लॉकडाउन से दुनियाभर में 1.5 अरब बच्चें मानसिक रूप से प्रभावित, कहीं आपका बच्चा तो नहीं है परेशान करें ये उपाय

देश-दुनिया में लॉकडाउन होने के कारण लोगों के काम के अलावा, दुनिया भर के स्कूल-कॉलेजों को बंद कर दिया गया है, जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Apr 18, 2020Updated at: Apr 18, 2020
लॉकडाउन से दुनियाभर में 1.5 अरब बच्चें मानसिक रूप से प्रभावित, कहीं आपका बच्चा तो नहीं है परेशान करें ये उपाय

20 लाख से ज्यादा पॉजिटिव मामले और डेढ़ लाख मौतों के साथ कोरोनोवायरस महामारी दुनिया भर में कहर बरपा रही है। डर और घबराहट की भावना पैदा करने के अलावा, कोरोना ने हमारे दैनिक जीवन को हिला कर रख दिया है। बड़ी तेजी से फैलने वाले इस नोवल कोरोनावायरस को रोकने के लिए अंतिम उपाय के रूप में भारत सहित अधिकांश देशों ने अपनी-अपनी सीमाओं को बंद कर दिया है और अपने-अपने देशों में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाया हुआ है। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन जैसे सुरक्षात्मक उपायों से महामारी पर अंकुश लगाने में मदद मिल सकती है खासकर तब तक, जब तक कि कोई प्रभावी समाधान नहीं मिल जाता है। इसका मतलब यह भी है कि हम तब तक अपने सामान्य जीवन में वापस नहीं जा सकते हैं। देश-दुनिया में लॉकडाउन होने के कारण लोगों के काम के अलावा, दुनिया भर के स्कूल-कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। स्कूल बंद होने और घर से बाहर निकलने की मनाही ने बच्चों को खासा प्रभावित किया है। जानें कैसे बच्चें हो रहे प्रभावित। 

kids

कैसे कोरोनावायरस बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर डाल रहा प्रभाव

ऐसे वक्त में जब लाखों लोग इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान कई चीजों से संघर्ष कर रहे हैं वहीं दुनिया भर के समुदायों के लिए भी एक चुनौती धीरे-धीरे चुपचाप लगातार बढ़ रही हैं और वह ये है कि बच्चों पर COVID-19 के प्रकोप के प्रभाव पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जा रहा है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि तत्काल उपायों के बिना दुनिया भर में बच्चों के लिए स्थिति खराब हो सकती है। यूनिसेफ (संयुक्त राष्ट्र बाल कोष) के अनुसार, 188 देशों के स्कूल बंद होने के कारण 1.5 अरब से अधिक बच्चे और युवा प्रभावित हैं। यह संख्या वैश्विक छात्र आबादी का लगभग 90 प्रतिशत है।

इसके अलावा, लॉकडाउन के परिणामस्वरूप परिवार और बच्चें अपने-अपने घरों के अंदर कैद है, ये उन बच्चों के लिए बेहद खतरनाक स्थिति है, जो पहले से ही मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति से परेशान है। घर में बंद रहने से बच्चों में चिड़चिड़ापन और चिंता बढ़ रही है, जो आपस में टकराकर घर में तनाव और झगड़े का कारण बन रही है। जिसके कारण घरेलू हिंसा और दुर्वयहार के मामलों में वृद्धि हो रही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि परिवार काफी हद तक अपने घरों तक ही सीमित रहने के लिए मजबूर हैं।

इसे भी पढ़ेंः लॉकडाउन से भी ज्यादा जरूरी है 'हैंड लॉकडाउन', जानें वायरस से कैसे बचाएं अपने हाथ

अध्ययन में सामने आई चौंकाने वाली बातें 

ब्रिटेन में मानसिक बीमारी के इतिहास वाले 25 साल की उम्र तक के 2111 व्यक्तियों पर मानसिक स्वास्थ्य संस्था चैरिटी यंगमाइंड्स द्वारा एक अध्ययन किया गया। इस अध्ययन में यह पाया गया कि 83 प्रतिशत लोग इस बात से सहमत थे कि महामारी ने उनकी मानसिक स्वास्थ्य स्थिति को प्रभावित किया है और इसे बदतर बना दिया है, जबकि 26 प्रतिशत ने बताया कि वे COVID-19 के प्रकोप के कारण आवश्यक मानसिक स्वास्थ्य सहायता प्राप्त करने में सक्षम नहीं थे।

school

बढ़ रहा पढ़ाई का अंतर 

वहीं बात करें एजुकेशन सेक्टर की तो भले ही स्कूल ऑनलाइन शिक्षा प्रदान कर इस अंतर को पाटने की पूरी कोशिश कर रहे हों, लेकिन सभी के पास आवश्यक उपकरणों या इंटरनेट कनेक्शन तक पहुंच नहीं है। नियमित कक्षा शिक्षा के अभाव में, बच्चों के लिए स्क्रीन समय निश्चित रूप से बढ़ गया है। यह उन्हें उन वेबसाइटों के लिए अनुपयोगी पहुंच के जोखिम में भी डालता है जो उनके लिए उपयुक्त नहीं हैं। इसके साथ ही बच्चों पर साइबरबुलिंग का शिकार होने का भी खतरा मंडरा रहा है। यही कारण है कि कोरोनोवायरस का प्रकोप युवा दिमाग पर कितना प्रभाव डाल रहा है, इसे समझने के लिए और उसी के लिए तेजी से कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ेंः घर में रहने के दौरान करें घर के ये 5 काम, तन और मन रहेगा स्‍वस्‍थ, बर्न होगी कैलोरी

क्या कर सकते है हम 

माता-पिता और अभिभावक के रूप में, यह महत्वपूर्ण हो गया है कि बच्चों और युवाओं के लिए एक दैनिक अध्ययन कार्यक्रम निर्धारित किया जाए। यह समझा जा सकता है कि स्कूल के पाठ्यक्रम और कक्षाओं को घर पर तैयार नहीं कराया जा सकता है लेकिन प्राथमिकता होनी चाहिए कि उपलब्ध संसाधनों के साथ शिक्षा जारी रखी जा सके। रोज़ाना परिवार के साथ संवाद और विचार-विमर्श के महत्व को समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे ये जानने में मदद मिलेगी कि घर के छोटे सदस्य क्या कर रहे हैं।  इस बात को ध्यान रखना जरूरी है कि बहुत सारे बच्चे पहले से ही लिंग आधारित हिंसा, शोषण और यहां तक कि दुर्व्यवहार के जोखिम में हो सकते हैं और समाज के सबसे कमजोर वर्ग की रक्षा के लिए सरकार और वैश्विक समुदायों को एक साथ आने की जरूरत है।

सोर्स (टाइम्स ऑफ इंडिया)

Read More Articles On Coronavirus In Hindi

Disclaimer