Doctor Verified

लाइफस्टाइल से जुड़ी ये 6 गलतियां कमजोर कर रही हैं महिलाओं की फर्टिलिटी, डॉक्टर से जानें बचाव के तरीके

इनफर्टिलिटी की समस्या महिलाओं में तेजी से बढ़ रही है, जानें लाइफस्टाइल के कारण महिलाओं की इनफर्टिलिटी पर पड़ने वाले प्रभाव और बचाव के टिप्स।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: May 26, 2022Updated at: May 26, 2022
लाइफस्टाइल से जुड़ी ये 6 गलतियां कमजोर कर रही हैं महिलाओं की फर्टिलिटी, डॉक्टर से जानें बचाव के तरीके

Female Infertility in Hindi: इनफर्टिलिटी या बांझपन एक ऐसी समस्या है जिसे जानकारी की कमी की वजह से हमेशा महिलाओं से जोड़कर देखा जाता है। इस समस्या में महिला के गर्भवती होने या बच्चा पैदा करने की क्षमता कम या खत्म हो जाती है। आज के समय में महिला और पुरुष दोनों में ही इनफर्टिलिटी की समस्या तेजी से बढ़ रही है। सही समय पर महिलाओं में इनफर्टिलिटी के बारे में जानकारी होने से आप इलाज और लाइफस्टाइल में बदलाव कर इस समस्या को खत्म भी कर सकती हैं। आसान भाषा में कहें तो महिलाओं में बच्चे पैदा करने या गर्भवती होने की अक्षमता को फीमेल इनफर्टिलिटी कहा जाता है। ऐसी महिलाएं यौन संबंध बनाने के बावजूद गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। कुछ महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या आनुवांशिक और शरीर से जुड़ी अन्य समस्याओं की वजह से होती है लेकिन कुछ महिलाओं की फर्टिलिटी कमजोर होने का कारण उनका खानपान और लाइफस्टाइल भी होता है। खराब जीवनशैली और खानपान की वजह से महिलाओं की फर्टिलिटी पर गंभीर असर पड़ता है। आज इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ कारणों के बारे में बताने जा रहे हैं जो महिलाओं की फर्टिलिटी को कमजोर करने के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं।

महिलाओं में इनफर्टिलिटी के कारण (Female Infertility Causes in Hindi)

पुरुष और महिला दोनों की ही फर्टिलिटी पर खानपान और जीवनशैली का बड़ा असर होता है। स्टार हॉस्पिटल की स्त्री और प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ विजय लक्ष्मी के मुताबिक आज के समय में भागदौड़ भरी जीवनशैली और असंतुलित खानपान के कारण महिलाओं की फर्टिलिटी कमजोर हो रही है। पूरी दुनिया में एक बड़ी आबादी इस समस्या से पीड़ित है। एक आंकड़े के मुताबिक लगभग 10 प्रतिशत महिलाएं इस समस्या से पीड़ित हैं। महिलाओं की फर्टिलिटी कमजोर होने के लिए उनकी जीवनशैली से जुड़ी कुछ गलतियां (Lifestyle Mistakes To Avoid For Female Infertility) जिम्मेदार हो सकती हैं।

Female Infertility Causes

इसे भी पढ़ें : दूसरी बार प्रेगनेंसी में आ रही है परेशानी? जानें सेकेंडरी इंफर्टिलिटी के बारे में सभी जरूरी बातें

1. खराब डाइट की वजह से महिलाओं में इनफर्टिलिटी (Poor Diet and Infertility)

खानपान का सीधा असर हमारी सेहत पर पड़ता है। जैसा आपका खानपान होता है उसका सीधा प्रभाव आपके शरीर और स्वास्थ्य पर दिखता है। अगर आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी होती है तो उसकी वजह से कई समस्याएं हो सकती हैं जिनमें इनफर्टिलिटी भी शामिल है। कई शोध और अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं कि शरीर में पोषक तत्वों की कमी और खराब डाइट के कारण महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। शरीर में कार्ब्स, फाइबर, लाइकोपीन और फोलेट आदि की कमी होने से वीर्य की गुणवत्ता पर असर पड़ता है और प्रजनन क्षमता भी कमजोर होती है। इसके अलावा कई अन्य पोषक तत्वों की कमी के कारण धीरे-धीरे इनफर्टिलिटी की समस्या बढ़ सकती है।

2. वजन बढ़ने के कारण इनफर्टिलिटी (Obesity And Infertility in Females in Hindi)

वजन बढ़ना या मोटापे की समस्या के कारण भी महिलाओं की फर्टिलिटी पर बुरा असर पड़ता है। वजन बढ़ने का भी संबंध डाइट से होता है। शरीर का वजन बॉडी मास इंडेक्स से ज्यादा होने से आपको कई गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। महिलाओं में बढ़ता वजन और मोटापे की समस्या भी इनफर्टिलिटी का एक बड़ा कारण हो सकती है। इसके अलावा मोटापे की वजह से डायबिटीज, हार्ट से जुड़ी बीमारियों का भी खतरा रहता है।

इसे भी पढ़ें : इन 5 कारणों से बढ़ रही है बांझपन की समस्या, जानें दूर करने के उपाय

3. मानसिक समस्याओं के कारण (Mental Health And Infertility in Females)

मानसिक स्वास्थ्य का सीधा प्रभाव शारीरिक स्वास्थ्य पर भी देखने को मिलता है। तनाव, डिप्रेशन और चिंता आदि की वजह से भी महिलाओं की फर्टिलिटी पर बुरा असर पड़ता है। तनाव और अवसाद जैसी मानसिक समस्याओं के कारण शरीर में शुक्राणुओं का निर्माण प्रभावित हो सकता है और इसकी वजह से फर्टिलिटी भी प्रभावित होती है। कई शोध और अध्ययन भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि स्ट्रेस, अवसाद और चिंता जैसी मानसिक समस्याओं का असर फर्टिलिटी पर पड़ता है।

Female Infertility in Hindi

4. शारीरिक गतिविधियों में कमी (Less Physical Effects on Fertility)

शारीरिक गतिविधियों में कमी की वजह से प्रजनन क्षमता और फर्टिलिटी पर सीधा असर पड़ता है। आज के समय में लोगों की शारीरिक निष्क्रियता उनके सेहत पर भरी पड़ रही है। शारीरिक गतिविधि जैसे व्यायाम, योग आदि का अभ्यास करने से ओव्यूलेशन में फायदा मिलता है और और आपके प्रोजेस्टेरोन के स्तर को कम करने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें : इनफर्टिलिटी से जूझ रहा है पार्टनर तो कैसे करें उसे सपोर्ट? एक्सपर्ट से जानें खास टिप्स

5. स्मोकिंग का फर्टिलिटी पर असर (Smoking Effects on Female Fertility)

धूम्रपान या स्मोकिंग की वजह से महिलाओं की फर्टिलिटी पर बुरा असर पड़ता है। स्मोकिंग या तंबाकू का सेवन करने वाली महिलाओं की फर्टिलिटी अन्य महिलाओं की तुलना में काफी कमजोर होती है। बहुत ज्यादा स्मोकिंग करने से आपके शरीर के अंडाशय को नुकसान होता है और इसकी वजह से गर्भाशय ग्रीवा और फैलोपियन ट्यूब को नुकसान होता है और इसके कारण गर्भपात का भी खतरा बढ़ जाता है। 

6. शराब का अत्यधिक सेवन (Drinking Alcohol Causes Infertility)

कई शोध और अध्ययन भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि शराब का अत्यधिक सेवन आपकी फर्टिलिटी पर बुरा असर डालता है। लंबे समय तक शराब का सेवन करने वाली महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या का खतरा अन्य महिलाओं की तुलना में ज्यादा होता है।  

महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या से बचने के उपाय (How to Prevent Infertility in Female)

बांझपन या इनफर्टिलिटी की समस्या से बचने के लिए महिलाओं को हेल्दी डाइट और अच्छी लाइफस्टाइल का पालन करना चाहिए। इनफर्टिलिटी से बचाव के लिए कार्ब्स, विटामिन, फोलेट और डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इनफर्टिलिटी से बचने के लिए टामिन सी, फॉलेट, सेलेनियम या जिंक इनटेक का ध्यान रखना चाहिए। इसके अलावा लाइफस्टाइल से जुड़ी गलतियां जैसे स्मोकिंग और शराब आदि का सेवन करने से बचना चाहिए। गर्भधारण करने में किसी भी तरह की समस्या होने पर आपको एक्सपर्ट डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

(All Image Source - Freepik.com)

Disclaimer