प्रोटीन से भरपूर होता है सत्तू, वर्कआउट के बाद सत्तू ड्रिंक पीने से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे

सत्तू कई पोषक तत्वों से भरा है। शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा करता है और पूर्ण रूप से नेचुरल है। इसके 10 फायदों को जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल।

Satish Singh
Written by: Satish SinghPublished at: Sep 16, 2021
प्रोटीन से भरपूर होता है सत्तू, वर्कआउट के बाद सत्तू ड्रिंक पीने से सेहत को मिलते हैं ये 5 फायदे

अगर आप ऐसे चींज का सेवन करना चाहते हैं, जिसमें प्रोटीन भरपूर मात्रा में है तो आप रोजाना सत्तू पी सकते हैं। बिहार, झारखंड और यूपी में वर्षों पहले से सत्तू का चलन है। यही वजह है कि लोग काम कर निकलते हैं या फिर ऑफिस जाने हैं ... या फिर कोर्ट में किसी काम से गए तो वहां सत्तू पीते हैं। ये यहां पर स्ट्रीट ड्रिंक के रूप में आसानी से मिलता है। तो आइए इस आर्टिकल में हम प्रोटीन से भरपूर सत्तू के फायदों के बारे में जमशेदपुर की डायटीशियन और बिष्टुपुर के हॉस्पिटल में प्रैक्टिस कर रही डॉ. एस गुहा से जानते हैं। वर्कआउट के बाद सत्तू ड्रिंक पीने से होने वाले फायदों पर चर्चा करते हैं। जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल।

पांच प्रोटीन से भरपूर है सत्तू ड्रिंक, वर्कआउट के बाद पीएं

डायटीशियन बताती हैं कि सत्तू में पांच से भी ज्यादा प्रोटीन भरपूर मात्रा में होती है,  जिसमें मैग्नीशियम, कैल्शियम, फोलेट, काब्रस, आयरन, मैंगनीज आदि शामिल है। सिर्फ 100 ग्राम सत्तू में 65 फीसदी कार्ब्स और 20 फीसदी प्रोटीन होता है। जो शरीर को स्वस्थ रखती है और मसल्स गेन करने में सहायक होती है। डायटीशियन बताती हैं कि सत्तू पीने से सिर्फ मसल्स मजबूत नहीं होता। इसके कई फायदे होते हैं। यही कारण है कि पोस्टवर्कआउट ड्रिंक के तौर पर इसका सेवन किया जा सकता है।

Sattu Drink

सत्तू शेक को प्रोटीन शेक बना सकते हैं

सत्तू पीना स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। अगर इसमें हम प्याज, जीरा पाउडर इत्यादि डालकर इसे बनाएं तो यह और ज्यादा स्वादिष्ट लगेगा। अगर आप फिटनेस फ्रिक हैं तो आपके पोस्ट वर्कआउट के बाद सत्तू प्रोटीन शेक के रूप में काम करेगा। सत्तू शुद्ध होता है जिम करने वालों के यूज किए जाने वाले प्रोटीन से सस्ता होता है। सत्तू का असर लंबा रहता है। सत्तू नेचुरल प्रोटीन का बहुत अच्छा सोर्स होता है।

कैसे करें सत्तू शेक तैयार

  • सबसे पहले सत्तू का शेक बनाने के लिए पानी, बादाम, सत्तू पाउडर, जीरा पाउडर, नमक, धनिया और नींबू का रस लें
  • पानी में सत्तू, जीरा पाउडर, सत्तू पाउडर, नींबू का रस डालकर उसे मिलाएं
  • इसके बाद सत्तू पाउडर में बादाम, धनिया डाल दें, इसके साथ सत्तू का शेक तैयार है
  • सत्तू को ज्यादा हेल्दी बनाने के लिए इसमें आप लस्सी भी मिला सकते हैं
  • इसमें केला भी मिला सकते हैं
  • अगर आपको मीठा पसंद है तो शहद, चीनी या गुड़ मिलाकर भी सत्तू का शेक तैयार कर सकते हैं

1. सत्तू पीने से मसल्स मजबूत होते हैं 

डायटीशियन ने कहा- अगर आप जिम करते हैं तो आप के लिए मसल्स को मजबूत करने के लिए प्रोटीन सप्लीमेंट लेना जरूरी होता है। लेकिन कई लोग इन सप्लीमेंट को लेना नहीं चाहते क्योंकि इसमें कैमिकल्स मिले होते हैं, जिसके अपने साइड इफेक्ट होते हैं। ऐसे में आप प्रोटीन सत्तू पीकर ले सकते हैं। पोस्ट वर्कआउट के बाद सत्तू पीने से यह प्रोटीन सप्लीमेंट जितना फायदा देगा और यह फायदे नेचुरल रहेंगे। सत्तू मसल्स को सप्लीमेंट के तुलना में ज्यादा मजबूत बनाता है।

2. शरीर में खून की कमी दूर होती है

डायटीशियन बताती हैं कि सत्तू पीने से खून की कमी दूर होती है। अगर आपको एनीमिया की बीमारी है तो रोजाना सत्तू का सेवन करें। सत्तू शरीर के पाचन शक्ति को अच्छा करता है। सत्तू पीने से भूख नहीं लगता है, जिससे फैट कंट्रोल रहता है। शरीर को ठंडा रखता है, जिसके कारण हमें गर्मी में लू नहीं लगता है। सत्तू पीने से आप हमेशा ऊर्जावान महसूस करेंगे। यही वजह है कि इसे डाइट में शामिल करना चाहिए।

3. पोस्ट वर्कआउट के बाद सत्तू पीने से मांसपेशियां होती है मजबूत

>एक्सपर्ट बताती हैं कि अगर फिटनेस फ्रिक पोस्ट वर्कआउट के बाद हजारों रुपए प्रोटीन पाउडर पर खर्च करने से बचना चाहते हैं और नेचुरल प्रोटीन को लेना चाहते हैं तो सत्तू पी सकते हैं। सत्तू भुने चने का आटा होता है। इसे पीने से प्रोटीन इनटेक बेहतर बनता है। सत्तू में प्रोटीन के साथ फाइबर भी होता है। इससे मसल्स बनती है और मांसपेशियां मजबूत होती है। सत्तू को आप शेक रूप में पी सकते है, जो काफी टेस्टी होता है। प्रोटीन पाउडर या शेक में कई तरह के कैमिकल्स मिले रहते हैं। लेकिन सत्तू पूरी तरह नेचुरल होता है, इससे कोई नुकसान नहीं होता है।

4. तीन अंडों का प्रोटीन मिलता है

डायटीशियन बताती हैं कि जिनके शरीर में प्रोटीन की कमी है उन्हें रोज सत्तू पीना चाहिए। दो स्पून सत्तू में पांच ग्राम प्रोटीन होता है जो कि एक अंडे के बराबर है। अगर सत्तू दही के साथ मिलाकर पीते- खाते हैं तो इससे आपके शरीर को 16 ग्राम प्रोटीन मिलता है। यह तीन अंडों के बराबर आपको देगा।

5. बालों और स्किन के लिए है फायदेमंद

सत्तू पीने से बाल नहीं झड़ते हैं वहीं स्किन टोन भी इससे अच्छा होता है। सत्तू में कॉपर, सेलेनियम और जिंक होता है जो बाल पकने और झड़ने की समस्या को कम कर देता है। वहीं सत्तू पीने से आपको भूख नहीं लगती है। इससे डाइट कंट्रोल रहता है।

इसे भी पढ़ें : कम बजट में भी आप रोज खा सकते हैं हेल्दी खाना, जानें कुछ आसान डाइट टिप्स

Sattu

सत्तू पीने के अन्य फायदे

  • सत्तू पीने से शरीर में खून की कमी दूर होती है
  • इसे पीने से कमजोरी दूर होती है, शरीर ऊर्जावान बनता है
  • सत्तू पीने से बॉडी को तुरंत एनर्जी मिलती है
  • सत्तू पीने से पेट ठंडा होता है
  • गैस की समस्या को दूर करता है
  • पेट से संबंधी कई बीमारियों पर यह असर करता है, पाचन शक्ति बढ़ाता है
  • एनीमिया के मरीजों के लिए यह काफी लाभदायक होता है
  • सत्तू शरीर को ठंडा रखता है, जिससे गर्मी में लू नहीं लगती है
  • सत्तू डायबिटीज के पेशेंट के लिए काफी लाभदायक होता है
  • सत्तू पीने भूख लंबे वक्त तक नहीं लगती है, जिससे आपका वेट कंट्रोल होता है

इन बातों का ध्यान रखें

  1. सत्तू अगर आप पहली बार या बहुत दिन बाद सत्तू पी रहे हैं तो शुरुआत में ज्यादा सत्तू नहीं पीएं। इसे हमेशा नियमित रूप से पीना चाहिए नहीं तो पेट फूल सकता है। चार बड़े चम्मच सत्तू को नहीं पीएं।  शुरू में दो चम्मच सत्तू ही पीएं।  
  2. अगर आपका वजन ज्यादा या आप डायबिटीज के मरीज हैं तो डॉक्टर की सलाह के बाद सत्तू का सेवन करें। सत्तू में कैलोरी ज्यादा होती है जो नुकसान पहुंचा सकता है।
  3. अगर आप एलर्जी वाले पेशेंट है तो डॉक्टरी सलाह के बाद सत्तू का उपयोग करें।

डायटीशियन और डॉक्टर की सलाह लें

आर्टिकल में बताई गई बातें सिर्फ जानकारी के लिए हैं। अगर आपको सत्तू का उपयोग मसल्स को मजबूत और प्रोटीन लेने के लिए करना है तो डायटीशियन से एक बार सलाह जरूर ले लें।  आप चाहें तो जैसा कि झारखंड, बिहार, यूपी के लोग सत्तू का सेवन करते हैं ठीक उसी प्रकार आप सेवन कर सकते हैं। इन राज्यों में कई लोग सत्तू को शाम के समय देसी स्नैक्स के रूप में सेवन करते हैं। इसके लिए सत्तू के आटे तो पानी के साथ मिलाकर उसमें नींबू डाल और आचार लेकर सेवन करते हैं इससे शरीर तंदरुस्त रहता है।

>Read More Articles On Healthy Diet

Disclaimer