COVID-19 से रिकवरी के बाद रोगी हो सकते हैं पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर और ब्रेन फॉग का शिकार

COVID-19 से उबरने के बाद कई स्वास्थ्य जोखिम हैं जो लोगों के सामने आते हैं। ब्रेन फॉग और PTSD को भी इसकी प्रमुख समस्याओं के रूप में माना जा रहा है। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtPublished at: Oct 12, 2020Updated at: Oct 12, 2020
COVID-19 से रिकवरी के बाद रोगी हो सकते हैं पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर और ब्रेन फॉग का शिकार

कोरोनावायरस महामारी में इस वायरस से लड़ना केवल एक ही चीज नहीं है, बल्कि इसके भविष्य में पड़ने वाले प्रभाव भी दुनिया को परेशान कर रहे हैं। डॉक्टर और शोधकर्ता इस महामारी से लड़ने के लिए जितना संभव हो, उतना अच्‍छा विवरण और उपाय इकट्ठा करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। कोरोनावायरस ने न केवल संक्रमित व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, बल्कि इससे रिकवरी के बाद भी व्‍यक्ति को कुछ नुकसान होते हैं। वैज्ञानिकों नें COVID-19 से जुड़ी बहुत सारी जटिलताओं के बारे में पाया है और अब उनमें से एक न्‍यूरोलॉजिकल यानि तंत्रिका संबंधी समस्या है। एक नए अध्‍ययन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि COVID-19 से रिकवरी के बाद ठीक हुए लोगों में पोस्ट-ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर या PTSD और ब्रेन फ्रॉग एक आम समस्‍या है। आइए ये रिसर्च क्‍या कहती है, विस्‍तार में जानने के लिए लेख को आगे पढ़ें। 

COVID-19 के मनोवैज्ञानिक प्रभाव

ग्‍लोबल हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन COVID-19 के मनोवैज्ञानिक प्रभावों के बारे में बात कर रहे हैं कि यह कैसे लोगों के मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहा है। जिसमें उनका कहना है चिंता और घबराहट एक आम समस्‍या हो गई है। लेकिन एक साइकेट्रिस्ट के अनुसार, आजकल हम जो चिंता महसूस कर रहे हैं वह सामान्य नहीं है, बल्कि पैथोलॉजिकल है। हम संक्रमण को पकड़ने की तुलना में नए सामान्य चीजों में तालमेल बिठाने के बारे में अधिक चिंतित हैं।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 महामारी ने पुरूषों की तुलना में महिलाओं को किया है ज्‍यादा प्रभावित, चिंता और उदासी के बढ़े मामले

PTSD

पोस्ट-रिकवरी के बाद मरीज हो सकते हैं PTSD और ब्रेन फॉग से पीड़ित 

पत्रिका 'क्लिनिकल न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट' ने एक अध्ययन प्रकाशित किया, जिसमें दिखाया गया है कि कोरोनोवायरस से उबरने के बाद लोग न्यूरोलॉजिकल लक्षणों का अनुभव कैसे करते हैं। इस अध्ययन में कोरोनावायरस रिकवरी के बाद मरीजों में उल्लिखित दो प्रमुख जटिलताएं हैं PTSD और ब्रेन फॉग।

सिरदर्द , खराब एकाग्रता, थकान, एंग्‍जायटी अटैक, अनिद्रा या सोने में कठिनाई, ये कुछ चीजें हैं, जो कोविड से रिकवरी के बाद रोगियों द्वारा महसूस की जाती हैं। कुछ मामलों में, संक्रमण मस्तिष्क को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचा सकता है।

इस अध्ययन के प्रमुख लेखक और न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट एंड्रयू लेविन कहते हैं: " न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए है कि पीटीएसडी कुछ ऐसी चीज है, जिस पर आप विचार करना चाहते हैं। क्‍योंकि  COVID- 19 से ठीक हुए या रिकवर लोगों के बीच लगातार संज्ञानात्मक और भावनात्मक कठिनाइयों का मूल्यांकन कर सकते हैं। जब हम किसी को न्यूरोसाइकोलॉजिकल परीक्षण के लिए देखते हैं, तो हम उनसे उनके सर्वश्रेष्ठ, अपेक्षाकृत बोलने पर उम्मीद करते हैं। अगर हम अपने मूल्यांकन के दौरान एक मनोरोग की पहचान करते हैं, और यदि हम मानते हैं कि हालत के लक्षण उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की क्षमता में हस्तक्षेप कर रहे हैं, तो हम चाहते हैं कि पहले इलाज किया जाए और फिर एक बार परीक्षण किया जाए।'' 

इसे भी पढ़ें: प्लाज्मा डोनर के प्लाज्मा डोनेट करने के 3-4 महीने बाद ही नष्ट हो जाते हैं कोविड-19 के एंटीबॉडीज: रिसर्च

COVID-19  And Post-Traumatic Stress Disorder

अध्‍ययन के दूसरे लेखक एरिन कासेदा के अनुसार, "एक बार जब उनका इलाज हो जाता है, तो उम्मीद है कि उनके मनोरोग लक्षणों में से कुछ का निवारण होगा, अगर संज्ञानात्मक शिकायतें और न्यूरोसाइकोलॉजिकल परीक्षणों की कमी अभी भी हैं, तो यह अधिक सबूत है कि कुछ और चल रहा है।"

कोरोनावायरस का यह आघात मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति को बिगाड़ने का एक कारण बन सकता है। यह एक  इसलिए, जो लोग संक्रमित हुए हैं और उसके बाद ठीक हो जाते हैं, उन्हें अपने शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य की देखभाल करने की आवश्यकता होती है। यदि नजरअंदाज किया जाता है, तो यह जीवन भर की कमजोरी का कारण बन सकता है।

Read More Article On Health News In Hindi 

Disclaimer