डायबिटीज में पिएं गुलहड़ की चाय, ब्लड शुगर कंट्रोल के अलावा सेहत को मिलेंगे कई फायदे

गुलहड़ की चाय का सेवन करने से शरीर को कई फायदे हो सकते हैं। इससे डाबिटीज भी कंट्रोल होता है। आइए जानते हैं इस बारे में-

 

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Apr 27, 2022Updated at: Apr 27, 2022
डायबिटीज में पिएं गुलहड़ की चाय, ब्लड शुगर कंट्रोल के अलावा सेहत को मिलेंगे कई फायदे

चाय एक काफी लोकप्रिय पेय माना जाता है। हम में से कई ऐसे लोगों को सुबह उठकर सबसे पहले चाय की याद आती है। चाय न सिर्फ आपको एनर्जी देता है, बल्कि यह शरीर की थकान को दूर करने में भी प्रभावी हो सकता है। लेकिन कई डायबिटीज रोगियों को चाय न पीने की सलाह दी जाती है। खासतौर पर अगर आप मीठे चाय का सेवन करते हैं, तो यह आपके ब्लड शुगर को बढ़ा सकता है। ऐसे में डायबिटीज रोगियों को हर्बल टी की ओर रूख करना चाहिए। हर्बल टी में कैफीन नहीं होता है। साथ ही यह आपके शरीर को डिटॉक्सिफाई कर सकता है। अगर आप डायबिटीज से जूझ रहे हैं, तो गुलहड़ से तैयार चाय का सेवन करें। गुलहड़ में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर के विषाक्त पदार्थों को दूर करने में प्रभावी होता है। आज हम इस लेख में जानेंगे, डायबिटीज रोगियों के लिए कैसे प्रभावी है गुलहड़ की चाय?

डायबिटीज में गुलहड़ की चाय पीने के फायदे 

गुलहड़ की चाय में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर रूप से होता है, जो आपके शरीर को डिटॉक्स करके ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में प्रभावी हो सकता है। इसके साथ ही यह चाय आपके शरीर में हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर सकता है। 

डायट मंत्रा क्लीनिक की डायटीशियन कामिनी कुमारी का कहना है कि गुलहड़ के पत्तों में इथेनॉल और एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। रिसर्च में बताया गया है कि अगर आप गुलहड़ के फूलों से तैयार अर्क का सेवन नियमित रूप से 30 दिनों तक करते हैं, तो यह आपके ग्लूकोज स्तर को कंट्रोल कर सकता है। ऐसे में गुलहड़ की चाय का सेवन करना आपके लिए काफी प्रभावी हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - गुलहड़ और चावल के आटे से तैयार करें फेस पैक, स्किन पर आएगा गुलाबी निखार

कैसे तैयार करें गुलहड़ की चाय

डायबिटीज में गुलहड़ की चाय को तैयार करने के लिए सबसे पहले फूलों को अच्छे से धो लें। इसके बाद इन फूलों को गर्म पानी में डालें। जब पानी अच्छे से उबाल जाए, तो इसमें थोड़ी सी इलायची और दालचीनी का टुकड़ा डालें। इस पानी को तब तक उबालें, जब तक पानी आधा न रह जाए। इसके बाद पानी को छान लें। अब इसके बाद आप इस चाय को पी सकते हैं। अगर आपको इसका स्वाद कड़वा लग रहा है, तो इसमें थोड़ा सा शहद या नींबू भी मिला सकते हैं। इससे आपको काफी लाभ मिलेगा। 

गुलहड़ की चाय पीने के अन्य फायदे

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

गुड़हल के फूलों और पत्तियों में बीटा-कैरोटीन, विटामिन सी और एंथोसायनिन जैसे एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो आपके शरीर को स्वस्थ रखने में प्रभावी हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट आपके शरीर को फ्री-रेडिकल्स से बचाव कर सककते हैं। खासतौर पर अगर आप डायबिटीज, कैंसर और दिल से जुड़ी बीमारियों से जूझ रहे हैं, तो यह आपके लिए काफी प्रभावी हो सकता है। 

सूजन को करे कम

गुलहड़ की चाय का सेवन करने से शरीर में सूजन की परेशानी को कम किया जा सकता है। सूजन कई बीमारियों को बढ़ने से रोकने में प्रभावी होता है। इससे कैंसर, अस्थमा, अल्जाइमर, हृदय रोग और हड्डियों से जुड़ी बीमारियां शामिल हैं। दरअसल, गुलहड़ में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है, जो सूजन को कम करने में प्रभावी हो सकता है।

कोलेस्ट्रॉल करे कम

गुलहड़ की चाय का सेवन करने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम किया जा सकता है। खासतौर पर यह चाय हाई कोलेस्ट्रॉल और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों को दूर करने मेें प्रभावी हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें - Hibiscus Flower: 'गुड़हल' के उपयोग से होते हैं ये 13 फायदे, यहां जानें इसके नुकसान भी

वजन को घटाने में प्रभावी 

गुलहड़ के फूलों से तैयार चाय का सेवन करने से आपके शरीर का वजन घट सकता है। यह मोटापा रोकने में असरदार हो सकता है। इसमें मौजूद गुण आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करती है, जिससे शरीर के बढ़ते वजन को कम किया जा सकता है। 

डायबिटीज में गुलहड़ के फूलों या पत्तियों से तैयार चाय का सेवन करना लाभकारी हो सकता है। यह चाय शरीर की अन्य परेशानियों को दूर करने में प्रभावी है। लेकिन ध्यान रखें कि अगर आप पहले से किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, तो डॉक्टर की सलाह पर ही इस चाय का सेवन करें।

Disclaimer