Doctor Verified

क्या डिलीवरी के आखिरी दिनों में घी या मक्खन खाना सही है? जानें एक्सपर्ट की राय

प्रेग्नेंसी महिलाओं के लिए काफी नाजुक वक्त माना जाता है। इस दौरान महिला को अपने साथ-साथ गर्भ में पलने वाले बच्चे का भी ध्यान रखना होता है। 

Ashu Kumar Das
Written by: Ashu Kumar DasPublished at: Jun 08, 2022Updated at: Jun 23, 2022
क्या डिलीवरी के आखिरी दिनों में घी या मक्खन खाना सही है? जानें एक्सपर्ट की राय

भारत में गर्भवती महिलाओं को कई तरह की सलाह दी जाती है। मां, सास, भाभी और पड़ोसी हर कोई अपने एक्सपीरियंस के हिसाब से गर्भवती महिला को नई नई चीजों के बारे में बताते हैं। इन्हीं सलाहों में से एक है नौवां महीना शुरू होते ही गर्भवती महिला को घी और मक्खन खाना शुरू कर देना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि घी योनि को चिकना करने में मददगार होता है। अगर गर्भवती महिला नौवें महीने में घी और मक्खन खाती है तो इससे डिलीवरी नॉर्मल होती है। बड़े-बुजुर्गों का मानना है कि गर्भवती महिलाओं के घी का सेवन करने से गर्भ में पल रहे शिशु का मानसिक विकास बेहतर होता है। क्या डिलीवरी के आखिरी दिनों में महिला का घी और मक्खन खाना सही है इसकी जानकारी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रमाणित प्रसव और गर्भावस्था स्वास्थ्य शिक्षक लक्ष्मी कार्तिकेयन ने दी है।  

गर्भावस्था में घी और मक्खन खाने के फायदे (Benefits of eating ghee and butter during pregnancy)

  • लक्ष्मी कार्तिकेयन का कहना है कि कोई महिला अगर प्रेगनेंसी के आखिरी दिनों में ज्यादा घी और मक्खन का सेवन करती है तो इससे गर्भ में पलने वाले बच्चे के शरीर पर एक सफेद परत जम जाती है। इस परत को विज्ञान की भाषा में केसोसा कहा जाता है। 
  • गर्भावस्था में घी का सेवन करने से डिलीवरी नॉर्मल होती है इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। 
  • घी हेल्दी फैट का एक रूप है जो गर्भ में बच्चे को पोषण देने में मदद कर सकता है और यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में भी मदद करता है। 
  • मक्खन शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है और फोलिक एसिड से भरपूर होता है। 
  • एक्सपर्ट के मुताबिक प्रेग्नेंसी के नौवें महीने में अगर कोई महिला प्रतिदिन एक निश्चित मात्रा में घी खाती है तो यह बच्चे के मस्तिष्क के विकास में मदद करता है। 

प्रेगनेंसी में घी और मक्खन खाने के नुकसान (Disadvantages of ghee and butter in pregnancy)

  • प्रेगनेंसी में घी और मक्खन खाने के बहुत सारे फायदे हैं, लेकिन अगर इसका ज्यादा मात्रा में सेवन किया जाए तो यह गर्भवती महिला और गर्भ में पलने वाले शिशु दोनों के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। 
  • आठवें या नौवें महीने में एक महिला ज्यादा घी या मक्खन का सेवन करती है तो इससे शरीर में अधिक मात्रा में कैलोरी जाती है। शरीर में कैलोरी ज्यादा जमने के कारण डिलीवरी के बाद वजन घटाने में दिक्कत आ सकती है। 
  • कई बार खाने में ज्यादा घी या मक्खन खाने से कब्ज, दस्त या उल्टी जैसी समस्या हो सकती है और गर्भवती महिला के शरीर को कमजोर महसूस करा सकती है। 

प्रेग्नेंट महिला को एक दिन में कितना घी खाना चाहिए? (How much ghee should pregnant women eat in a day?)

डॉक्टरों के मुताबिक एक सामान्य गर्भवती महिला को प्रतिदिन 5 से 6 चम्मच घी खाना चाहिए। जरूरी नहीं है कि यह घी आप खाने में ही खाएं। गर्भवती महिला चाहे तो घी को दूध में डालकर या लड्डू, हलवे के साथ भी खा सकती है। 

इसे भी पढ़ेंः क्या प्रेगनेंसी में सीढ़ियां चढ़ना सुरक्षित है? जानें इसके फायदे, नुकसान और जरूरी सावधानियां

घी और मक्खन खाना गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा माना जाता है, लेकिन इसकी एक मात्रा तय करनी होगी। अगर किसी गर्भवती महिला को नौवें महीने में घी या मक्खन से किसी तरह की एलर्जी हो रही है तो उन्हें तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Disclaimer