कान के पर्दे में छेद होने से जा सकती है सुनने की शक्ति, जानें इस समस्या का कारण और इलाज

कान में इंफेक्‍शन, दबाव या झटके के कारण कान के पर्दे में छेद हो सकता है, जान‍िए इस समस्‍या के लक्षण और उपाय 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jul 16, 2021Updated at: Jul 16, 2021
कान के पर्दे में छेद होने से जा सकती है सुनने की शक्ति, जानें इस समस्या का कारण और इलाज

कान के पर्दे में छेद या कान में सुराख होने से क्‍या समस्‍या हो सकती है? कान के पर्दे में छेद होना एक गंभीर समस्‍या बन सकती है। अगर आपके कान के पर्दे में छेद हो जाए तो कान में गंदगी भरने के कारण इंफेक्‍शन हो सकता है, अगर ध्‍यान न द‍िया जाए तो व्‍यक्‍त‍ि के सुनने की शक्‍त‍ि भी खो सकती है। कान में गंदगी भरने के कारण, तेज आवाज, दबाव के कारण कान के पर्दे में छेद हो सकता है। कान में पर्दे में छेद होने पर डॉक्‍टर आपको एंटीबायोट‍िक दवाएं देते हैं वहीं कुछ गंभीर केस में कानों की सर्जरी करनी पड़ सकती है इसल‍िए आपको कानों की सेहत पर गौर करना चाह‍िए। इस लेख में हम कान के पर्दे में सुराख होने के कारण, लक्षण, उपाय और इस समस्‍या से बचने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

ruptured eardrum causes

रप्चरर्ड ईयरड्रम क्‍या होता है? (What is ruptured eardrum) 

कान के पर्दे को ईयरड्रम कहते हैं। कान के पर्दे की मदद से आवाज हमारे कानों तक पहुंचती है। अगर कान के पर्दे में छेद या सुराख हो जाए या वो फट जाए तो उसे रप्चरर्ड ईयरड्रम कहा जाता है। कान के पर्दे में सुराख होने का पता डॉक्‍टर ऑटो स्‍कोप, ऑड‍ियोलॉजी, फ‍िज‍िकल टेस्‍ट आद‍ि से लगाते हैं। कान के पर्दे में सुराख होने से बहरापन या संक्रमण हो सकता है इसल‍िए इसका इलाज जरूरी है।

कान के पर्दे में सुराख होने के लक्षण (Symptoms of ruptured eardrum)

  • कान के पर्दे में छेद होने पर दर्द होता है, इसे आप सबसे कॉमन लक्षण मान सकते हैं। 
  • कान के पर्दे में छेद होने पर कान में हवा लगना महसूस हो सकता है। 
  • कान के पर्दे में छेद होने पर आपको चक्‍कर आ सकते हैं। 
  • कान से खून या पदार्थ बहना भी कान के पर्दे में छेद होने के लक्षण हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- कान छिदवाने के बाद आ रही है कान से बदबू? अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

कान के पर्दे में सुराख होने से क्‍या समस्‍याएं हो सकती हैं? (Risks of ruptured eardrum)

risks of ruptured eardrum

कान के पर्दे में छेद होने पर अगर इलाज में लापरवाही बरती जाए तो इंसान अपने सुनने की क्षमता खो सकता है। हालांक‍ि कुछ मामलों में ऐसा भी होता है क‍ि इलाज के बाद सुनने की शक्‍त‍ि आ जाती है। इसके अलावा अगर कान के पर्दे में छेद हो जाए तो कान में धूल, गंदगी, डैड सैल्‍स या वैक्‍स जमा होने के कारण इंफेक्‍शन हो सकता है। कान का पर्दा कहां होता है? कान की नली को म‍िड‍िल ईयर को कान का पर्दा ही बांटता है, वो दोनों के मध्‍य में होता है। अगर कान के पर्दे में कोई समस्‍या होती है तो इंफेक्‍शन की आशंका बढ़ सकती है।

कान के पर्दे में सुराख होने का कारण (Causes of ruptured eardrum)

  • कान के पर्दे में गंदगी के कारण इंफेक्‍शन होने पर छेद हो सकता है।
  • कान के बीच के ह‍िस्‍से में ज्‍यादा फ्लूड इकट्ठा होने पर इंफेक्‍शन या दबाव के कारण कान के पर्दे में छेद हो सकता है।
  • अगर आपके स‍िर में गंभीर चोट लगी है तो भी फ्रैक्‍चर के कारण कान के पर्दे में छेद हो सकता है।
  • अगर आप कान के अंदर तक हेयरप‍िन या कॉटन स्‍वैब डाल दें तो भी ये कान के पर्दे में छेद कर सकती है। 
  • कोई तेज आवाज कान में पड़ने के कारण कान के पर्दे में छेद हो सकता है। 
  • अगर कानों में तेज दबाव पड़े जो क‍ि प्‍लेन में ट्रैवल करते समय या स्कूबा डाइव‍िंग के समय पड़ता है, तब कानों के पर्दे में छेद हो सकता है।

इसे भी पढ़ें- कान में इंफेक्शन के कारण होने वाले दर्द से जल्द आराम दिलाएंगे ये 6 घरेलू उपाय

कान के पर्दे को बीमारी या इंफेक्‍शन से बचाने के तरीके (Tips to prevent ruptured eardrum)

prevent ruptured eardrum

  • अगर आपको सर्दी या ज़ुकाम हो तो कानों का खास खयाल रखें, ऐसे समय में कान में ढककर रखें। 
  • आपको इस बात का खास खयाल रखना है क‍ि कानों को साफ करने के ल‍िए आप क‍िसी भी बाहरी वस्‍तु का इस्‍तेमाल न करें। 
  • कुछ लोग कान साफ करने के ल‍िए चाबी, ईयरबड आद‍ि चीजों का इस्‍तेमाल करते हैं पर उससे आपके कानों में इंफेक्‍शन हो सकता है। 
  • कानों को साफ करवाने के ल‍िए आप हमेशा प्रश‍िक्ष‍ित डॉक्‍टर के पास जाएं। 
  • अपने कानों को गीला होने से बचाने के ल‍िए आप कान में रुई लगा सकते हैं जब आप नहा रहे हों खासकर तब इस बात का ध्‍यान रखें।
  • डॉ सीमा ने बताया क‍ि आप कानों को सूखा रखने के ल‍िए पैट्रोल‍ियम जैली या स‍िल‍िकॉन की कॉटन बॉल का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, इस उपाय से आप कानों में पानी जाने की समस्‍या से बच सकते हैं।
  • अगर आप क‍िसी ऐसी जगह पर हैं जहां नोइज़ पॉल्‍यूशन ज्‍यादा है तो हमेशा ईयरप्‍लग पहनकर रखें।
  • आपको कोश‍िश करनी है क‍ि अपने कानों को ज्‍यादा से ज्‍यादा ड्राय रखने की कोश‍िश करें, कानों के बाहरी ह‍िस्‍से में नमी न बनने दें।
  • कान में ज्‍यादा दबाव नहीं होना चाह‍िए, अगर आप प्‍लेन में ट्रैवल कर रहे हैं तो इयरप्‍लग का इस्‍तेमाल करें। 
  • अगर आपको लगता है क‍ि कानों में थोड़ा भी इंफेक्‍शन है तो आप लापरवाही न बरतें और फौरन इलाज करवाएं। 
  • कान में दबाव कम करने के ल‍िए आप च्‍यूइंगम चबा सकते हैं या आप जंभाई लें। 

कान के पर्दे में सुराख का इलाज (Treatment of ruptured eardrum)

treatment of ruptured eardrum

  • कान के पर्दे में छेद होने पर डॉक्‍टर एंटीबायोट‍िक दवा देते हैं ज‍िससे इंफेक्‍शन ठीक हो जाए। दवा गोली और ईयरड्राप दोनों फॉर्म में हो सकती हैं।
  • कान के पर्दे में छेद होने का इलाज आप खुद नहीं कर सकते, इसके ल‍िए आपको च‍िकि‍त्‍सा सहायता की जरूरत होगी। 
  • अगर आप क‍िसी ऐसी जगह हैं जहां डॉक्‍टर की पहुंच नहीं है तो उन तक पहुंचने तक आप दर्द को कम करने के ल‍िए स‍िकाई कर सकते हैं।
  • आपको इस बात का भी ध्‍यान रखना है क‍ि डॉक्‍टर से सलाह ल‍िए ब‍िना दवाएं नहीं खाएं। ऐसा करने से समस्‍या बढ़ सकती है।
  • कान के पर्दे के छेद होने के गंभीर केस में डॉक्‍टर सर्जरी करते हैं। इस सर्जरी को मेडिकल भाषा में ट‍िम्‍पेनोप्‍लास्‍टी कहते हैं।
  • ट‍िम्‍पेनोप्‍लास्‍टी सर्जरी में कान के पर्दे में हुए छेद में ट‍िशू लगाते हैं जो शरीर के अन्‍य क्षेत्र से ल‍िया जाता है।

हमारे कान बेहद नाजुक होते हैं इसल‍िए अगर आप अपने सुनने की क्षमता को बचाए रखना चाहते हैं तो कानों में बीमारी होने के लक्षण को समय रहते समझें और इलाज करवाएं।

Read more on Other Diseases in Hindi

Disclaimer