Milk Allergy: अगर शरीर में हो जाए दूध से एलर्जी तो दिखते हैं ये 6 लक्षण, जान लें बचाव

दूध से एलर्जी होने पर कुछ लक्षण नजर आते हैं, जिसके कारण व्यक्ति असामान्य महसूस करता है। जानते हैं दूध से एलर्जी के लक्षणों के साथ-साथ उसके बचाव भी

Garima Garg
Written by: Garima GargUpdated at: Apr 08, 2021 19:39 IST
Milk Allergy: अगर शरीर में हो जाए दूध से एलर्जी तो दिखते हैं ये 6 लक्षण, जान लें बचाव

आमतौर पर दूध से एलर्जी की समस्या बच्चों में देखी गई है लेकिन ऐस नहीं है कि ये समस्या व्यस्कों को नहीं होती। बता दें, हर उम्र के लोगों में इसके लक्षण अलग- अलग नजर आते हैं। दूध से एलर्जी की समस्या हर उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। अब सवाल यही है कि दूध से एलर्जी की समस्या क्यों उत्पन्न होती है तो बता दें कि दूध में जो प्रोटीन मौजूद होता है शरीर जब उसके प्रति विपरीत प्रतिक्रिया देता है तो ऐसे समय में एलर्जी पैदा होती है। इस परिस्थिति के दौरान इम्यूनिटी सिस्टम दूध के प्रोटीन से प्रभावित होता है और एलर्जी के रूप में पेट, दर्द, डायरिया, चकत्ते आदि की समस्या पैदा होती है। आज का हमारा लेख इसी विषय पर है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि दूध से एलर्जी होने पर किस प्रकार के लक्षण नजर आते हैं। साथ ही हम उसके बचाव भी जानेंगे। पढ़ते हैं आगे...

दूध एलर्जी के मुख्य लक्षण (symptoms of milk allergy)

बता दें कि दूध एलर्जी के लक्षण हर व्यक्ति में भिन्न होते हैं। यह लक्षण दूध के सेवन से कुछ समय बाद ही नजर आने शुरू हो जाते हैं। जानते हैं इनके बारे में...

1 - जी मचलाना या उल्टी आना।

2 - शरीर पर पित्ती उछलना।

3 - सांस फूलने के साथ-साथ खांसी होना।

4 - गले में सूजन होना

5 - होंठ और जीभ में दर्द के साथ सूजन महसूस करना।

6 - दूध पीने के कुछ मिनटों बाद ही होंठ में खुजली या मुंह के चारों तरफ खुजली महसूस करना।

इससे अलग व्यक्ति में कुछ और लक्षण नजर आते हैं जैसे पेट में दर्द, पेट का खराब हो जाना, पेट में ऐठन महसूस करना, माइग्रेन की समस्या, सिर दर्द की समस्या, घुटन महसूस करना, निगलने में समस्या महसूस करना, डायरिया हो जाना, नाक बहना, आंखों से पानी आना आदि।

इसे भी पढ़ें- गर्मी में दूध पीते समय रखें इन 7 बातों का ध्यान, वरना हो सकता है सेहत को नुकसान

दूध एलर्जी के कारण

जैसा कि हमने पहले भी बताया कि दूध से एलर्जी तब होती है जब दूध में मौजूद प्रोटीन के प्रति हमारा शरीर विपरीत प्रतिक्रिया देता है। ऐसे में प्रतिरक्षा प्रणाली पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हम जानते हैं कि प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लड़ती है ऐसे में जब प्रतिरक्षा प्रणाली प्रोटीन के प्रति अपनी प्रतिक्रिया देती है तो प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होनी शुरू हो जाती है क्योंकि प्रतिरक्षा प्रणाली को लगता है कि वह प्रोटीन के प्रति नहीं लड़ पाएगी जबकि असल में प्रोटीन प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान नहीं पहुंचाता है।

वैसे तो यह समस्या बच्चों में होती है लेकिन बड़ों में भी इस तरह की समस्या देखी गई है। कुछ माएं अपने शिष्यों को पाउडर मिल्क का दूध पिलाती हैं, जिससे इस तरह की समस्या देखी गई है।

दूध एलर्जी से कैसे बचें (prevention of milk allergy)

जैसा कि हमने पहले भी बताया कि आमतौर पर यह समस्या जन्म से ही होती है जो कि बड़े होकर खुद ब खुद ठीक हो जाती है। लेकिन कुछ स्थितियां ऐसी भी होती है जब व्यस्क होने पर भी इस तरह की एलर्जी देखने को मिलती है। ऐसे में निम्न सावधानी बरतनी जरूरी है-

1 - अगर आप बाहर खाना खाने जा रहे हैं तो वेटर को बताएं कि आपको दूध से एलर्जी है साथ ही आप दूध, दही, घी, मक्खन, चीज आदि दूध युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें।

2 - आमतौर पर डॉक्टर ऐसे लोगों को बाहर का खाना खाने के लिए मना करते हैं। वे उन्हें सलाह देते हैं कि वह घर के खाने का ही सेवन करें।

3 - अपनी डाइट में दूध युक्त खाद्य पदार्थों को निकालें।

4 - दूध रहित खाद्य पदार्थों के लिए आप किसी एक्सपर्ट की सलाह भी ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- स्तनपान छुड़ाने से पहले शिशु में डालें इन 5 फूड्स की आदत, हमेशा रहेगा स्वस्थ

बता दें कि दूध से एलर्जी का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर मौखिक रूप से पहले जांच करते हैं। वैसे तो खाद एलर्जी में यह जानना मुमकिन नहीं कि इसके पीछे छिपा कारण क्या है लेकिन डॉक्टर परीक्षण के साथ-साथ आपका कुछ शारीरिक परीक्षण या चिकित्सा इतिहास के बारे में भी पूछ सकते हैं। आमतौर पर डॉक्टर स्किन टेस्ट और ब्लड टेस्ट की सलाह देते हैं। स्किन टेस्ट के दौरान डॉ आपकी त्वचा पर छोटा सा कट लगाते हैं और उसमें दूध में पाए जाने वाले प्रोटीन को डालते हैं। अगर पित्ती उछलती है तो वह समझ जाते हैं कि आपको दूध से एलर्जी है।

कुछ घरेलू उपचार

आप अपनी डाइट में थोड़ा सा बदलाव करके भी एलर्जी को दूर कर सकते हैं।

1 - अपनी डाइट में मैग्नीशियम और कैल्शियम को ऐड करें। इनकी मदद से एलर्जी के लक्षणों को दूर किया जा सकता है और यह प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है ऐसे में आप केला, ताजा सब्जियां आदि को अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं।

2 - आप अनार और चुकंदर के साथ-साथ गाजर के रस को भी अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं।

3 - दूध एलर्जी के इलाज के लिए अदरक भी अच्छा विकल्प है।

4 - हल्दी से भी दूध एलर्जी के लक्षणों से छुटकारा पाया जा सकता है इसके अंदर सूजनरोधी गुण पाए जाते हैं।

5 - एलर्जी को दूर करने के लिए शहद भी अच्छा विकल्प है।

नोट - ऊपर बताए गए बिंदुओं से पता चलता है कि आमतौर पर यह समस्या बच्चों और शिशुओं के लिए है लेकिन कुछ लक्षण व्यस्क लोगों में भी दिखते हैं। ऐसे में इन लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। साथ ही अपनी डाइट में बदलाव के माध्यम से एलर्जी के लक्षणों को दूर कर सकते हैं। लेकिन अगर ऊपर बताए गए प्राकृतिक उपायों में से किसी भी चीज से आपको एलर्जी है तो उसे अपनी डाइट में शामिल ना करें। वरना इससे लक्षण और गंभीर रूप ले सकते हैं। साथ ही अपनी डाइट में बदलाव करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

ये लेख पारस हॉस्पिटल गुरुग्राम की चीफ डाइटीशियन नेहा पठानिया द्वारा दिए गए इनपुट्स पर बनाया है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer