इन 4 कारणों से वेट लिफ्टिंग के दौरान जरूरी है रिस्टबैंड (Wristband) पहनना, जानें किन बातों का रखें ख्‍याल

क्‍या आप भी वेट लिफ्टिंग करते हैं, तो कलाई की मोच और हाथों को जख्‍मी होने से बचाने के लिए रिस्टबैंड  (Wristband) यानि कलाई का बैंड पहनें। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: May 28, 2020Updated at: May 28, 2020
इन 4 कारणों से वेट लिफ्टिंग के दौरान जरूरी है रिस्टबैंड (Wristband) पहनना, जानें किन बातों का रखें ख्‍याल

क्‍या आप वेट लिफ्टिंग करते हैं? अगर हां, तो आपको पता होगा कि वेट लिफ्टिंग के समय कलाई में मोच आ सकती है। वेट लिफ्टिंग बाकी एक्‍सरसाइज से अलग है क्‍योंकि इसमें जब आप वेट लिफ्टिंग करते करते हैं, तो लगभग 90 से 95% क्रेडिट आपके हाथों को जाता है। कई बार दुर्भाग्‍यवश हम वेट लिफ्टिंग के समय चोटिल हो जाते हैं और इन चोटों में सबसे आम है कलाई की मोच। ज्‍यादातर लोग फिटनेस गेम को बनाने के चक्‍कर में कुछ बातें भूल जाते हैं और जिससे कि वह जख्‍मी हो सकते हैं। इसलिए अगर आप वेट लिफ्टिंग करते हैं, तो वर्कआउट के समय रिस्टबैंड यानि कलाई और हाथों का पटटा पहनना न भूलें। रिस्टबैंड आपको कलाई मोच और हाथों को जख्‍मी होने से बचाता है। आइए यहां हम आपको 5 कारण बता रहे हैं कि आपको वेट लिफ्टिंग के समय रिस्टबैंड क्‍यों पहनना जरूरी है। 

Wristband Benefits

1. कलाई की चोटों से बचने के लिए

बहुत से लोग रिस्टबैंड को फैशन के नजरिए से देखते हैं। लेकिन वेट लिफ्टिंग के समय रिस्टबैंड पहनने से आपको कलाई की चोटों से बचने में मदद मिलती है, क्‍योंकि यह आपकी कलाईयों को सर्पोट देता है। इससे कलाई पर पड़ने वाले दबाव और मोच के कारण मांसपेशियों के ऊतकों को नुकसान नहीं होता है। इसलिए आपने देखा होगा कि अक्‍सर वेट लिफ्टिंग ट्रेनर और एक्‍सपर्ट वर्कआउट के दौरान रिस्टबैंड पहनते हैं और पहनने की सलाह भी देते हैं।

इसे भी पढ़ें: हर्निया सर्जरी के बाद रिकवरी करने में मददगार हैं ये 5 एक्‍सरसाइज

2. मजबूत पकड़ के लिए

रिस्टबैंड पहनने का दूसरा सबसे जरूरी कारण है, मजबूत ग्रिप यानि मजबूत पकड़। कई बार वेट‍ लिफ्टिंग के दौरान हाथों में पसीना या किसी अन्‍य कारण से फिसलन हो सकती हैं और आपके द्वारा उठाया जाने वाला भार छूट सकता है। ऐसा होने पर आप चोटिल भी हो सकते हैं, इसलिए एक बेहतर पकड़ के लिए वेट लिफ्टिंग के दौरान रिस्टबैंड पहनना जरूरी है। रिस्टबैंड से आपकर कलाई को सर्पोट मिलता है और आपकी पकड़ भी मजबूत बनी रहती है।

For Grip

3. भारी उठाने के लिए

यदि बहुत अधिक या भारी वजन उठा रहे हैं, तब भी आपके लिए रिस्टबैंड पहनना जरूरी है। आप मसल्‍स बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, तो रिस्टबैंड जरूर पहनें। क्योंकि आप अधिक वजन उठाने जा रहे हैं और अगर आप भारी वजन उठाने में सक्षम नहीं हैं, तो एक रिस्टबैंड पहनने से आपको अपने स्ट्राइड का पता लगाने में मदद मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें: बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रीति जिंटा ने बताया पीठ दर्द दूर करने के लिए आसान एक्सरसाइज, देखें वीडियो और घर पर करें

4. मांसपेशियों के तनाव को कम करने के लिए

यदि आप वेट ट्रेनिंग करते हैं, तो आपकी मांसपेशियां में काफी तनाव होता है। लेकिन वहीं अगर आप वेट ट्रेनिंग या वेट लिफ्टिंग के समय एक रिस्टबैंड पहनते हैं, तो यह आपके मांसपेशियों के तनाव को कम करता है। रिस्टबैंड से न केवल आपकी कलाई का तनाव कम होगा, बल्कि यह आपकी बेहतर पकड़ होने के कारण यह आपकी मांसपेशियों पर भी दबाव और तनाव को कम करेगा।

Tips to Using Wristband

रिस्टबैंड पहनने से पहले ध्‍यान रखने योग्य कुछ बातें

रिस्टबैंड पहनने से पहले अपनी कलाई को थोड़ा वार्म-अप जरूर करें।

रिस्टबैंड पहनने को बहुत टाईट या बहुत ढीला न पहनें। 

ऐसे बैंड का इस्‍तेमाल करें, जो एडजस्टेबल हो।

Read More Article On Exercise And Fitness In Hindi
Disclaimer