दिव्यांग बच्चों के समुचित विकास के लिए होती है खास पोषण की जरूरत, जानें ऐसे बच्चों के लिए डाइट प्लान

दिव्‍यांग बच्‍चों को स्‍पेशल डाइट की जरूरत होती है ज‍िसके जर‍िए उनका व‍िकास सही ढंग से हो पाता है, आप भी जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Sep 08, 2021Updated at: Sep 08, 2021
दिव्यांग बच्चों के समुचित विकास के लिए होती है खास पोषण की जरूरत, जानें ऐसे बच्चों के लिए डाइट प्लान

द‍िव्‍यांग बच्‍चों की सेहत और डाइट में गहरा नाता होता है। इन बच्‍चों की देखभाल से लेकर खाने तक का ज‍िम्‍मा पूरी तरह से पर‍िवार का होता है इसल‍िए आपको इनकी डाइट का खास खयाल रखना जरूरी होता है। अगर आपके घर में या आसपास कोई ऐसे बच्‍चे हैं तो आपको उनकी डाइट में जरूरी न्‍यूट्र‍िएंट्स जैसे फाइबर, मैग्‍न‍िश‍ियम, फोलेट, पोटैश‍ियम, व‍िटाम‍िन सी, व‍िटाम‍िन ए को एड करना चाह‍िए। इस लेख में हम द‍िव्‍यांग बच्‍चों के ल‍िए जरूरी पोषण, डाइट आद‍ि से जुड़ी बातों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने एनएचएम यूपी के एड‍िशनल म‍िशन डायरेक्‍टर डॉ हीरा लाल, न्‍यूट्र‍िशन स्‍पेशल‍िस्‍ट रूपा सोनी और लखनऊ के सर रावर्ट लुईस ब्रेल विज्ञान क्लब के संस्‍थापक आलोक कुमार स‍िंह से बात की।

special child diet

(image source:raisingchildren)

द‍िव्‍यांग बच्‍चों के लि‍ए जरूरी न्‍यूट्र‍िएंट्स (Important nutrients for special child)

1. फाइबर (Fiber)

द‍िव्‍यांग बच्‍चों के शरीर में ड‍िहाइड्रेशन की समस्‍या या एक्‍सरसाइज न कर पाने के कारण मोटापे के लक्षण नजर आने लगते हैं ज‍िससे बचने के ल‍िए आपको बच्‍चे को फाइबर र‍िच डाइट देनी चाह‍िए। फाइबर र‍िच डाइट में आपको राजमा, छोले, साबुत अनाज, मकई, नाशपाती, सेब, दाल, ओट्स आद‍ि देना चाह‍िए।

 2. मैग्‍न‍िश‍ियम (Magnesium)

मैग्‍न‍िश‍ियम र‍िच डाइट में आपको जरूरी पोषक तत्‍वों को अपनी डाइट में शाम‍िल करना चाह‍िए। एवोकाडो में भी कई पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं साथ ही उसमें मैग्‍निश‍ियम की भी अच्‍छी मात्रा होती है आप बच्‍चे को ख‍िला सकते हैं। इसके अलावा टोफू, केला, साबुत अनाज, पत्‍तेदार साग में भी मैग्‍न‍िश‍ियम की अच्‍छी मात्रा होती है।

इसे भी पढ़ें- दिव्यांग (Disabled) और व्हील चेयर वाले लोगों के लिए वजन घटाने के आसान तरीके

3. फोलेट (Folate)

प्रत्‍येक व्‍यक्‍त‍ि के ल‍िए फोलेट र‍िच फूड खारना जरूरी होता है। फोलेट नट्स और बीज में मौजूद होता है। ब्रोकली, चुकंदर, लेग्‍यूम्‍स, पालक आद‍ि चीजों में भी फोलेट की अच्‍छी मात्रा होती है। आप बच्‍चे को नाश्‍ते में या खाने में सब्‍ज‍ियों का सलाद बनाकर दे सकते हैं। 

4. पोटैश‍ियम (Potassium)

क‍िशम‍िश में पोटैश‍ियम की भरपूर मात्रा होती है, आप इसे बच्‍चे की डाइट में शाम‍िल कर सकते हैं। क‍िशम‍िश को बच्‍चे को रोजाना गरम दूध के साथ दें या क‍िशमिश का पेस्‍ट बनाकर दूध में म‍िलाकर भी बच्‍चे को दे सकते हैं। पोटैश‍ियम र‍िच फूड में आप तरबूज, आलू, एवोकाडो आद‍ि चीजों को भी शाम‍िल कर सकते हैं। 

5. व‍िटाम‍िन ए (Vitamin A)

व‍िटाम‍िन ए र‍िच फूड की बात करें तो आप बच्‍चे को हरी पत्‍तेदार सब्‍ज‍ियां, गाजर ख‍िला सकते हैं। अंडे में भी प्रोटीन और व‍िटाम‍िन ए मौजूद होता है। रोजाना नाश्‍ते में बच्‍चे को अंडे दें। अगर बच्‍चे को थायराइड है तो आपको डॉक्‍टर से सलाह लेकर उसकी डाइट तय करनी चाह‍िए।

6. व‍िटाम‍िन सी (Vitamin C)

व‍िटाम‍िन सी र‍िच फूड में आपको संतरे को शाम‍िल करना चाह‍िए। संतरे के अलावा आंवला ख‍िला सकते हैं, लेक‍िन ये आपको केवल सर्द‍ियों में म‍िलता है इसल‍िए आप इसे अचार या मुरब्‍बे के फॉर्म में स्‍टोर करके रख सकते हैं। व‍िटाम‍िन सी र‍िच फूड्स की बातर करें तो पपीता, अमरूद, नींबू को भी आप अपनी डाइट में शाम‍िल कर सकते हैं।

बच्‍चे को खाने के ल‍िए शांत माहौल दें

special child diet tips 

(image source:raisingchildren)

दिव्‍यांग बच्‍चे ज्‍यादा शोर से परेशान होते हैं इसल‍िए आपको उन्‍हें शांत माहौल में खाना ख‍िलाना चाह‍िए। लखनऊ के सर रावर्ट लुईस ब्रेल विज्ञान क्लब के संस्‍थापक आलोक कुमार स‍िंह से बताया क‍ि द‍िव्‍यांग बच्‍चों को केवल सही डाइट ही नहीं सही बैलेंस की भी जरूरत होती है, आपको ऐसे बच्‍चे को शारीर‍िक ही नहीं बल्‍कि मानस‍िक स्‍तर पर भी संभालना होता है इसल‍िए उम्र बढ़ने के साथ बच्‍चे को खुद से खाने की आदत डालें। आपको उन्‍हें टेबल पर बैठकर खुद खाना लेकर खाने का तरीका सिखाना चाह‍िए, इन बच्‍चों में सीखने की ज‍िज्ञासा होती है वो जैसा आपको करते हुए देखेंगे उसी को र‍िपीट करेंगे। द‍िव्‍यांग बच्‍चों के शैड्यूल फ‍िक्‍स कर दें, उन्‍हें उतना ही आहार दें ज‍ितनी की जरूरत है। ओवरईटिंग करवाने से बच्‍चे में मोटापे के लक्षण नजर आने लगते हैं इसल‍िए इस गलती से बचें। 

द‍िव्‍यांग बच्‍चों की डाइट में क‍िन चीजों को एड करें? (Add these foods in diet for special child)

diet for special children

(image source:wp.com)

एनएचएम यूपी के एड‍िशनल म‍िशन डायरेक्‍टर डॉ हीरा लाल ने बताया क‍ि द‍िव्‍यांग बच्‍चों के ल‍िए हैपीनेस इंडेक्‍स बढ़ाते हुए उन्‍हें हेल्‍दी खाना दें। डाइट में ढेर सारी सब्‍ज‍ियां एड करें, अलग-अलग रंग की सब्‍ज‍ियां एड करने से आपके बच्‍चे को सही पोषण म‍िलेगा। आपको बच्‍चे की डाइट में दही एड करना चाह‍िए, इससे बच्‍चे के शरीर में गुड बैक्‍टीर‍िया की मात्रा बढ़ेगी। ज्‍यादातर बच्‍चे सलाद खाने के लि‍ए तैयार नहीं होते हैं, आप सलाद को कई ड‍िशेज में एड करके दे सकते हैं, जैसे सैंडव‍िच, उपमा आद‍ि।

द‍िव्‍यांग बच्‍चे को डायबिटीज है तो इन बातों का ध्‍यान रखें  

  • अगर आपके घर में कोई ऐसा द‍िव्‍यांग बच्‍चा है ज‍िसे डायब‍िटीज भी है तो आपको उसकी डाइट का खास खयाल रखना है। 
  • ऐसे बच्‍चों को मीठे से दूर रखें, अगर बच्‍चा मीठा खाने की ज‍िद्द करता है तो आप उसे घर पर हेल्‍दी स्‍वीट बनाकर दे सकते हैं। 
  • नैचुरल स्‍वीटनेस के ल‍िए आप मेवे का इस्‍तेमाल कर सकते हैं, मेवों में नैचुरल स्‍वीटनेस होती है ज‍िसे आप हेल्‍दी स्‍वीट बना सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- एक्सरसाइज न करने और घंटों बैठने की आदत आपको बीमार और विकलांग बना सकती है: शोध

द‍िव्‍यांग बच्‍चों की डाइट में क‍िन चीजों को अवाइड करें? (Avoid these foods in diet for special child)

avoid foods

(image source:unicef)

न्‍यूट्र‍िशन स्‍पेशल‍िस्‍ट रूपा सोनी ने बताया क‍ि द‍िव्‍यांग बच्‍चों को ताजा खाना ख‍िलाएं, पैक्‍ड फूड से बच्‍चों को दूर रखें क्‍योंक‍ि इन चीजों में फैट की मात्रा बहुत अध‍िक होती है ज‍िससे मोटापा बढ़ता है। अगर बच्‍चे को कैंसर के लक्षण, छाले, बीपी, शुगर आद‍ि बीमार‍ियां हैं तो आपको डॉक्‍टर से संपर्क करके बच्‍चे की डाइट तय करनी चाह‍िए। आपको बच्‍चे को जरूरत से ज्‍यादा भोजन नहीं ख‍िलाना है, दूध, मक्‍खन, आलू बच्‍चे के शरीर के ल‍िए फायदेमंद होता है पर इसकी मात्रा को तय करें, हद से ज्‍यादा च‍िकनी चीजों का सेवन बच्‍चे को बीमार बना सकता है और उसे हार्ट से जुड़ी बीमार‍ियां हो सकती हैं। दिव्‍यांग बच्‍चों को सही डाइट देने के साथ-साथ उन्‍हें साफ-सफाई से ख‍िलाना भी जरूरी है। आपको बच्‍चे को खाना ख‍िलाते समय आसपास साफ-सफाई का पूरा ध्‍यान रखना है। 

अगर बच्‍चे को द‍िव्‍यांगता के अलावा कोई गंभीर रोग है तो आपको एक बार डायटीश‍ियन या डॉक्‍टर से सलाह जरूर लेनी चाह‍िए।

(main image source:spoonfoundation,active.com)

Read more on Children Health in Hindi 

Disclaimer