खेल, फिटनेस का पर्याय है और बैडमिंटन में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए, एक व्यक्ति के लिए फिट रहना आवश्यक है। इसके लिए चुस्ति-स्‍फूर्ति के साथ धैर्य की आवश्‍यकता होती है।

"/>

Prakash Padukone Birthday: बैडमिंटन में अच्‍छे प्रदर्शन के लिए फॉलो करें ये 4 टिप्‍स, सेहत भी रहेगी फिट

खेल, फिटनेस का पर्याय है और बैडमिंटन में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए, एक व्यक्ति के लिए फिट रहना आवश्यक है। इसके लिए चुस्ति-स्‍फूर्ति के साथ धैर्य की आवश्‍यकता होती है।

Atul Modi
Written by: Atul ModiPublished at: Jun 10, 2019Updated at: Jun 10, 2019
Prakash Padukone Birthday: बैडमिंटन में अच्‍छे प्रदर्शन के लिए फॉलो करें ये 4 टिप्‍स, सेहत भी रहेगी फिट

अर्जुन अवार्ड और पद्म श्री से सम्‍मानित, प्रकाश पादुकोण का बैडमिंटन के क्षेत्र में बड़ा योगदान रहा है। वह अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के पिता हैं। प्रकाश आज भी कई लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं। वह 1980 में ऑल इंग्लैंड चैंपियन जीतने वाले पहले भारतीय बने थे। आज वह 64 साल के हो गए हैं और वह अभी भी फिट और फैब बने हुए हैं। प्रकाश पादुकोण अपनी बैडमिंटन अकादमी चलाते हैं और वहां आने वाले बच्‍चों और युवाओं बैडमिंटन खेल का प्रशिक्षण देते हैं। अपनी फिटनेस रूटीन के लिए अब भी काफी एक्टिव रहते हैं। प्रकाश वह सब कुछ करते हैं जो किसी बैडमिंटन खिलाड़ी में होनी चाहिए। 

खेल, फिटनेस का पर्याय है और बैडमिंटन में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए, एक व्यक्ति के लिए फिट रहना आवश्यक है। इसके लिए चुस्ति-स्‍फूर्ति के साथ धैर्य की आवश्‍यकता होती है। बैडमिंटन के प्रशिक्षण में काफी लचीलेपन की आवश्यकता होती है। बैडमिंटन में स्‍टेमिना बढ़ाने के लिए निम्नलिखित व्यायामों को करना फायदेमंद हो सकता है। 

 

एरोबिक्स

स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग के लिए कार्डियो एक्‍सरसाइज महत्‍वपूर्ण है। एरोबिक्स एक ऐसा व्यायाम है, जो स्‍टेमिना बढ़ाता है। इंग्लैंड के बैडमिंटन संघ के अनुसार, एरोबिक्स ट्रेनिंग आसानी से मजबूती प्रदान करने में हमारी मदद करता है। एरोबिक्स शरीर की मांसपेशियों को ढीला करने में मदद करता है, आवश्यक लचीलापन प्रदान करता है और व्यक्ति की स्‍टेमिना को बढ़ाने में भी मदद करता है।

ड्यूरेशन ट्रेनिंग

विभिन्न तीव्रता में कार्य करने के लिए शरीर को तैयार रखने के लिए ड्यूरेशन ट्रेनिंग की आवश्यक होती है। बैडमिंटन के प्रति उत्साही लोगों के लिए धीमी गति से और लंबे कार्डियो शेड्यूल सबसे अच्छे हैं। ड्यूरेशन ट्रेनिंग को एनर्जी और सहन शक्ति को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इस प्रकार का प्रशिक्षण 30 मिनट या उससे अधिक के लिए किया जाता है। इस प्रशिक्षण की गति धीमी होती है। ड्यूरेशन ट्रेनिंग के अंतर्गत आप साइक्लिंग, स्विमिंग, रनिंग आदि शामिल है। 

इंटरवल ट्रेनिंग

अधिक व्‍यायाम करने और रिकवरी टाइम के बीच में जो एक्टिविटी की जाती है उसे इंटरवल ट्रेनिंग कहते हैं। इसे ट्रेडमिल पर किया जाता है और साइकिल पर भी किया जा सकता है। लंबे अंतराल के लिए, तेज गति से 4 मिनट तक दौड़ें। दौड़ने के बाद, सांस लेने के लिए जॉगिंग करें और फिर तेजी से दौड़ने के बाद फिर दौड़ना शुरू करें। मीडियम इंटरवल के लिए, नियमित रूप से वार्मअप करें और फिर 40 सेकंड तक घूमें। घूमने के बाद 2 मिनट दौड़ें। यह क्रिया आप 2 मिनट के अंतराल के बाद 4-5 बार दोहराएं। फिर एक छोटे अंतराल के बाद वार्म अप करें और चलें। 

इसे भी पढ़ें: युवराज सिंह का क्रिकेट से सन्यास, जानें कैंसर से लड़ने के बाद खुद को कैसे रखते थे फिट

आहार और आराम

व्यायाम करने के साथ, स्वस्थ आहार लेना और आराम करना बहुत ही आवश्यक है। नींद और आहार एक व्यक्ति की फिटनेस का एक प्रमुख हिस्सा है। आप जो खाते हैं वह अपके अंदर सहनशक्ति बढ़ाने में भी मदद करता है। अपने स्वास्थ्य के लिए एक डाइट चार्ट बनाएं और उसे फॉलो करें। प्रोसेस्ड और वसायुक्त भोजन का सेवन कम करें। सुनिश्चित करें कि आप अपने आहार में अनाज और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। इसके अलावा, अपने आहार में प्रोटीन और ताजे फल और सब्जियां शामिल करें।

Read More Articles On Diet & Fitness In Hindi

Disclaimer