कलौंजी के बीजों का सही प्रयोग करने से कंट्रोल हो सकती हैं ये 9 बीमारियां, जानें इस्तेमाल का तरीका

कलौंजी को सही तरह से इस्‍तेमाल करने पर आप कई बीमार‍ियों से राहत पा सकते हैं, आइए जानते हैं कैसे

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 16, 2021Updated at: Jun 16, 2021
कलौंजी के बीजों का सही प्रयोग करने से कंट्रोल हो सकती हैं ये 9 बीमारियां, जानें इस्तेमाल का तरीका

कलौंजी में फाइबर, आयरन, सोड‍ियम, कैल्‍श‍ियम की भरपूर मात्रा होती है। कलौंजी को स्‍क‍िन और बीमार‍ियों से जुड़ी कई समस्‍याओं में इस्‍तेमाल क‍िया जाता है जैसे डायब‍िटीज, बीपी, अस्‍थमा, प‍िगमेंटेशन आद‍ि। कलौंजी में व‍िटाम‍िन ए, बी, बी12, सी मौजूद होता है। आप कलौंजी का तेल, बीज या कलौंजी पाउडर को कई तरह से इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इस लेख में हम जानेंगे क‍ि कलौंजी के फायदे क्‍या हैं और अलग-अलग समस्‍याओं में कलौंजी को इस्‍तेमाल करने का सही तरीका क्‍या है। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

kalonji benefits

1. अस्‍थमा के मरीज कर सकते हैं कलौंजी का सेवन (Use kalonji in asthma)

प्रदूषण के चलते अस्‍थमा के मरीजों को सांस लेने में परेशानी होती है, ऐसे में वो कलौंजी का सेवन करें तो उन्‍हें अस्‍थमा के दौरान होने वाली खांसी से आराम म‍िलेगा। कलौंजी का सेवन करने के ल‍िए एक टीस्‍पून कलौंजी पाउडर को गुनगुने पानी में म‍िलाएं और शहद डालें। इस ड्र‍िंक को पीने से खांसी ठीक होगी। 

2. ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल करने में मददगार है कलौंजी (Use kalonji to control blood pressure)

ब्‍लड प्रेशर कंट्रोल करने के ल‍िए आप कलौंजी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। ज‍िन लोगों को हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या है वो एक टीस्‍पून कलौंजी के पाउडर को गुनगुने पानी में डालकर इसका सेवन करें। 

3. टाइप 2 डायब‍िटीज में करें कलौंजी का सेवन (Use kalonji to control blood sugar)

टाइप 2 डायब‍िटीज में कलौंजी फायदेमंद मानी जाती है। ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल करने के ल‍िए डायब‍िटीज के मरीज कलौंजी (black cumin) के बीज या पाउडर को ब्‍लैक में म‍िलाकर खाली पेट पी सकते हैं।

4. जोड़ों का दर्द है तो इस्‍तेमाल करें कलौंजी (Use kalonji to cure joint pain)

कलौंजी की मदद से आप अपने जोड़ों का दर्द दूर कर सकते हैं। ज‍िन ज्‍वॉइंट्स में दर्द है वहां कलौंजी के तेल की माल‍िश करें, इससे दर्द दूर हो जाएगा क्‍योंक‍ि कलौंजी के बीज में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, इससे दर्द दूर हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें- कलौंजी के तेल के 6 फायदे और 4 नुकसान, बता रहे हैं आयुर्वेदाचार्य

5. कोलेस्‍ट्रॉल कम करने में मददगार है कलौंजी (Use kalonji to control cholesterol)

kalonji uses

हार्ट से जुड़ी समस्‍याओं के ल‍िए बैड कोलेस्‍ट्रॉल को जिम्‍मेदार माना जाता है। बैड कोलेस्‍ट्रॉल का लेवल बॉडी में कंट्रोल करने के ल‍िए आप  कलौंजी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कलौंजी को पीसकर पाउडर बना लें और उसे रोजाना दूध के साथ लें, इससे आपका द‍िल स्‍वस्‍थ्‍य रहेगा। 

6. दांत की तकलीफ में काम आएगी कलौंजी (Use kalonji to cure teeth related problems)

अगर आपके दांत में दर्द है या मसूड़ों से खून न‍िकल रहा है तो इस समस्‍या का देसी नुस्‍खा बेहद आसान है। आप दांत से जुड़ी इन समस्‍याओं के ल‍िए कलौंजी का इस्‍तेमाल करें। आधा टीस्‍पून कलौंजी के तेल को एक कप दही में म‍िलाएं और दांत या मसूड़ों पर द‍िन में दो बार लगाएं। इस म‍िश्रण को15 म‍िनट लगाकर धो लें। 

7. माइग्रेन या तेज स‍िर दर्द में इस्‍तेमाल करें कलौंजी (Use kalonji to cure migraine)

अगर आपके स‍िर में तेज दर्द या माइग्रेन के कारण दर्द हो तो आप कलौंजी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कलौंजी के तेल को स‍िर पर मलने से स‍िर का दर्द दूर हो जाएगा और आपको आराम म‍िलेगा। 

8. त्‍वचा से जुड़ी समस्‍याओं को दूर करने में फायदेमंद है कलौंजी (Use kalonji to cure skin problems)

कलौंजी को आप त्‍वचा से जुड़ी समस्‍याओं के ल‍िए इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कलौंजी से स्‍क‍िन प्रॉब्‍लम जैसे प‍िगमेंटेशन को दूर क‍िया जा सकता है क्‍योंक‍ि कलौंजी में मल्‍टीव‍िटाम‍िन मौजूद होते हैं। कलौंजी को चेहरे पर इस्‍तेमाल करने के ल‍िए आप कलौंजी के तेल को नार‍ियल के तेल में म‍िलाकर रूई की मदद से लगा लें और 15 म‍िनट बाद चेहरा धो लें। 

इसे भी पढ़ें- वजन कम करने में कलौंजी है मददगार, जानें इसके तेल और बीज के फायदे और नुकसान

9. बालों में इंफेक्‍शन हो तो इस्‍तेमाल करें कलौंजी (Use kalonji to cure hair problems)

कलौंजी (black cumin) में कई न्‍यूट्र‍िएंट्स मौजूद होते हैं, ज‍िन लोगों को हेयरफॉल या कमजोर बाल या स्‍कैल्‍प इंफेक्‍शन की समस्‍या होती है वो कलौंजी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कलौंजी के बीज को पीसकर पाउडर बना लें। पाउडर में दही म‍िलाएं और बालों पर लगा लें। आधे घंटे बाद बाल धो लें। आप इस उपाय को हफ्ते में एक से दो बार ट्राय कर सकते हैं। 

कलौंजी का इस्‍तेमाल करते समय इन बातों का ध्‍यान रखें (Precaution tips while using kalonji)

  • कलौंजी का तेल इस्‍तेमाल कर रहे हैं तो उसे क‍िसी न क‍िसी कैरियर ऑयल जैसे नार‍ियल या बादाम का तेल के साथ इस्‍तेमाल करें।
  • कलौंजी के तेल को आप दो से तीन बूंद से ज्‍यादा एक बार में इस्‍तेमाल न करें। 
  • कलौंजी के पाउडर का सेवन कर रहे हैं तो पानी या दूध के साथ करें। 
  • कलौंजी के पाउडर का सेवन करते समय उसकी मात्रा एक या आधा टीस्‍पून ही रखें। 

कि‍सी तरह की बीमारी या इंफेक्‍शन के श‍िकार हैं तो डॉक्‍टर से सलाह लेकर ही इन उपायों का इस्‍तेमाल करें। 

Read more on Home Remedies in Hindi 

Disclaimer