रेविंग भी शांत हो जाती है और आपको कम धूम्रपान करने की आदत भी होने लगती है। ऐसे ही धीरे धीरे आप इन पैच को भी प्रयोग करना छोड़ सकती हैं।

इसे भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में ओट्स खाने से मिलते हैं ये 6 फायदे, मां और शिशु दोनों रहते हैं सेहतमंद

सैकंड हैंड स्मोक न करें (No Second Hand Smoking)

अगर एक मां अपने बच्चे को दूध पिलाने के लिए स्मोकिंग छोड़ देती है तो उसके लिए सेकंड हैंड स्मोकिंग को छोड़ देना भी बहुत जरूरी बन जाता है। क्योंकि अगर वह ऐसा नहीं करती है तो उसके बच्चे को न्यूमोनिया का रिस्क बहुत अधिक बढ़ जाता है। और न्यूमोनिया के साथ ही बच्चे की अचानक मृत्यु सिंड्रोम का रिस्क भी बढ़ जाता है।

अगर आप धूम्रपान नहीं छोड़ पा रही तो आपको कोशिश करनी चाहिए कि आप धूम्रपान करने के समय में और बच्चे को दूध पिलाने के समय में एक अंतर रखें। हो सके तो धूम्रपान को छोड़ देने की कोशिश करें। ताकि आप के बच्चे के इस के कारण बढ़ने वाले रिस्क बहुत कम हो सकें और आप और आपका बच्चा दोनों ही सुरक्षित रह सकें। इसके लिए आप निकोटिन पैच का प्रयोग कर सकती हैं।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer