नशे की लत से छुटकारा दिलाएगी कालेश्वर मुद्रा, योग एक्सपर्ट से जानें तरीका

अगर आप भी नशे की लत से छुटकारा पाना चाहते हैं तो कालेश्वर मुद्रा का अभ्यास जरूर करें। यहां एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे और करने का तरीका। 

 
Kunal Mishra
Written by: Kunal MishraPublished at: May 20, 2021Updated at: May 20, 2021
नशे की लत से छुटकारा दिलाएगी कालेश्वर मुद्रा, योग एक्सपर्ट से जानें तरीका

आज के समय में नशा न केवल समाज का बल्कि हमारे स्वास्थ्य का भी दुश्मन है। खराब लाइफस्टाइल और असंतुलित खानपान के साथ ही नशा करना बहुत नुकसानदेह साबित होता है। कुछ लोग लाख कोशिशों के बाद भी अपने नशे की बुरी आदत को नहीं छुड़ा पाते हैं। ऐसे में इस लेख के माध्यम से हम आपको प्राकृतिक रूप से नशे की आदत और दिमाग को शांत करने के लिए एक खास योग मुद्रा के बारे में बताएंगे, जिसका नाम है कालेश्वर मुद्रा। कालेश्वर मुद्रा (Kalesvara Mudra) एक तरह की हस्त मुद्रा है, जिसके अभ्यास से हमारे भीतर की बुराइयां दूर होती हैं। यह मुद्रा मन में उठने वाले बुरे विचारों को दूर करती है। इससे हमारे दिमाग को सोचने-समझने की अधिक शक्ति मिलती है। हस्त मुद्रा के अंतर्गत कालेश्वर मुद्रा को विशेष महत्तव दिया गया है। क्या आपने कभी कालेश्वर मुद्रा का नाम सुना है? या इस मुद्रा का अभ्यास किया है? अगर नहीं, तो योग एक्सपर्ट प्रियंका सिंह  (Priyanka Singh, Yoga Expert) से जानें कालेश्वर मुद्रा करने के फायदों के बारे में। 

mudr

क्या है कालेश्वर मुद्रा (What Is Kalesvara Mudra)

योग एक्सपर्ट प्रियंका सिंह के मुताबिक कालेश्वर मुद्रा एक ऐसी हस्त मुद्रा है, जो हमें मानसिक शांति और सुकून प्रदान करती है। इस हस्त मुद्रा का अभ्यास आप दिन में कभी भी कर सकते हैं। अगर आप इस मुद्रा को कुछ हफ्तों तक रोजाना 15 से 20 मिनट तक करेंगे तो आप स्वयं में एक अच्छा बदलाव महसूस करेंगे। खासतौर पर यह मुद्रा आपके भीतर की गलत आदतों को बदलकर एक सकारात्मक भाव जगाती है। यह हाथों  से की जाने वाली मुद्रा है। यह आपकी शरीर से तनाव का स्तर कम कर उर्जा का संचार भरने के लिए अपने आप में काफी सक्षम है। 

इसे भी पढ़ें - अक्सर होता है सिरदर्द तो आप भी करें 'महाशीर्ष मुद्रा' का अभ्यास, जानें इस योग मुद्रा के फायदे और करने का तरीका

हस्त मुद्रा का योग में है अहम रोल (Hasta Mudra Plays Important Role in Yoga)

योग एक्सपर्ट प्रियंका सिंह का मानना है कि हमारी सेहत का पूरा कंट्रोल हमारे हाथ की अंगुलियों में है और यहीं से पूरे शरीर का संचालन होता है। हाथ की पांच अंगुलियों से ही पांच तत्वों अग्नि, वायु, आकाश, पृथ्वी और जल का बोध होता है। योग में आसनों के साथ ही हस्त मुद्राओं का भी बहुत बड़ा रोल है। कई सारी परेशानियां हस्त मुद्राओं के नियमित अभ्यास से दूर की जा सकती हैं। योग में हस्त मुद्राओ को विशेष दर्जा प्राप्त है। 

कालेश्वर मुद्रा के फायदे (Benefits of Kalesvara Mudra)

1. बुरी लतों से छुटकारा दिलाती है कालेश्वर मुद्रा (Helps in Getting Rid of Bad Addictions)

बुरी लतों से पार पाना इतना आसान नहीं होता इसके लिए आपको कई त्याग करने होते हैं। लेकिन कालेश्वर मुद्रा का अभ्यास कर आप बिना संघर्ष और ज्यादा किसी मेहनत के नशे की लत से छुटकारा पा सकते हैं।  बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो स्मोकिंग, ड्रिकिंग जैसी बुरी आदतों को छोड़ना तो चाहते हैं, लेकिन ऐसा कर नहीं पाते, ऐसे में उन्हें खासतौर पर कालेश्वर मुद्रा का नियमित अभ्यास करना चाहिए। जो हर तरह के नुकसानदायक आदतों से छुटकारा दिलाने में आपकी मदद करती है। इस मुद्रा के अभ्यास से धीरे-धीरे नशे की ओर से आपका ध्यान हटने लगता है। इसे कर आप नशा छोड़कर अपने खान-पान की ओर ध्यान देने लगते हैं। 

2. मेमोरी पावर बढ़ाती है कालेशवर मुद्रा (Kalesvara Mudra Improves Memory Power)

कालेश्वर मुद्रा का रोजाना अभ्यास करने से याद्दाश्त और मेमोरी पावर भी बढ़ती है। प्रियंका बताती हैं कि मेमोरी को शॉर्प करने के लिए बादाम खाने, एक्सरसाइज़ करने जैसी सलाह किसी भी तरह से गलत नहीं,  लेकिन इसके साथ ही इस मुद्रा का अभ्यास भी आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होता है। यह मुद्रा आपके दिमाग की क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ नर्वस सिस्टम की भी कायर्क्षमता को बढ़ाती है। यह उन लोगों के लिए भी काफी कारगर मानी जाती है, जिन्हें जल्दी भूलने की आदत होती है।      

try

3. दिमाग को शांत रखती है कालेश्वर मुद्रा  (Kalesvara Mudra Calms Mind)

योग को प्राचीन काल से ही मानसिक विकारों और दिमाग को दुरुस्त रखने के लिए मददगार माना जाता है। जो बिलकुल ठीक और प्रमाणित भी है। योग की इस खास मुद्रा को करकर आप तनाव, चिंता आदि को दूर कर सकते हैं। यह मुद्रा आपके दिमाग में चल रहे तमाम गलत विचारों को आने से रोकती है। यही नहीं यह आपके इमोशन्स को भी कंट्रोल करती है और शरीर में सकारात्मक्ता लाती है।   

4. आज्ञा चक्र को सक्रिय करे (Activates Ajna Chakra)

कालेश्वर मुद्रा आज्ञा चक्र को भी सक्रिय रखने में मदद करती है। जिससे शरीर में मौजूद नाड़ी में उर्जा आती है। इस योग मुद्रा से आपकी शरीर में मौजूद आज्ञा चक्र सक्रिय और सुचारू होता है। माना जाता है कि शरीर में आज्ञा चक्र जागरुक होने से शरीर को कई शक्तियां प्राप्त होती हैं। इस मुद्रा के 20 मिनट के नियमित अभ्यास से आप आसानी से अपने आज्ञा चक्र को सक्रिय कर सकते हैं।

men

5. सोचने-समझने की क्षमता को बढ़ाती है (Improves Thinking Capability)

प्रियंका सिंह का मानना है कि जब हमारी मेमोरी पावर बढ़ती है तो सोचने-समझने की क्षमता खुद ब खुद बढ़ जाती है। जिससे आप पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में बेहतर डिसीजन ले पाते हैं। अंदर से खुश रहने पर व्यक्ति की सेहत भी दुरुस्त रहती है। समझने की क्षमता बढ़ाकर यह मुद्रा आपके दिमाग में नशे को लेकर आने वाले विचारों पर भी लगाम लगाती है। यह मुद्रा आपके नर्वस सिस्टम पर भी सकारात्म प्रभाव डालती है, जिससे आपमें कंसंट्रेशन यानि एकाग्रता भी बढ़ती है। एकाग्रता बढ़ाने के लिए बच्चों को भी यह योग कराया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें - Face Yoga: फेस योग करने के फायदे क्या हैं? डॉक्टर से जानें फेशियल योग से जुड़े 6 सवालों के जवाब

कालेश्वर मुद्रा करने का तरीका (How To Do Kalesvera Mudra) 

  • कालेश्वर मुद्रा उंगलियों द्वारा किए जाने वाली मुद्रा है। इसे काफी आसानी से किया जा सकता है। 
  • इसे करने के लिए समतल जगह पर शांति से बैठ जाएं और आंखें बंद कर लें। 
  • अगर आप इसे करने के लिए पद्मासन की अवस्था में बैठेंगे तो यह ज्यादा कारगर होगी। हालांकि आप इसे साधारण तरीके से बैठकर भी कर सकते हैं। 
  • अब दोनों हाथों को छाती की सीध में लाएं, ऐसे में अपनी कोहनियों को खुला ही छोड़ें। 
  • ध्यान रहे कि इस दौरान आपकी रीढ़ की हड्डी बिलकुल सीधी होनी चाहिए। 
  • हाथों के अंगूठे के साथ-साथ मध्यमा के शीर्ष यानि सिरे को मिलाकर जोड़ने की बजाय अलग-अलग रखें। 
  • इस मुद्रा को करने के लिए आपको अनामिका, कनिष्ठा और तर्जनी उंगली को नीचे रखना है। इसे इस तरह से नीचे रखें कि इसके पोर आपस में मिले हों। 
  • कुछ समय तक इसका अभ्यास करते रहें। ऐसे में आपको उपर की ओर सांस लेनी और छोड़नी है। 

अगर आप भी नशे की लत से पीछा नहीं छुड़ा पा रहे हैं तो आपके लिए कालेश्वर मुद्रा काफी मददगार साबित हो सकती है। यह लेख योग एक्सपर्ट से हुई बातचीत पर आधारित है। लेख में दिए गए तरीकों से आप इस मुद्रा को आसानी से कर सकते हैं। 

Read more Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer