Doctor Verified

डायबिटीज के दौरान डिप्रेशन से बचने के लिए करें ये बदलाव, डॉक्टर से जानें आसान टिप्स

डायब‍िटीज के साथ ड‍िप्रेशन होने पर शारीर‍िक समस्‍याएं बढ़ने लगती हैं। ड‍िप्रेशन से बचने के कुछ आसान तरीके जान लें। 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Dec 24, 2022 15:00 IST
डायबिटीज के दौरान डिप्रेशन से बचने के लिए करें ये बदलाव, डॉक्टर से जानें आसान टिप्स

ज‍िन लोगों को डायब‍िटीज होती है उनमें ड‍िप्रेशन के लक्षण ज्‍यादा नजर आते हैं। इसके साथ ही ड‍िप्रेशन से पीड़‍ित मरीजों में डायब‍िटीज का खतरा ज्‍यादा होता है। डायब‍िटीज और ड‍िप्रेशन के बीच का संबंध गहरा है। ज‍िन लोगों को डायब‍िट‍िक न्‍यूरोपैथी की समस्‍या होती है उनमें ब्‍लड वैसल्‍स ब्‍लॉक होने के कारण ड‍िप्रेशन के लक्षण बढ़ने लगते हैं। ड‍िप्रेशन और डायब‍िटीज का बुरा असर शरीर पर पड़ता है। ड‍िप्रेशन के कारण हाई बीपी, मोटापा, स‍िर दर्द आद‍ि लक्षण बढ़ने लगते हैं। इस लेख में हम जानेंगे डायब‍िटीज में ड‍िप्रेशन से बचने के कुछ आसान तरीके। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।   

depression in hindi

जीवनशैली में क्‍या बदलाव करें? 

डायबि‍टीज और ड‍िप्रेशन से बचने के ल‍िए अपने रूटीन पर गौर करें। रूटीन से जुड़े छोटे बदलावों की मदद से ड‍िप्रेशन और हाई ब्‍लड शुगर लेवल से बच सकते हैं। इन बदलावों को आज ही जीवनशैली में शाम‍िल कर ले- 

  • मेड‍िटेशन को अपनाने से ड‍िप्रेशन से बच सकते हैं। लेक‍िन हाई बीपी के मरीज हैं, तो एक्‍सपर्ट की न‍िगरानी में ही ध्‍यान करें।
  • अपनी डाइट में साबुत अनाज, डेयरी उत्‍पाद, ओमेगा 3, ताजे फल और सब्‍ज‍ियों को जंक फूड, ऑयली खाने से र‍िप्‍लेस करें।
  • अपने रूटीन में स्‍टेप्‍स काउंट बढ़ाएं। अपने फोन की मदद से चेक करें क‍ि आप द‍िनभर में क‍ितने कदम चलते हैं। उससे डबल स्‍टेप्‍स को रूटीन में शाम‍िल कर लें और धीरे-धीरे बढ़ाएं।  

इसे भी पढ़ें- डिप्रेशन या तनाव होने पर पिएं ये 5 तरह की चाय, जल्द रिलैक्स हो जाएंगे आप  

खानपान की आदतों में करें बदलाव 

खानपान की गलत आदतों के कारण डायब‍िटीज का स्तर बढ़ने लगता है। डायब‍िटीज का स्‍तर बढ़ने के कारण मानस‍िक तनाव भी बढ़ सकता है। इन समस्‍याओं से बचने के ल‍िए अपनी गलत‍ियों पर गौर करें। डायब‍िटीज में मरीज आर्ट‍िफ‍िश‍ियल शुगर पर न‍िर्भर हो जाता है। उसे लगता है मीठी चीजों का सेवन करने के बजाय आर्टि‍फ‍िश‍ियल शुगर का सेवन करके डायबि‍टीज को कंट्रोल क‍िया जा सकता है जबक‍ि ऐसा नहीं है। इसके अलावा समय पर खाना खाएं। ब्‍लड शुगर लेवल को न‍ियंत्र‍ित रखने के ल‍िए जरूरी है क‍ि आप समय पर खाना खाएं। कई लोग सुबह उठकर देर से ब्रेकफास्‍ट करते हैं जबक‍ि उठने से 1 घंटे के भीतर आपको द‍िन का पहला मील खा लेना चाह‍िए। 

अच्‍छी आदतों को अपनाएं 

अपने रूटीन में अच्‍छी आदतों को शाम‍िल करेंगे तो शुगर का बढ़ता स्‍तर और ड‍िप्रेशन दोनों से बच पाएंगे। डायब‍िटीज कंट्रोल करने से ड‍िप्रेशन से भी बचा जा सकता है। डायब‍िटीज का स्‍तर कंट्रोल करने के ल‍िए समय-समय पर डायब‍िटीज चेक करें। डायब‍िटीज के मरीजों को हर द‍िन पर्याप्‍त नींद की भी जरूरत होती है। नींद पूरी न करने से डायब‍िटीज में ड‍िप्रेशन के लक्षण बढ़ सकते हैं। 

वजन घटाकर डायब‍िटीज और ड‍िप्रेशन से बचें 

डायब‍िटीज और ड‍िप्रेशन से जूझ रहे हैं, तो इसका कारण आपका बढ़ता वजन भी हो सकता है। शरीर में शुगर का स्‍तर बढ़ने के कारण वजन भी तेजी से बढ़ने लगता है। वजन बढ़ने के कारण लोग अक्‍सर तनाव में आ जाते हैं और उनकी मानस‍िक सेहत भी प्रभाव‍ित होती है। वजन घटाने के ल‍िए रोजाना कम से कम 50 म‍िनट कसरत करें। रात को 7 बजे तक ड‍िनर कर लें। पर्याप्‍त मात्रा में पानी का सेवन करें। चावल, सॉस, गेहूं की रोटी, ब्रेड आद‍ि का सेवन न करें। इन आसान बदलावों से आप एक महीने में दो से तीन क‍िलो वजन आसानी से घटा पाएंगे।  

ऊपर बताई आसान ट‍िप्‍स की मदद से डायब‍िटीज में ड‍िप्रेशन की समस्‍या से बच सकते हैं। लेख पसंद आया हो, तो शेयर करना न भूलें।   

Disclaimer