Doctor Verified

सुबह-सुबह महसूस होती है जोड़ों में अकड़न? जानें बचाव के उपाय

जोड़ों में अकड़न महसूस होने पर सुबह-सुबह दर्द और सूजन महसूस हो सकती है। इससे बचने के ल‍िए कुछ आसान उपाय जान लें

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Oct 14, 2022 10:42 IST
सुबह-सुबह महसूस होती है जोड़ों में अकड़न? जानें बचाव के उपाय

क्‍या आपको भी सुबह-सुबह उठकर जोड़ों में अकड़न महसूस होती है? जोड़ों में अकड़न का मुख्‍य कारण अर्थराइट‍िस या कैल्‍श‍ियम की कमी माना जाता है। दवाओं के ज्‍यादा सेवन से भी जोड़ों में अकड़न महसूस हो सकती है। कुछ लोग रात को एक ही करवट सोते हैं ज‍िसके कारण उन्‍हें जोड़ों में सूजन और दर्द हो सकता है। सुबह-सुबह महसूस होने वाली जोड़ों की अकड़न शरीर के कई ह‍िस्‍सों में हो सकती है। हाथ, उंगल‍ियां, कलाई, पैर, कोहनी, कंधा, गर्दन और अन्‍य जोड़ों में अकड़न हो सकती है। सुबह इस तकलीफ से गुजरते हैं, तो बचाव के कुछ आसान उपाय जान लें। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

stiffness treatment in hindi

1. स्‍ट्रेच‍िंग करें 

सुबह-सुबह जोड़ों में अकड़न महसूस होती है, तो स्‍ट्रेच‍िंग एक कारगर उपाय है। स्‍ट्रेच‍िंग की मदद से अकड़े हुए जोड़ और मसल्‍स र‍िलैक्‍स होते हैं। मोशन बेहतर होता है। स्‍ट्रेच‍िंग के अलाव वॉक करना, साइक‍िल चलाना आद‍ि ग‍त‍िव‍िध‍ियों को भी द‍िनचर्या में शाम‍िल कर सकते हैं। स्‍ट्रेच‍िंंग सीखने के ल‍िए प्रशि‍क्ष‍ित ट्रेनर की मदद लें।    

इसे भी पढ़ें- जोड़ों के दर्द का घरेलू उपाय : एक्सपर्ट से जानें 11 नुस्खे जिनसे जॉइंट पेन में मिलेगा जल्द आराम

2. तनाव कम करें

जोड़ों में अकड़न का कारण तनाव भी हो सकता है। तनाव में व्‍यक्‍त‍ि का रक्‍त प्रवाह प्रभाव‍ित होता है क्‍योंक‍ि हार्ट रेट और ब्‍लड प्रेशर बढ़ता या घटता है। रक्‍त प्रवाह प्रभाव‍ित होने का सीधा असर जोड़ों पर पड़ता है। तनाव कम करने के ल‍िए डीप ब्रीद‍िंग एक्‍सरसाइज कर सकते हैं। योगा, मेड‍िटेशन की मदद से मन शांत होता है। द‍िनभर में कम से कम 30 से 40 म‍िनट योगा को दें। अनुलोम-व‍िलोम करने से भी तनाव घटता है।  

3. सोकर घटाएं जोड़ों में अकड़न 

आप सोच रहे होंगे क‍ि भला सोकर या नींद पूरी करने से जोड़ों में अकड़न से कैसे बचा जा सकता है। नींद पूरी करना ठीक वैसा है जैसे गाड़ी में पेट्रोल भरवाना। अर्थराइट‍िस फाउंडेशन की मानें, तो एक र‍िसर्च में बताया गया है क‍ि जो लोग नींद पूरी नहीं करते, उन्‍हें ज्‍यादा दर्द महसूस होता है। नींद पूरी न होने के कारण शरीर में सूजन और दर्द की समस्‍या बढ़ सकती है। जोड़ों में अकड़न से बचने के ल‍िए नींद पूरी करके उठें।   

4. कैल्‍श‍ियम युक्‍त आहार लें 

ऐसे आहार लें ज‍िनमें कैल्‍श‍ि‍यम की भरपूर मात्रा हो। कैल्‍श‍ियम युक्‍त भोजन खाने से हड्ड‍ियां मजबूत होती हैं। हड्ड‍ियों में कमजोरी के कारण सुबह-सुबह अकड़न महसूस हो सकती है। कैल्‍श‍ियम र‍िच फूड्स की बात करें, तो पालक, पुदीना, मेथी, चना, बीन्‍स, दाल, ब्रोकली, गोभी, केल, सरसों, संतरा, अंगूर जैसे खट्टे फल, बादाम, नार‍ियल, पनीर, दही और दूध आद‍ि का सेवन कर सकते हैं।  

ऊपर बताए उपायों से तकलीफ कम न हो, तो डॉक्‍टर को द‍िखाएं। ये अर्थराइट‍िस या कैल्‍श‍ियम की कमी का एक मुख्‍य लक्षण भी हो सकता है। समय रहते दवाओं की मदद से मसल्‍स की समस्‍या को दूर क‍िया जा सकता है। समय बीतने पर तकलीफ बढ़ सकती है। 

Disclaimer