कोलेस्ट्रॉल कम करने और त्वचा रोगों को दूर करने में फायदेमंद है राई, जानें लाभ

आयुर्वेद में राई के ढेर सारे फायदे बताए गए हैं। दिखने में ये छोटे राई के दाने बड़ी-बड़ी बीमारियों से आपकी रक्षा करने में मदद करते हैं। शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा घटानी हो या त्वचा रोगों से पाना हो छुटकारा, राई आपके बड़े काम आ सकती है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Sep 19, 2018
कोलेस्ट्रॉल कम करने और त्वचा रोगों को दूर करने में फायदेमंद है राई, जानें लाभ

राई के दानों का प्रयोग भारतीय रसोई में मसाले के रूप में किया जाता है। सरसों के ये छोटे गोल दाने सेहत और सौंदर्य दोनों के लिए बहुत फायदेमंद हैं। आयुर्वेद में राई के ढेर सारे फायदे बताए गए हैं। दिखने में ये छोटे राई के दाने बड़ी-बड़ी बीमारियों से आपकी रक्षा करने में मदद करते हैं। शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा घटानी हो या त्वचा रोगों से पाना हो छुटकारा, राई आपके बड़े काम आ सकती है। आइए आपको बताते हैं कि कितने फायदेमंद हैं राई के दाने और क्या हैं इनके स्वास्थ्य लाभ।

न्यूट्रिएंट्स और मिनरल्स से भरी है राई

राई का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। खाना बनाने में राई का प्रयोग तड़का लगाने में किया जा सकता है। इसके अलावा राई और मेथी की खिचड़ी भी बहुत स्वादिष्ट होती है। राई के दानों को अचार, चटनी, सब्जी आदि में प्रयोग किया जाता है। ये दाने इसलिए फायदेमंद होते हैं क्योंकि इनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, ओमेगा-3 फैटी एसिड, मैग्नीशियम, सेलेनियम , फास्फोरस, मैगनींज, कॉपर, आयरन और विटामिन बी1 प्रचुर मात्रा में होता है। इसके अलावा इसमें फाइबर की मात्रा भी अच्छी होती है।

इसे भी पढ़ें:- रोजाना 1 कप तुलसी की चाय कम करती है अर्थराइटिस का दर्द और शुगर लेवल

राई करेगी कोलेस्ट्रॉल कम

राई के प्रयोग से आपका बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल धीरे-धीरे कम हो जाता है और कंट्रोल में रहता है। राई में नियासिन यानि विटामिन बी-3 होता है, जो कोलेस्ट्रॉल के नियंत्रण के लिए एक जरूरी विटामिन है। कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अपने रोज के खाने में राई के दानों का प्रयोग करें। इसके अलावा आप रोज रात में दो चम्मच राई भिगो दें। सुबह जब राई पूरी तरह फूल जाए, तो राई को छान लें। इस राई के पानी को सुबह खाली पेट पिएं और राई के दानों को सूखा खाएं या फल, सलाद, चटनी आदि में मिलाकर खाएं। इससे आपका कोलेस्ट्रॉल तेजी से कम होगा और दिल की बीमारियों का खतरा भी कम हो जाएगा।

दस्त और पेटी की बीमारियों में राई

एंटीसेप्टिक और रोधी गुणों के साथ राई का प्रमुख गुण पाचक होता है। पेट के कीड़े इसका पानी पीने से मर जाते हैं।चुटकीभर राई के चूर्ण को पानी के साथ घोलकर बच्चों को देने से वे रात में बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते है। यदि किसी व्यक्ति को लगातार दस्त हो रहे हों तो हथेली में थोड़ी सी राई लेकर हल्के गुनगुने पानी में डाल दिया जाए और रोगी को पिला दिया जाए तो काफी आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें:- बदलते मौसम में हो गया है जुकाम बुखार, तो जरूरी है इन 4 चीजों से बचाव

कैंसर से भी बचाते हैं राई के दाने

राई में फीटोन्यूट्रिएंट्स पाया जाता है जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर को रोकने में मदद करता है। साथ ही यह नए कैंसर को पनपाने से रोकता भी है। इसमें मौजूद मिरोसिनेज शरीर में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। यह शरीर को हैल्दी रखने और बीमारियों से लडने में बहुत सहायक है।

त्वचा रोगों में फायदेमंद है राई

राई में मौजूद पोषक तत्वा रोगों में फायदेमंद होते हैं। किसी भी प्रकार का त्वचा रोग होने पर राई के दानों को पीसकर, सरसों के तेल में मिलाकर लगाने से लाभ मिलता है। इसके अलावा राई नेचुरल स्क्रब का काम भी करता है। इसे गुलाबजल के साथ लगाने से चेहरे की डेड स्किन हटती है। राई के सेवन से बुढ़ापा बहुत देर में आता है। त्वचा को हाइड्रेट करने के लिए, एजिंग को धीमा करने के लिए, इंफेक्शन को दूर करने के लिए और नेचुरल स्क्रब के रुप में राई का इस्तेमाल लाभकारी होता है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Alternate Therapy in Hindi

Disclaimer