PCOS के लिए डाइट प्लान: डॉक्टर से जानें पीसीओएस में क्या खाएं और क्या नहीं

पीसीओएस के लिए डाइट प्लान में क्या शामिल करें व क्या नहीं उसके लिए वजन नियंत्रण करने के साथ खानपान पर ध्यान देना जरूरी है। एक्सपर्ट की राय जानें।

Satish Singh
Written by: Satish SinghPublished at: Sep 13, 2021Updated at: Sep 13, 2021
PCOS के लिए डाइट प्लान: डॉक्टर से जानें पीसीओएस में क्या खाएं और क्या नहीं

पीसीओएस (Polycystic Ovary Syndrome) की बीमारी में वजन को नियंत्रण में रखना बेहद ही जरूरी होता है। ताकि बीमारी से बचाव किया जा सके। आज के दौर में महिलाओं में यह बीमारी काफी सामान्य है। इसलिए इस बीमारी को लेकर महिलाओं में जागरूकता भी जरूरी है। इस बीमारी के होने पर क्या खाना चाहिए और क्या नहीं इसके लिए हम जमशेदपुर के बाराद्वारी की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रेमलता से बात करेंगे। वहीं जानेंगे कि बीमारी के होने पर मरीज की डाइट प्लान कैसी हो, किन चीजों का सेवन करना चाहिए व किसका सेवन नहीं करना चाहिए। वहीं किन-किन सावधानियों को बरतना चाहिए।

पीसीओएस में वेट मैनेजमेंट है बेहद जरूरी

डॉक्टर बताती हैं कि मरीज का वजन उसकी उम्र व लंबाई के अनुसार होनी चाहिए। बीमारी से पीड़ित मरीज का कैलोरी-प्रोटीन इनटेक सही होना चाहिए। कई केस में यह देखा गया है कि मरीज कैलोरी इनटेक करते हैं, ऐसे में इनसुलिन तो बनता है लेकिन वो अपना काम सही तरह से नहीं करता है। इस कारण ब्लड शुगर लेवल में बढोतरी होती है। डॉक्टर बैलेंस डाइट की सलाह देते हैं ताकि इंसुलिन रजिस्टेंस सही बना रहे। इसमें मरीज को विटामिन, मिनरल्स व कार्बोहाइडेड उचित मात्रा में सेवन करने को कहते हैं। कॉम्पलेक्स कार्बोहाइडेड का सेवन करने की सलाह देते हैं। इसमें ऐसे खाद्य पदार्थ का सेवन करने की सलाह नहीं देते हैं, जिससे ब्लड शुगर लेवल एकाएक बढ़ जाए। इसमें वैसे खाद्य पदार्थ की सलाह दी जाती है जो धीरे-धीरे पचे, शरीर उसे धीरे-धीरे एब्जॉर्ब करे ताकि ब्लड शुगर लेवल एकाएक न बढ़े। 

PCOS Diet

कॉम्पलेक्स कार्बोहाइडेड में इसका करें सेवन

कॉम्पलेक्स कार्बोहाइडेड में मटर, दाल, अनाज व सब्जियों के सेवन करना उचित होता है। वहीं सब्जियों के साथ फलों में सेब, पपीता, अनानास का सेवन करें। फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना भी पीसीओएस के मरीजों के लिए लाभकारी होता है। इसमें आप चाहें तो ओट्स और दलिया आदि का सेवन कर सकती हैं। 

ब्रेकफास्ट में इन खाद्य पदार्थ का कर सकते हैं सेवन

एक्सपर्ट बताती हैं कि पीसीओएस की बीमारी से ग्रसित मरीज चाहें तो ब्रेकफास्ट में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे ओट्स, दलिया आदि का सेवन करने के साथ स्प्राउट्स, भूजा हुआ चना, सूप, काटे हुए फल का सेवन कर सकते हैं। इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेड तत्वों की वजह से ये आसानी से एब्जॉर्ब किए जा सकते हैं। 

इन खाद्य पदार्थों का कर सकते हैं सेवन

लो फैट मिल्क और अन्य प्रोडक्ट्स

एक्सपर्ट बताते हैं कि यदि आप भारतीय हैं व शाकाहारी हैं तो आपको लो फैट मिल्क प्रोडक्ट का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा टोफू, सोया मिल्क, दही, अनाज, फल व सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। 

पानी को लेकर नहीं है प्रतिबंध

एक्सपर्ट बताती हैं कि बीमारी से पीड़ित महिलाओं व युवतियों को पानी को लेकर किसी प्रकार का प्रतिबंध नहीं है। एक महिला सामान्य रूप से जितना पानी पीना चाहिए उतना पी सकती है।

5 से छह ग्राम नमक का सेवन 

एक्सपर्ट बताती हैं कि बीमारी से पीड़ित महिलाएं रोजाना पांच से छह ग्राम नमक का सेवन करें। इसका सेवन खाद्य पदार्थों के साथ करना बेहतर होता है। महिलाओं को इस बात का ध्यान रखना है कि जरूरत से ज्यादा नमक का सेवन नहीं करना चाहिए। 

पीसीओएस के कारण इंसुलिन रेजिस्टेंस की समस्या

स्त्री रोग विशेषज्ञ बताती हैं कि यदि इस बीमारी से ग्रसित मरीज अपना ख्याल न रखे तो उन्हें वजन बढ़ने की वजह से, हार्मोन में परिवर्तन के कारण, वजन बढ़ने से यह समस्या हो सकती है। इसलिए इस बीमारी से ग्रसित मरीजों को अपना काफी ख्याल रखना चाहिए। इसके लिए डाइट मैनेजमेंट जरूरी है। यदि वजन प्रबंधन सही से किया जाए तो अपने आप ही तमाम परेशानियां भी कम होगी। 

इसलिए इन बातों का रखें ख्याल

  • हमेशा एक्टिव रहें
  • वजन को नियंत्रण में रखें
  • खानपान पर ध्यान दें
  • >मोटापे से ग्रसित न हो
  • कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेड युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें
  • प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें

भारतीय डाइट है फायदेमंद

पीसीओएस की बीमारी के केस में एक्सपर्ट बताती हैं कि पर्याप्त न्यूट्रीशन हासिल करने के लिए, इंसुलिन रजिस्टेंस के लिए, वजन कम करने के लिए, जलन को कम करने के साथ पीसीओएस के लक्षणों को कम करने के लिए इस भारतीय डाइट को अपना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : महिलाओं के चेहरे पर मुंहासे और अनचाहे बाल हो सकते हैं PCOD का संकेत, एक्सपर्ट से जानें इसका आयुर्वेदिक इलाज

शुगर छोड़ इसका करें सेवन

लो जीआई कार्ब

  • फलियां (legumes)
  • मल्टी ग्रेन ब्रेड
  • आटा
  • रवा
  • शकरकंद
  • ओट्स
  • ब्राउन राइस

हाई जीआई कार्ब्स

  • व्हाइट राइस
  • मैदा
  • व्हाइट ब्रेड
  • आलू
PCOS Diet

नाश्ते में फ्रूट्स का सेवन

एक्सपर्ट बताती हैं कि नाश्ते में फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए, कोशिश करें कि रोजाना फलों को बदलें। फलों में प्राकृतिक तौर पर फूट शुगर होता है, ऐसे में आपको अतिरिक्त टेबल शुगर का सेवन नहीं करना चाहिए। प्रोटीन रिच डाइट के लिए आप चाहें तो नाश्ते में इसे शामिल कर सकते हैं;

  • पनीर का कुछ हिस्सा
  • उपमा का छोटा कटोरा
  • प्रोटीन शेक
  • दो अंडे

ब्रेकफास्ट व लंच के बीच में स्नैक्स न खाएं

एक्सपर्ट बताते हैं कि ब्रेकफास्ट व लंच के बीच में स्नैक्स का सेवन करने से परहेज करना चाहिए। भरपूर लंच व भरपूर ब्रेकफास्ट करना चाहिए। स्वस्थ्य लंच के लिए प्रोटीन इनटेक के लिए लीन पनीर, एग व्हाइट, मछली, चिकेन ब्रेस्ट को शामिल कर सकते हैं। वहीं लो जीआई कार्ब में उपमा, शकरकंद, ब्राउन राइस व रोटी का सेवन कर सकते हैं। 

यदि आप वर्कआउट करती हैं तो उसके बाद ये खाएं

यदि आप वर्कआउट करती हैं तो वर्कआउट के बाद छोटे बाउल में फ्रूट्स का सेवन कर सकती हैं। लेकिन यदि आप वर्कआउट नहीं करते तो इसका सेवन करने से परहेज करना चाहिए। 

डिनर में यह खाएं

लंच के समान ही भोजन रखें लेकिन इसमें कार्ब की बजाय इसके वैकल्पिक खाद्य पदार्थों का सेवन करें। सलाद का सेवन करें। ऐसा कर फैट कम कर सकते हैं। क्योंकि पीसीओएस की बीमारी में फैट कम करना बेहतर रहता है। अच्छा डाइट प्लान करने के लिए आप डायटीशियन या फिर एक्सपर्ट की सलाह ले सकतीं हैं। 

हेल्दी बैलेंस डाइट के साथ फिजिकली रहें एक्टिव

एक्सपर्ट बताती हैं कि पीसीओएस की बीमारी होने पर बैलेंस डाइट अपनाने के साथ फिटनेस पर काफी ध्यान देना चाहिए। ताकि बीमारी से ठीक हुआ जा सके। इसके लिए आप चाहें तो डॉक्टर की सलाह के साथ स्त्री रोग विशेषज्ञ की सलाह ले सकतीं हैं। ताकि बीमारी से निजात पा सकें। एक्सपर्ट की सलाह लेकर यदि आप उसे फॉलो करेंगी तो निश्चित तौर पर काफी फायदा होगा।

Read More Articles On Womens

Disclaimer