। स्थिति को गंभीर स्तर तक पहुंचने में कई साल या कई दशक लग सकते हैं, जिससे लक्षण स्पष्ट हो जाते हैं।

"/>

Hypertension: सिरदर्द और सांस लेने में दिक्‍कत हाई ब्‍लड प्रेशर के हैं संकेत, इन 5 नुस्‍खों से तुरंत करें कंट्रोल

उच्च रक्तचाप आमतौर पर एक साइलेंट कं‍डीशन है। । स्थिति को गंभीर स्तर तक पहुंचने में कई साल या कई दशक लग सकते हैं, जिससे लक्षण स्पष्ट हो जाते हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
अन्य़ बीमारियांWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Jul 26, 2019Updated at: May 04, 2022
Hypertension: सिरदर्द और सांस लेने में दिक्‍कत हाई ब्‍लड प्रेशर के हैं संकेत, इन 5 नुस्‍खों से तुरंत करें कंट्रोल

उच्‍च रक्‍तचाप यानी हाई ब्‍लड प्रेशर (High Blood Pressure or Hypertension) को साइलेंट किलर भी कहा जाता है, क्‍योंकि यह बिना किसी लक्षण के लोगों के शरीर में दस्‍तक दे जाता है। उच्च रक्तचाप, तब होता है जब आपका रक्तचाप अस्वस्थ स्तर तक बढ़ जाता है। आपके रक्तचाप का माप इस बात को ध्यान में रखता है कि आपके रक्त वाहिकाओं से कितना रक्त गुजर रहा है और हृदय को पंप करते समय रक्त की कितनी मात्रा मिलती है। 

संकीर्ण धमनियां प्रतिरोध को बढ़ाती हैं। आपकी धमनियां जितनी संकरी होंगी, आपका रक्तचाप उतना ही अधिक होगा। लंबे समय तक, बढ़ा हुआ दबाव हृदय रोग सहित कई अन्‍य रोगों का कारण बन सकता है। उच्च रक्तचाप आमतौर पर कई वर्षों के दौरान विकसित होता है। कई बार इसके लक्षण समझ नहीं आते हैं, इसलिए यह लक्षणों के बिना भी, उच्च रक्तचाप आपके रक्त वाहिकाओं और अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है, विशेष रूप से मस्तिष्क, हृदय, आंखें और गुर्दे

हालांकि इसकी शुरुआती पहचान जरूरी है। नियमित रूप से रक्तचाप रीडिंग आपको और आपके डॉक्टर को किसी भी बदलाव को नोटिस करने में मदद कर सकते हैं। यदि आपका रक्तचाप बढ़ा हुआ है, तो हो सकता है कि आपका डॉक्टर कुछ हफ्तों तक आपके रक्तचाप की जांच कर कर इसकी स्थिति का पता लगा सकता है। उच्च रक्तचाप के लिए उपचार में दवा और स्वस्थ जीवन शैली में बदलाव दोनों शामिल हैं। यदि इस स्थिति का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह दिल के दौरे और स्ट्रोक सहित कई अन्‍य स्वास्थ्य समस्‍याएं पैदा हो सकती हैं।

उच्‍च रक्‍तचाप के लक्षण- Symptoms of Hypertension In Hindi

blood pressure

उच्च रक्तचाप आमतौर पर एक साइलेंट कं‍डीशन है। बहुत से लोग किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं करते हैं। स्थिति को गंभीर स्तर तक पहुंचने में कई साल या कई दशक लग सकते हैं, जिससे लक्षण स्पष्ट हो जाते हैं। फिर भी, इन लक्षणों को अन्य समस्‍याओं के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। गंभीर उच्च रक्तचाप के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • सिर दर्द
  • सांस लेने में दिक्‍कत 
  • नाक से खून आना 
  • फ्लशिंग
  • सिर चकराना
  • छाती में दर्द
  • दृश्य परिवर्तन
  • मूत्र में रक्त

इन लक्षणों के लिए तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता होती है। वे उच्च रक्तचाप के साथ सभी में नहीं होते हैं, लेकिन इस स्थिति के लक्षण के लिए इंतजार करना घातक हो सकता है। हालांकि, यहां हम आपको कुछ आसान घरेलू नुस्‍खों के बारे में बता रहे हैं जो आपके ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में आपकी मदद करेगा। इन नुस्‍खों का प्रयोग आप एक्‍सपर्ट की देखरेख में ही करें। 

इसे भी पढ़ें: कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ गया है तो इन 5 तरीकों से कर लें कंट्रोल, ह्रदय रोगों से मिलेगा छुटकारा

उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित रखने के नुस्‍खे- Home Remedies For Hypertension In Hindi 

लहसुन: आप रोजाना एक कली लहसुन को एक चम्‍मच शहद के साथ सेवन कर सकते हैं। लहुसन में मौजूद बायोएक्टिव सल्‍फर हाई ब्‍लड प्रेशर के लिए काफी लाभदायक है। 

आंवला: एक ग्‍लास पानी में दो चम्‍मच आंवले का रस मिलाएं और रोजाना इसे खाली पेट पीएं। 

मेथी के बीज: एक ग्‍लास गर्म पानी में आधा चम्‍मच मेथी के बीज डाल दीजिए फिर इसे रात भर भिगा कर रखें, सुबह खाली पेट इस पानी का सेवन करें। 

शहद: शहद में बड़ी मात्रा में एंटीबायोटिक्‍स, माइक्रोन्‍यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्‍सीडेंट्स पाए जाते हैं। दिन में तीन बार अजवाइन के पत्‍तों का रस शहद में मिलाकर पीएं। 

प्‍याज का रस: प्‍याज के रस को इस्‍तेमाल करने के लिए इसे शहद के साथ अच्‍छी तरह से मिला लें। रोजाना इसका सुबह और शाम बराबर मात्रा में सेवन करें।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer