कब्ज के अलावा पेट साफ न होने के हैं ये 5 कारण, डॉक्टर से जानें बचाव

पेट साफ न होने के पीछे सिर्फ कब्ज एक वजह नहीं है, बल्कि इसके पीछे पित्त की पथरी जैसी परेशानियां भी हैं। इनसे बचाव जरूरी है।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Jul 05, 2021Updated at: Jul 05, 2021
कब्ज के अलावा पेट साफ न होने के हैं ये 5 कारण, डॉक्टर से जानें बचाव

आपने अक्सर लोगों को कहते हुए सुना होगा कि आज पेट ठीक से साफ नहीं हुआ या आज मल त्याग करने के बाद मल मार्ग और पेट में दर्द हो रहा है। यही सब स्थितियां कब्ज की परेशानी को दर्शाती हैं। कब्ज पेट की एक ऐसी समस्या है जिसमें मल आसानी से नहीं निकलता। अनहेल्दी खानपान और अनहेल्दी लाइफस्टाइल की वजह से जठराग्नि (gastritis) कमजोर हो जाती है, जिस वजह से खाना ठीक से पचता नहीं है और मल त्याग करने में दिक्कत होती है और पेट ठीक से साफ नहीं होता।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि पेट साफ न होने के पीछे सिर्फ कब्ज एक वजह नहीं है। बल्कि अन्य कारण भी हैं।  पालम विहार के कोलंबिया एशिया अस्पताल में जनरल फिजिशियन डॉ. मंजीता नाथ दास कहना है कि पेट साफ न होने को कब्ज कहा जाता है। कब्ज होने के पीछे पानी कम पीना, पर्याप्त नींद न लेना आदि कारण हैं। कब्ज कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह शरीर में किसी और तरह की परेशानियों का लक्षण है, लेकिन कब्ज के अलावा कई परेशानियां हैं जिनमें पेट साफ नहीं होता है। आज के इस लेख में डॉ. मंजीता नाथ दास से जानेंगे पेट साफ न होने के कारण कौन से हैं। साथ ही जानेंगे कि इन परेशानियों से बचा कैसे जा सकता है। 

Inside2_dhatakibenefits

कब्ज क्या है?

जब दिन में मल समय पर न आए। जब आए तो बहुत टाइट आए। मल त्याग करने में कठिनाई हो। इसे कब्ज कहा जाता है। कब्ज की स्थिति में मल सूखा हो जाता है। इस वजह से सुबह के वक्त फ्रेश होने में दिक्कत होती है। कब्ज की वजह से पेट साफ नहीं होता। जिस वजह से किसी को भी पूरे दिन पेट भारी लग सकता है। इसकी वजह से खाना भी ठीक नहीं लगता। कब्ज की समस्या से ज्यादातर लोग जूझ रहे हैं। पेट साफ न होने को कब्ज कहा जाता है।

कब्ज किन कारणों से होती है?

1. कम पानी पीना

पेट साफ होने की वजह कम पानी पीना भी है। डॉ. मंजीता नाथ दास कहना है कि जब लोग पानी कम पीते हैं तब मल सूखने लगता है, जिस वजह से उसे त्यागने में कठिनाई होती है। कम पानी पीने से शरीर डिहाइड्रेशन होता है और पेट साफ नहीं होता।

2. खाने में हरी सब्जियों की कमी

जो लोग खाने में हरी सब्जियां कम खाते हैं उन्हें भी पेट साफ न होने की परेशानी होती है। हरी सब्जियां और फलों में फाइबर होता है। खाने में फाइबर की कमी कब्ज का कारण बनती है। फाइबर दो प्रकार होता है, सॉल्युबल और इनसॉल्युबल। ये दोनों ही फाइबर पेट को साफ करने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं। फाइबर के सेवन पाचन क्रिया को ठीक करता है।

Inside4_constipationproblem

3. भारी खाना खाना

भारी खाने का सेवन भी पेट साफ न होने का कारण है। कई लोग नॉनवेज का सेवन बहुत अधिक करते हैं, उन्हें भी पेट मलत्याग करने में दिक्कत होती है। 

4. कच्चा खाना खाना

बिना पका हुआ खाना। कच्चे खाने को पचाने के लिए शरीर में जो एंजाइम्स होते हैं, ने काम ही नहीं कर पाते। इसलिए खाना पच नहीं पाता। उदाहरण के लिए अगर आपने किसी ऐसे जानवर का मांस खाया जिसको पचाने के लिए आपके शरीर के एंजाइम ठीक से काम ही नहीं कर रहे हैं तो पेट साफ न होने की परेशानी होगी।

इसे भी पढ़ें : कब्ज से राहत पाने के लिए अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

5. असमय खाना

असमय खाना खाना, किसी भी समय खाना खा लेना आदि कारण हैं जो कब्ज का प्रमुख कारण बनते हैं। डॉक्टर डॉ. मंजीता नाथ दास का कहना है कि जो लोग असमय खाना खाते हैं, उन्हें भी कब्ज की परेशानी होती है। इसके पीछे उन्होंने कारण बताया कि खाना पचाने के लिए खाने को टाइम चाहिए। अगर टाइम नहीं मिलेगा तो डाइजेस्ट नहीं होगा। इस वजह से मल टाइट हो जाता है और मल त्याग करने में समस्या होती है।

Inside2_constipationproblem

6. तनाव और अपर्याप्त नींद

डॉक्टर मंजीता नाथ दास का कहना है कि तनाव की वजह से नींद कम आती है। नींद का पाचन से सीधा संबंध है। दूसरा तनाव में होने की वजह से लोगों का खानपान बिगड़ता है। या तो वे ज्यादा खाते हैं या कम खाते हैं। जिस वजह से पाचन बिगड़ता और मल त्याग करने में दिक्कत होती है। तनाव के कारण आंत में संक्रमण होता है, जिस वजह से फ्रेश होने में दिक्कत होती है। 

कब्ज के अलावा पेट साफ न होने के कारण

1. लैक्टोज इंटोलरेंस (lactose intolerance)

डॉक्टर दास का कहना है कि जिन लोगों को लैक्टोज इंटोरलेंस होता है वे डेयरी प्रोडक्ट्स को पचा नहीं पाते। जिस वजह से मल त्याग करने में समस्या होती है।

2. सिलिएक रोग

सिलिएक रोग एक ऐसा रोग है जो गेहूं की वजह से होता है। गेहूं के अधिक सेवन से यह परेशानी होती है। सिलिएक रोग होने पर पेट भरा हुआ महसूस होता है। गैस की समस्या होती है। खाना ठीक से पचता नहीं है। कुछ भी खाने से पचता नहीं है। जो लोग ज्यादा गेहूं खाते हैं और उससे उन्हें एलर्जी होती है, तो भी पेट साफ नहीं होता। ऐसे लोगों को कभी लूजमोशन होता है तो कभी भूख नहीं लगती है। बच्चों का वजन नहीं बढ़ता। सिलिएक रोग में भी पेट साफ नहीं होता।

3. पित्ताशय की पथरी (gallbladder stones)

पित्ताशय की थैली में छोटे पत्थर बन जाते हैं, जिन्हें पित्ताशय की पथरी कहा जाता है। यह पथरी बहुत दर्दनाक होती है। डॉक्टर दास का कहना है कि अगर गॉलब्लेडर का एक्युट अटैक आता है तो पेट में इन्फ्लामेशन होता है। जिससे पेट भारी लगता है। दर्द की वजह से मोशन नहीं कर पाते। क्रोनिक होने पर हल्का दर्द होता है, जिस वजह से उन्हें समझ नहीं आता कि यह पित्ताशय की पथरी है। लेकिन टेस्ट करने पर समस्या सामने आती है। इस परेशानी में भी पेट साफ नहीं होता।

Inside1_constipationproblem

4. पैन्क्रीअटाइटिस (pancreatitis)

पैनक्रियाएज में इफेक्शन होने से पेट साफ नहीं होता। पेट में भारीपन रहता है। मोशन नहीं होता है। कई बार मरीज को इतना कब्ज हो जाता है कि मल पत्थर की तरह हो जाता है। जिसमें वह डॉक्टर की मदद से निकाला जाता है। 

5. एक्सरसाइज की कमी

डॉक्टर दास का कहना है कि आजकल कोविड की वजह से लोग ज्यादा बाहर नहीं निकल पा रहे हैं, ऐसे में कब्ज से संबंधित परेशानियां बढ़ गई हैं। पहले ये परेशानी बड़ों को होती थी, लेकिन अब बच्चों को भी हो रही है। छोटे बच्चे भी घर में कैद हैं जिस वजह से बावल मूवमेंट नहीं होता है, जिस वजह से पेट साफ नहीं होता।

क्या है बचाव?

डेयरी प्रोडक्ट्स को कहें न

ऐसे लोग जो लैक्टोज इंटोलरेंस हैं, उन्हें डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन नहीं करना चाहिए। इन प्रोडक्ट्स से जिन्हें एलर्जी है, वे इनके विकल्पों को चुन सकते हैं। 

खूब पानी पीएं

डॉ. मंजीता नाथ दास का कहना है कि कब्ज की समस्या को पानी पीकर कम किया जा सकता है। जब कोई व्यक्ति प्रोपर पानी पीता है तो शरीर में पानी की मात्रा बढ़ती है। पेट साफ करते समय पानी कम निकलेगा, जिससे मल सूखेगा नहीं और आसानी से पेट साफ होगा। डॉक्टर का कहना है कि एक व्यक्ति को दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए। 

पका हुआ खाना खाएं

ठीक से पका हुआ खाना पाचन क्रिया को बेकार नहीं करता है। खाने को पचाने वाले एंजाइम्स ठीक तरह से काम करते हैं। इस वजह से मल सॉफ्ट होता है और उसे त्यागने में दिक्कत नहीं होती है।

inside1_heartpatients

पर्याप्त नींद लें

जो लोग पर्याप्त नींद लेते हैं उन्हें पाचन संबंधी परेशानियां कम होती हैं। जब पेट ठीक होता है तो बाकी परेशानियां भी नहीं होतीं। ऐसे में जरूरी है कि पूरी नींद ली जाए ताकि कब्ज की परेशानी से बचा जाए।

पित्त की पथरी की सर्जरी

पित्त की पथरी का इलाज सर्जरी से होता है। लेकिन जब इस परेशानी के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो शुरूआत में इलाज करा लें, ताकि सर्जरी की जरूरत नहीं पडती है। लेकिन अगर यह पित्त की थैली की पथरी बढ़ गई है तो वह सर्जरी से ठीक की जाती है।

आज के समय में कब्ज पेट साफ न होने की प्रमुख वजह है। कम पानी पीना या फाइबर युक्त भोजन का कम सेवन करने से कब्ज होती है। कब्ज के अलावा भी पेट साफ न होने के कई कारण हैं। जिन पर ध्यान देना जरूरी है। 

Read More Articles on miscellaneous in hindi

 

Disclaimer