क्या सनस्क्रीन लगाने से हो रहे हैं मुंहासे? जानें कैसे चुनें मुंहासे वाली सेंसिटिव त्वचा के लिए सही सनस्क्रीन

सनस्क्रीन लगाने के बाद अगर आपका चेहरा फटा-फटा नजर आता है, तो आपको अपने लिए सनस्क्रीन क्रीम का चुनाव करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Monika Agarwal
त्‍वचा की देखभालWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 08, 2021Updated at: Sep 08, 2021
क्या सनस्क्रीन लगाने से हो रहे हैं मुंहासे? जानें कैसे चुनें मुंहासे वाली सेंसिटिव त्वचा के लिए सही सनस्क्रीन

सनस्क्रीन (Sunscreen Cream) लगाना आपकी स्किन के लिए जरूरी है। सनस्क्रीन का प्रयोग सिर्फ सनबर्न से बचने के लिए ही नहीं, बल्कि सूरज की किरणों से होने वाली अन्य परेशानियां जैसे स्किन कैंसर, एजिंग, पिगमेंटेशन आदि से बचने के लिए भी किया जाता है। लेकिन कुछ महिलाओं की समस्या होती है कि वह सनस्क्रीन (Sunscreen Cream) लगाने के बाद अधिक पिंपल्स का सामना करती हैं। ऐसा संभव है कि आप जिस सनस्क्रीन का प्रयोग कर रही हों उसमें मौजूद इंग्रेडिएंट्स आपकी स्किन टाइप के लिए सही न हों। इसलिए आपकी स्किन पर बहुत ज्यादा मुंहासे (एक्ने) हो गए हों। आज हम आप को बताएंगे कि ऐसी सेंसिटिव त्वचा, जिस पर मुंहासे बहुत जल्दी होते हैं, के लिए आप सही सनस्क्रीन क्रीम का चुनाव कैसे कर सकती हैं। साथ में यह भी जानिए कि आपको अपनी स्किन टाइप के हिसाब से किस प्रकार के सनस्क्रीन (Sunscreen Cream) का प्रयोग करना चाहिए।

क्या सनस्क्रीन का प्रयोग करने से हो सकते हैं एक्ने? (Can Sunscreen Cause Acne)

आप सोच रही होंगी कि सनस्क्रीन में मौजूद एक्टिव इंग्रेडिएंट्स के कारण ही आपको एक्ने या ब्रेक आउट हो रहे हैं। लेकिन सच्चाई इससे कई गुना ज्यादा दूर है। सनस्क्रीन के कुछ अन्य तत्त्व जैसे प्रिजर्वेटिव, उनमें से आने वाली सुगंध और इमोलियंट्स के कारण आपको एक्ने होते हैं। अगर आप सनस्क्रीन को अच्छे से स्टोर करके नहीं रखती हैं तो इससे भी उसमें मौजूद केमिकल और इंग्रीडिएंट ब्रेक डाउन हो जाते हैं। जिससे आपकी स्किन पर एक्ने आ जाते हैं। इसलिए सनस्क्रीन को स्टोर भी अच्छे से करने का ध्यान रखें।

sunscreen cream

सनस्क्रीन में मौजूद कौन से इंग्रेडिएंट्स एक्ने का कारण होते हैं? (Certain Ingredients May Cause Acne)

कुछ ऐसे इंग्रेडिएंट्स जो आपके पोर्स को बंद कर रहे हों वह आपकी स्किन पर एक्ने का कारण हो सकते हैं। हालांकि आपको यह भी याद रखना चाहिए कि गंदगी, ऑयल, सिबम और डेड स्किन सेल्स आदि का जमाव होने से भी एक्ने होते हैं। इसलिए आपको आपकी स्किन साफ रखनी चाहिए। अगर आप ऐसे सनस्क्रीन का प्रयोग कर लेती हैं जो आपके पोर्स को बंद कर देता है तो आप अपनी स्किन की स्थिति और अधिक खराब कर लेती हैं। आइए जानते हैं उन इंग्रेडिएंट्स के नाम।

इसे भी पढ़ें: चेहरे पर सनस्क्रीन से पहले कुछ लगाना चाहिए या नहीं? जानें एक्सपर्ट से

कोमेडोजेनिक ऑयल और बटर (Comedogenic Oil)

बहुत सी सनस्क्रीन में नारियल तेल, सोया बीन का तेल, कोकोआ बटर आदि जैसे इंग्रेडिएंट होते हैं। हालांकि यह प्राकृतिक हैं। लेकिन यह आपकी स्किन के पोर्स को बंद कर सकते हैं। इनके कारण आपको पिंपल्स हो सकते हैं इसलिए इन्हें अवॉयड करने की कोशिश करें।

मिनरल ऑयल और सिलिकॉन (Mineral Oil)

यह दो सनस्क्रीन में मुख्य तत्त्व होते हैं। यह तत्त्व आप के स्किन के पोर्स से पसीने को जाने नहीं देते। इस कारण गंदगी आदि आपके पोर्स के अंदर फंस कर रह जाती है। इसी कारण अधिकतर पिंपल्स और एक्ने होते हैं।

how to choose sunscreen cream

पैरा अमीनो बेंजोइक एसिड और अन्य केमिकल्स (PABA & Chemical)

कुछ पैरा अमीनो बेंजोइक एसिड और मिथोक्सीसिनामेट जैसे एसिड और अन्य केमिकल्स भी आपकी स्किन पर होने वाले पिंपल्स और एक्ने का कारण हो सकते हैं। अगर आपकी स्किन बहुत सेंसिटिव या एक्ने प्रॉन है तो आपका यह रिस्क और अधिक बढ़ जाता है।

बी वैक्स (Bee Wax)

वैसे तो किसी भी पेड़ से प्राप्त वैक्स या बी वैक्स आपकी स्किन के लिए बहुत ही लाभदायक होते हैं। यही नहीं आपकी स्किन इन्हें सहन भी कर जाती है। लेकिन कुछ स्किन प्रकार जैसे सेंसिटिव स्किन या एक्ने प्रॉन स्किन के केस में यह पोर्स को बंद कर देते हैं। जिस कारण पिंपल्स और ब्रेक आउट हो जाते हैं।

कैसे चुनें सही सनस्क्रीन क्रीम (How to Choose The Right Sunscreen Cream)

नॉन कोमोडोजेनिक और ऑयल फ्री (Noncomedogenic)

अगर आपकी एक्ने प्रॉन स्किन है तो आपको यह जरूर सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके सन स्क्रीन में यह दोनों तत्त्व न शामिल हो रहे हों।

ऐसी डे क्रीम का प्रयोग करें जिसमें एसपीएफ हो (SPF Day Cream)

अगर आपकी स्किन बहुत ऑयली है और गर्मियों के दौरान बहुत पसीने आते हैं तो आपको स्किन को मॉइश्चराइजर और सनस्क्रीन का अलग अलग प्रयोग करने की बजाए एक ऐसी क्रीम ढूंढनी चाहिए जो दोनों लाभ दे रही हो।

इसे भी पढ़ें: रेगुलर सनस्क्रीन लगाने से दूर रहती हैं स्किन की ये 5 समस्याएं

टिंटेड सनस्क्रीन का प्रयोग करें (Tinted Cream)

अगर आपकी ऑइली स्किन है तो आप फाउंडेशन और सनस्क्रीन क्रीम का प्रयोग करने की जगह, टिंटेड सनस्क्रीन का प्रयोग करें। साथ में थोड़ा सा पाउडर लगाएं।

  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक यदि आप 25 प्लस है तो आपको 30 एम एल सनस्क्रीन अपने शरीर के हर हिस्से में लगानी चाहिए।
  • सूरज में निकलने से 15 मिनट पहले और हर 2 घंटे बाद लगाएं
  • त्वचा की केयर के साथ-साथ अपने होंठों को ना भूलें। उस पर लिप बाम या एसपीएफ वाली लिपस्टिक लगाएं।

सन स्क्रीन खरीदते समय आपको पैरा अमीनो बेंजोइक एसिड (PABA) जैसे कैमिकल अवॉइड करने चाहिए और टिंट वाला सनस्क्रीन खरीदना चाहिए।

Read More Articles on Skin Care in Hindi

Disclaimer