भारत में कोरोनावायरस की दस्तक, केरल से सामने आया पहला मामला

केरल से कोरोनावायरस के पहले मामले की पुष्टि हुई है। पीड़ित वुहान विश्वविद्यालय का छात्र है।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 30, 2020Updated at: Feb 05, 2020
भारत में कोरोनावायरस की दस्तक, केरल से सामने आया पहला मामला

चीन में दहशत फैलाने और हाहाकार मचाने के बाद अब भारत में कोरोनावायरस (novel coronavirus) ने दस्तक दे दी है। केरल में कोरोनावायरस के पहले मामले की पुष्टि हो गई है। मरीज चीन के वुहान यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहा था।

प्रेस इंफोर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ऑफ इंडिया ने एक बयान जारी कर कहा है कि विद्यार्थी केरल का रहने वाला है। बयान में आगे कहा गया कि मरीजे के नोवल कोरोनावायरस के टेस्ट पॉजीटिव पाए गए हैं और उसे अस्पताल के आइजोलेशन वार्ड में रखा गया है। मरीज की हालत स्थिर बताई जा रही है और उसपर करीब से नजर रखी जा रही है।

2019-नोवल कोरोनावायरस दुनियाभर के चिकित्सा विशेषज्ञों के लिए चिंता का विषय बन गया है। इस महामारी की शुरुआत चीन के वुहान शहर से पिछले साल दिसंबर में हुई थी। अभी तक इस वायरस के कारण 170 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

इसे भी पढ़ेंः आयुष मंत्रालय का होम्योपैथिक, यूनानी दवाओं से कोरोनावायरस की रोकथाम का दावा, सोशल मीडिया पर उड़ा मजाक

इसबीच केरल की स्वास्थ्य मंत्री के.के. शैलजा ने स्वास्थ्य सचिव और डायरेक्टरेट ऑफ हेल्थ सर्विसेज के अन्य अधिकारियों के साथ बैठक की ताकि हालात का जायजा लिया जा सके।

समाचार एजेंसी पीटीआई की खबर के मुताबिक, केरल के त्रिशूर, तिरुवनंतपुरम , पठानमिट्टा और मालापुरुम से एक-एक व्यक्ति और एर्नाकुलम जिसे से तीन लोगों को विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है।

Corona-Virus

एहतियात के रूप में भारत के स्वास्थ्य अधिकारियों ने ज्यादातर लोगों पर चिकित्सा की दृष्टि से नजर बनाई हुई है। देश के विभिन्न हवाईअड्डों पर चीन से आने वाले यात्रियों की कोरोनावायरस संक्रमण के लक्षणों की जांच शुरू कर दी गई है।

इसे भी पढ़ेंः क्या है कोरोनावायरस? कहां से फैला, लक्षण और कितना है खतरनाक, जानें वायरस से बचाव के उपाय

समाचार एजेंसी रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि वुहान से भारतीय नागरिकों को लाया जा रहा है, जो कि कोरोनावायरस का केंद्र है। लेकिन यह संक्रमण के खतरे को कम करने का सबसे अच्छा विकल्प नहीं है। लेकिन इसके कारण नागरिकों पर दबाव बढ़ रहा है, जिसमें से अधिकर छात्र हैं।

इस सप्ताह भारत ने एक सरकार के स्वामित्व वाले हवाईजहाज को तैयार किया है, जो वुहान जाएगा लेकिन अभी उसे चीनी अधिकारियों से इसकी मंजूरी नहीं मिली है। चीनी अधिकारी फिलहाल वुहान से लोगों को निकालने की प्रक्रिया शुरू करने का प्रयास कर रहे हैं।

नाम न छापने की शर्त पर अधिकारी ने एजेंसी को बताया कि केवल उन्हीं लोगों को एयरलिफ्ट किया जाएगा, जिनमें वायरस नहीं है। उन लाए गए लोगों को दिल्ली से बाहर बने स्वास्थ्य केंद्र में रखा जाएगा।

Read More Health News In Hindi

Disclaimer