Doctor Verified

डायब‍िटीज के कारण झेल रहे हैं पैरों का दर्द? बदल कर देखें ये 5 आदतें

Leg Pain During Diabetes: डायब‍िटीज में पैरों के दर्द से बचने के ल‍िए लाइफस्‍टाइल और रोजमर्रा से जुड़ी कुछ आदतों को तुरंत बदल दें।   

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 17, 2022 08:00 IST
डायब‍िटीज के कारण झेल रहे हैं पैरों का दर्द? बदल कर देखें ये 5 आदतें

डायब‍िटीज में शुगर लेवल बढ़ने या गलत डाइट का सेवन करने से पैरों में दर्द की समस्‍या बढ़ जाती है। कुछ मामलों में पैरों का दर्द असहनीय बन सकता है। नसों में रक्‍त संचार प्रभाव‍ित होने का असर शरीर के बाक‍ि अंगों में भी पड़ सकता है। डायब‍िटीज में संक्रमण या व‍िटाम‍िन्‍स की कमी के कारण भी रोग‍ियों को पैर में दर्द की समस्‍या होती है। डायब‍िटीज में पैर दर्द का कारण कुछ गलत आदतें भी हो सकती हैं ज‍िनके बारे में हम आगे बात करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।  

leg pain in diabetes

1. डायब‍िटीज में कसरत न करना 

डायब‍िटीज में कसरत न करने से वजन बढ़ जाता है। वजन बढ़ने से पैर में दर्द और सूजन की समस्‍या हो सकती है। इससे रक्‍त प्रवाह पर बुरा असर पड़ता है। ज‍िन लोगों को डायब‍िटीज की बीमारी होती है, उन्‍हें रोजाना कम से कम 40 से 50 म‍िनट कसरत करना चाह‍िए। डाय‍ब‍िटीज में स्‍ट्रेच‍िंग एक्‍सरसाइज की मदद से भी ब्‍लड फ्लो को बेहतर क‍िया जा सकता है।  

इसे भी पढ़ें- डायबिटीज के कारण सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं ये 4 अंग, जानें कैसे करें बचाव  

2. डायब‍िटीज में मसाले वाला भोजन खाना  

शुगर की बीमारी में नर्व पेन एक आम समस्‍या होती है। नसों में दबाव के कारण पैरों में दर्द होता है। गलत डाइट का सेवन करने से पैरों में दर्द और सूजन बढ़ सकती है। रोग‍ियों को हेल्‍दी फैट्स का सेवन करना चाह‍िए जैसे ऑल‍िवा ऑयल। इसके अलावा फल और ताजी सब्‍ज‍ियों को अपनी डाइट में शाम‍िल करें।     

3. धूम्रपान का सेवन करना

डायब‍िटीज में धूम्रपान का सेवन करना एक बुरी आदत है। इससे नसों और मांसपेश‍ियों पर बुरा असर पड़ता है। डायब‍िटीज में नशीले पदार्थों का सेवन करने से ब्‍लड फ्लो खराब होता है। इस आदत को छोड़ दें। धूम्रपान का सेवन करने से डायब‍िटीज में दवाओं का असर कम हो जाता है इसल‍िए स‍िगरेट, तंबाकू, एल्‍कोहल आद‍ि से बचें। 

4. ब्‍लड शुगर का स्‍तर चेक न करना 

ब्‍लड शुगर लेवल बढ़ने के कारण पैरों में दर्द की समस्‍या होती है। ज‍िन लोगों को डायब‍िटीज होती है, उन्‍हें शुगर लेवल कंट्राेल में रखना चाह‍िए। समय-समय पर शुगर लेवल चेक करें। असामान्‍य लक्षण नजर आने पर डॉक्‍टर से संपर्क करें। कुछ लोग डाइट में असंतुलन और गलत लाइफस्‍टाइल के चलते भी शुगर लेवल बढ़ा लेते हैं। शुगर लेवल कंट्रोल करने के ल‍िए सबसे पहले शुगर स्‍तर को मॉन‍िटर करना शुरू करें।

5. पर्याप्‍त मात्रा में पानी न पीना 

शरीर में ड‍िहाइड्रेशन का एक लक्षण मांसपेश‍ियों में दर्द भी होता है। ड‍िहाइड्रेशन से बचने के ल‍िए पानी के साथ-साथ जूस, नार‍ियल पानी, हर्बल टी और सब्‍ज‍ियों के ताजे रस का सेवन कर सकते हैं। डायब‍िटीज में पैकेज्‍ड जूस का सेवन करने से बचें। इनमें मौजूद आर्टि‍फ‍िश‍ियल शुगर, ब्‍लड शुगर लेवल को बढ़ा सकती है।   

ऊपर बताई इन 5 आदतों को बदलकर आप डायब‍िटीज में असामान्‍य लक्षण जैसे पैरों में दर्द की समस्‍या से बच सकते हैं।      

Disclaimer