रामबुतान के छिलके से सेहत को मिल सकते हैं ये 5 फायदे, जानें उपयोग और नुकसान

रामबुतान फल के साथ-साथ इसका छिलका भी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद और उपयोगी है। जानते हैं इसके फायदे और अधिकता से होने वाले नुकसान...

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Dec 08, 2021Updated at: Dec 08, 2021
रामबुतान के छिलके से सेहत को मिल सकते हैं ये 5 फायदे, जानें उपयोग और नुकसान

रामबुतान, जिसे लोग फल के रूप में भी जानते हैं, यह सेहत से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने में उपयोगी है। लेकिन हम बात कर रहे हैं रामबुतान के छिलकों की। रामबुतान के छिलकों के अंदर anti-obesity, फेनोलिक कंपाउंड्स, विटामिन सी आदि तत्व मौजूद होते है जो सेहत के लिए बेहद उपयोगी हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि व्यक्ति रामबुतान के छिलके का कैसे इस्तेमाल कर सकता है और इसके क्या क्या फायदे हैं। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि रामबुतान का छिलका सेहत के लिए कितना उपयोगी है। साथ ही इसके उपयोग के बारे में भी जानेंगे। इसके लिए हमने न्यूट्रिशनिस्ट और वैलनेस एक्सपर्ट वरुण कत्याल ( Nutritionist and wellness expert varun katyal) से भी बात की है। पढ़ते हैं आगे...

1 - हड्डियों के लिए उपयोगी

हड्डियों को स्वस्थ रखने में रामबुतान का छिलका आपके बेहद काम आ सकता है। बता दें कि रामबुतान के अंदर एंटी ओस्टियोपोरोसिस गुण मौजूद होते हैं जो न केवल ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव करने में उपयोगी है बल्कि रामबुतान के अंदर पाए जाने वाला कॉपर हड्डियों को स्वस्थ रखने में भी व्यक्ति के बेहद काम आ सकता है। ऐसे में जिन लोगों की हड्डी कमजोर है वह रामबुतान के छिलके का उपयोग कर सकते हैं।

2 - दिल के स्वास्थ्य के लिए

दिल को स्वस्थ रखने में रामबुतान का छिलका आपके बेहद काम आ सकता है। बता दें कि रामबुतान के छिलके के अंदर फेनोलिक कंपाउंड्स मौजूद होता है जो न केवल हृदय से संबंधित कई समस्याओं से छुटकारा दिला सकता है बल्कि राम भूटान के फल के सेवन से भी हृदय को स्वस्थ मजबूत बनाया जा सकता है। ऐसे में यदि आप दिल से संबंधित समस्या के जोखिम को कम करना चाहते हैं तो ऐसे में आप रामबुतान के छिलके का उपयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- तुलसी और दूध के नुकसान: दूध में तुलसी डालकर पीने से सेहत को सकते हैं कुछ नुकसान, बरतें सावधानी

3 - डायबिटीज में उपयोगी

रामबुतान का छिलका मधुमेह रोगियों के लिए भी उपयोगी साबित हो सकता है। हालांकि अभी इस पर और रिसर्च होने की जरूरत है लेकिन इसके अंदर पाए जाने वाला फेनोलिक एसिड रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम करने में प्रभावी साबित हो सकता है लेकिन हम मरीजों को सलाह देते हैं कि वे अपनी डाइट में इसे जोड़ने से पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें।

4 - वजन को करे नियंत्रित

आज के समय में लोग सबसे ज्यादा अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं। ऐसे में बता दें कि रामबुतान के छिलके के उपयोग से अपनी इस समस्या को दूर किया जा सकता है। छिलके के अर्क में पॉलीफेनॉल मौजूद होते हैं जो शरीर में पहुंचकर anti-obesity का काम कर सकते हैं। ऐसे में यह वजन को नियंत्रित करने में भी उपयोगी हैं। इससे अलग आपको बता दें कि रामबुतान के छिलकों में कैलोरी कम और फाइबर ज्यादा मौजूद होता है। ऐसे में वजन को कम करने में आप रामबुतान के छिलके का उपयोग कर सकते हैं। जल्दी प्रभाव पाने के लिए अपनी दिनचर्या में व्यायाम को भी जोड़ें।

5 - त्वचा के लिए उपयोगी

रामबुतान फल जितना त्वचा के लिए उपयोगी है उतना ही इसका छिलका भी त्वचा को कई समस्याओं से दूर रख सकता है। बता दें कि रामबुतान के छिलके के उपयोग से व्यक्ति अपनी त्वचा को सूर्य की हानिकारक किरणों से बचा सकता है। इससे अलग रामबुतान का छिलका चेहरे पर चमक बरकरार रखने में भी उपयोगी है।

इसे भी पढ़ें- शुगर में सिंघाड़ा खाना चाहिए या नहीं? जानें सर्दियों में सिंघाड़े खाने से जुड़े ऐसे 10 सवालों के जवाब

रामबुतान के छिलके का उपयोग

रामबुतान के छिलके का उपयोग आप इसके अर्क के रूप में कर सकते हैं। इससे अलग आप इसके अर्क को किसी भी जूस में मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। व्यक्ति रामबुतान के छिलकों के अधिक सेवन सुबह और शाम दोनों में से किसी भी समय कर सकता है लेकिन व्यक्ति को इसका सेवन सीमित मात्रा ही करना चाहिए। ऐसे में इसकी सीमित मात्रा का ज्ञान लेने के लिए व्यक्ति को डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी है।

बरतने वाली सावधानियां

1 - रामबुतान और इसके छिलकों को 10 डिग्री सेल्सियस तापमान  में ही रखना चाहिए।

2 - इसके छिलके को पानी या फ्रिज में रखें, जिससे लंबे समय तक यह सुरक्षित रह सके।

3 - रामबुतान को खरीदते वक्त ध्यान रहे कि इसका छिलका कहीं से कटा हुआ ना हो वरना बैक्टीरिया पैदा हो सकते हैं।

4 - केवल ताजे रामबुतान के छिलकों का ही उपयोग करें।

5 - रामबुतान के छिलकों का उपयोग करते वक्त से अच्छी से धोएं।

यदि व्यक्ति रामबुतान के छिलके के अर्क का अधिक मात्रा में सेवन करता है तो इससे शरीर में विषाक्तों का स्तर यानि टॉक्सिक लेवल बढ़ सकता है। ऐसे में व्यक्ति को इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए। इससे संबंधित रिसर्च पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि रामबुतान का छिलका सेहत के लिए उपयोगी है लेकिन इसकी अधिकता सेहत के लिए नुकसानदेह भी हो सकती है। बता दें कि रामबुतान का छिलका व्यक्ति की उम्र और उसकी शरीर की तासीर पर निर्भर करता है। ऐसे में व्यक्ति को अपनी डाइट में रामबुतान के छिलके को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह लेनी जरूरी है। यदि आप कोई स्पेशल डाइट फॉलो कर रहे हैं या किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं तो अपनी डाइट में रामबुतान के छिलके को जोड़ने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें। गर्भवती महिलाएं, स्तनपान कराने वाली महिलाएं या बच्चों को इसका अधिक का सेवन कराने से पहले भी डॉक्टर की राय जरूर लें।

इस लेख में फोटोज़ Freepik और pixabay से ली गई हैं।

Disclaimer