Expert

मॉनसून के लिए रुजुता ने बताए 5 देसी सुपर फूड, डाइट में शामिल करने से मिलेंगे कई फायदे

मॉनसून का मौसम सेहत के लिहाज से काफी नाजुक माना जाता है। इस दौरान खाने पीने में की गई छोटी सी गलती अपनी सेहत पर बुरा असर डाल सकती है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Aug 09, 2022Updated at: Aug 09, 2022
मॉनसून के लिए रुजुता ने बताए 5 देसी सुपर फूड, डाइट में शामिल करने से मिलेंगे कई फायदे

Rujuta Diwekar Nutrition Food: मॉनसून का मौसम सेहत के लिहाज से काफी नाजुक माना जाता है। हवा में मौजूद नमी के कारण मॉनसून में कुछ भी गलत खाया या पिया जाए तो ये सेहत पर विपरीत असर डाल सकता है। इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी घर के बुजुर्गों और बच्चों को होती है। क्योंकि उनकी गट हेल्थ 20 से 35 साल वालों के मुकाबले काफी कमजोर होती है। इसलिए उन्हें तला या मसालेदार खाना दिया जाए, तो ये उनकी पाचन क्रिया पर असर डाल सकता है। अब सवाल उठता है कि आखिरकार मॉनसून के मौसम में किया क्या जाए। ऐसा क्या खाया जाए जिससे पेट और सेहत दोनों हेल्दी रह सकें।

सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट और डाइटिशियन रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्टाग्राम पर मॉनसून के सुपरफूड्स की जानकारी दी हैं। रुजुता का मानना है कि मॉनसून हो या फिर सर्दी का मौसम हमेशा हेल्दी रहने के लिए देसी सुपरफूड का सेवन करना चाहिए।  आइए जानते हैं रुजुता दिवेकर द्वारा शेयर किए गए मॉनसून के सुपरफूड और उनके फायदों के बारे में...

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

 इसे भी पढ़ेंः Raksha Bandhan 2022: रक्षाबंधन से पहले ऐसे करें फेस क्लीनअप, बढ़ेगा चेहरे का ग्लो

सत्तू (Sattu)

मॉनसून सुपरफूड की लिस्ट में पहला नंबर आता है सत्तू का। सत्तू शरीर को कैल्शियम , फोलिक एसिड, विटामिन, लाइसिन, अमीनो एसिड जैसे कई पोषक तत्व प्रदान करता है। मॉनसून के मौसम में सत्तू का सेवन करने से डिहाइड्रेशन की समस्या दूर होती है। बारिश और हवा की नमी के कारण जिन लोगों को मॉनसून में बाल झड़ने की समस्या हो जाती है, उन्हें भी सत्तू का सेवन करने की सलाह दी जाती है। महिलाएं अगर नियमित तौर पर सत्तू का सेवन करती हैं तो इससे पीरियड्स के दौरान होने वाली ऐंठन से राहत पाने में मदद मिल सकती है।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

देसी मक्का या भुट्टा

मॉनसून के मौसम में सेहतमंद रहने के लिए रुजुता देसी मक्का या भुट्टा खाने की सलाह देती हैं। भुट्टा में पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी और फोलिक एसिड पाया जाता है, जो पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाए रखने में मदद करता है। भुट्टे का सेवन करने से एनीमिया से बचाव करने में भी मदद मिलती है। साथ ही भुट्ट में आयरन की भरपूर मात्रा पाई जाती है, जो शरीर में आयरन की कमी को पूरा करने में मदद करता है। 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)


अरबी के पत्ते

मॉनसून के मौसम में ग्रामीण इलाकों में अरबी के पत्ते यूं ही खेत के किनारे उग आते हैं। भारत में अरबी के पत्तों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक औषधि के रूप में किया जा रहा है। अरबी  के पत्तों में बीटा-कैरोटीन, विटामिन-ए जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। मॉनसून के मौसम में अरबी के पत्तों का सेवन किया जाए तो आंखों की परेशानी से निजात दिलाने में मददगार साबित हो सकता है। इसके अलावा ये कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित करने, हार्ट हेल्थ, हाई ब्लड प्रेशर और पाचन तंत्र को हेल्दी बनाए रखने में भी मददगार साबित होता है।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

देसी खजूर/ खजूर

खजूर में कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट, शुगर, विटामिन बी6 भी पाया जाता है। रुजुता के मुताबिक मॉनसून के मौसम में खजूर का सेवन करने से हीमोग्लोबिन का स्तर सुधरता है। साथ ही ये संक्रमण और एलर्जी से बचाव करने में भी मददगार साबित होता है। खजूर में पर्याप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जो कब्ज, आंतों की सूजन और चिड़चिड़ापन को दूर रखने में मददगार साबित होता है। 

इसे भी पढ़ेंः हड्डियों को मजबूत रखने के लिए शिल्पा शेट्टी करती हैं ये योगासन, जानें फायदे

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

रागी

रागी में भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं। जो लोग वजन घटाने की प्लानिंग कर रहे होते हैं उन्हें भी रागी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। रागी एक ग्लूटेन फ्री अनाज है जो तनाव को घटाने में सहायक है। इसके अलावा एंग्ज़ायटी, डिप्रेशन और अनिद्रा से निपटने में भी रागी का नियमित सेवन बहुत फायदेमंद साबित होता है। आप रागी को रोटी, हलवा या शेक बनाकर अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। 

 
Disclaimer