प्रेगनेंसी में ओट्स खाने से मिलते हैं ये 6 फायदे, मां और शिशु दोनों रहते हैं सेहतमंद

प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स खाने से सेहत को कई फायदे होते हैं। यहां जानें इससे होने वाले कुछ फायदों के बारे में। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: Jul 19, 2021Updated at: Jul 19, 2021
प्रेगनेंसी में ओट्स खाने से मिलते हैं ये 6 फायदे, मां और शिशु दोनों रहते हैं सेहतमंद

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को अपने खान-पान पर विशेष ध्यान रखना होता है। इस दौरान खाने-पीने में लापरवाही बरतना आपको नुकसान पहुंचा सकता है। इसीलिए मां और बच्चे दोनों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए चिकित्सक द्वारा हमेशा हेल्दी खाने की सलाह दी जाती है। इस लेख के माध्यम से हम आपको ऐसे ही एक स्वस्थ आहार के बारे में बताएंगे, जिसका सेवन प्रेगनेंसी के दौरान आपको उर्जा से भर देगा। जी हां, प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स खाने से सेहत को एक नहीं बल्कि कई फायदे होते हैं। कई महिलाओं में ओट्स को लेकर यह असमंजस रहता है कि ओट्स खाना सुरक्षित है या नहीं। बता दें कि प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स का सेवन करना पूरी तरह से सुरक्षित है। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की मानें तो प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को ओट्स खाना चाहिए, यह उनकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे मां और शिशु दोनों ही स्वस्थ रहते हैं। चलिए जानते हैं प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स खाने से होने वाले कुछ फायदों के बारे में। 

energy

1. एनर्जी का अच्छा स्त्रोत (Good Source of Energy)  

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में तमाम तरह के बदलाव देखे जाते हैं। ऐसे में आपको उर्जावान होना बेहद जरूरी होता है। प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स का सेवन करना आपको उर्जा से भर देता है। ऐसे में प्रेगनेंट महिलाओं को अपने दिन की शुरूआत एक कटोरी ओट्स के साथ करनी चाहिए। आधा कप ओट्स में लगभग 250 से 300 कैलोरी होती है। इसका सेवन आपको सारा दिन उर्जावान बनाए रखता है। इसे खाने से महिलाओं को थकान का एहसास नहीं होता है। इसमें मुख्य रूप से मैगनीज, कॉपर, थियामिन और फॉसफोरस पाए जाते हैं, जो आपको उर्जा देने का काम करते हैं। 

इसे भी पढ़ें - प्रेग्नेंसी में अल्फाल्फा के फायदे और इस्तेमाल के समय जरूरी सावधानियां

2. पाचन तंत्र रखे दुरुस्त (Keeps Digestion System Healthy)  

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को हमेशा पचने योग्य़ खाद्य पदार्थों का सेवन करने की ही सलाह दी जाती है। ओट्स आसानी से पच भी जाता है और खाना पचाने और कब्ज आदि से छुटकारा दिलाने में भी मदद करता है। इसमें सॉल्यूबल फाइबर (बीटा ग्लूकोन) की मात्रा पाई जाती है, जो पेट में मौजूद बैक्टीरिया का सफाया कर पेट को साफ रखते हैं। प्रेगनेंसी में पेट साफ होना काफी फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद फाइबर मल को टाइट कर उसे आसानी से निकलने में मदद करते हैं। 

3. बच्चे के विकास के लिए फायदेमंद (Beneficial for Development of Children)

ओट्स में मुख्य रूप से फोलिक एसिड की मात्रा पाई जाती है। फोलिक एसिड का सेवन प्रेगनेंसी के दौरान काफी जरूरी होता है। यह आपके न्यूरल ट्यूब में किसी भी प्रकार के डिफेक्ट के होने से बचाता है। यह भ्रूण में नसों में विकास करता है। यही नहीं यह शिशुओं में पैलेट की आशंकाओं व खतरे को भी कम करता है। इससे गर्भवती महिला की शरीर में भी रेड ब्लड सेल्स की कमी नहीं होगी। इसलिए शिशु के विकास के लिए ओट्स खाना अच्छा होता है। 

4. आयरन की कमी को करे पूरा (Fulfills Iron Deficiency)

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में आयरन की मात्रा का होना काफी जरूरी होता है, यह तो आप जानती ही होंगी। ओट्स आयरन का बहुत अच्छा सत्रोत होता है। इसका सेवन प्रेगनेंसी के दौरान आपकी शरीर में आयरन की आपूर्ति करता है। प्रेगनेंसी के दौरान शरीर को आयरन इसलिए चाहिए होता है कि आयरन की मदद से शरीर में खून की मात्रा अधिक बन सके। इससे आप एनीमिया के सेवन से भी बची रह सकेंगी। 

इसे भी पढ़ें - प्रेग्नेंसी में कार्बोहाइड्रेट्स लेने के फायदे-नुकसान, एक दिन में कितना लेना चाहिए कार्बोहाइड्रेट

5. पोषक तत्वों की करे आपूर्ति (Fulfills Nutrients Requirement)

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर को काफी सारे न्य़ूट्रीएंट्स की आवश्यकता होती है। वहीं ओट्स में प्रेगनेंसी के दौरान जरूरी तकरीबन सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं। ओट्स में मैगनीस, फॉसफोरस, आयरन, विटामिन, थियामिन, नियासिन, फोलिक एसिड, मिनिरल्स, जिंग, सेलेनियम और बीटा ग्लूकोन आदि जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो इंफेक्शन से लड़ने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा करते हैं। 

diabetic

6. ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करे (Controls Blood Sugar Level)

ओट्स खाने से शरीर में ब्लड शुगर लेवल भी नियंत्रित रहता है। गर्भावस्था के दौरान ब्लड शुगर लेवल बढ़ने से नुकसान हो सकता है। शोध की मानें तो ओट्स आपके टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को भी आसानी से कम कर सकते हैं। यह आपके इंसुलिन इंजेक्शन की जरूरत को भी कम करता है। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण डायबिटीज से ग्रस्त महिलाएं अपना ब्लड शुगर लेवल सुधारने के लिए इसका सेवन कर सकती हैं। 

प्रेगनेंसी के दौरान ओट्स का सेवन काफी अच्छा होता है। इससे गर्भवती महिला और शिशु दोनों स्वस्थ रहते हैं। 

Read more Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer