मॉनसून में आंखों के इन्फेक्शन का खतरा क्यों बढ़ जाता है? जानें इससे बचाव के उपाय

मानसून में आंखों में इन्फेक्शन की समस्या आम हो जाती है। अपनी आंखों को संक्रमण से बचाने के लिए आप ये उपाय अपना सकते हैं। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Jul 12, 2022Updated at: Jul 12, 2022
मॉनसून में आंखों के इन्फेक्शन का खतरा क्यों बढ़ जाता है? जानें इससे बचाव के उपाय

कई लोगों को मानसून का मौसम खूब पसंद आता है। ऐसे मौसम में गर्म पकौड़े, लंबी ड्राइव और अच्छा म्यूजिक सुनना हर किसी को सुकून देता है। लेकिन बारिश का मौसम सुकून के साथ-साथ कई तरह की बीमारियां और इन्फेक्शन का खतरा भी लेकर आता है। बारिश के मौसम में लोग मलेरिया, पीलिया, लेप्टोस्पायरोसिस, फ्लू और दस्त सहित कई पानी और खाने-पीने से जुड़ी बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। इससे आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो सकता है और संक्रमण की दिक्कत और बढ़ सकती है। इन बीमारियों के अलावा कई लोगों को आंखों की जुड़े संक्रमण का भी सामना करना पड़ता है, जिसके कारण उनकी आंखों में तेज दर्द, जलन और सूजन की परेशानी हो सकती है। बारिश के मौसम में  आंखों के संक्रमण से  बचाने के लिए आपको कुछ खास उपाय अपनाने की जरूरत होती है लेकिन उससे पहले आपको आंखों से जुड़े संक्रमण के बारे में जान लेना चाहिए कि कैसे ये संक्रमण आपकी आंखों को प्रभावित कर सकते हैं। 

मानसून के मौसम में होने वाले आंख के संक्रमण

1. आंख आना 

आमतौर पर इस प्रकार के संक्रमण में आपकी  आंखें लाल दिखाई देने लगती  हैं और आंखों में जलन और सूजन की दिक्कत भी आ सकती है। आंखों से सफेद पानी निकलना, चिपचिपी आंखें और छूने में परेशानी का अनुभव हो सकता है। अगर किसी व्यक्ति को आंख आने की समस्या हुई तो, यह उस व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल सकता है। इसलिए अगर ये समस्या किसी को है, तो उस व्यक्ति की चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए ताकि संक्रमण  आप में न फैले।

eye-infection-in-monsoon

2. केराटाइटिस 

केराटाइटिस एक प्रकार का कॉर्निया संक्रमण है। इस प्रकार का इन्फेक्शन कॉन्टैक्ट लेंस गंदे होने के कारण या आंखों में चोट लगने के कारण हो सकता है। यदि इसका उचित समय पर उपचार नहीं किया जाए, तो इससे व्यक्ति अंधेपन का शिकार हो सकता है। 

इसे भी पढे़ं- 40 की उम्र के बाद आंखें होने लगती हैं कमजोर, ऐसे रखें अपनी आंखों का ख्याल

3. ट्रेकोमा

ट्रेकोमा बैक्टीरिया क्लैमाइडिया ट्रैकोमैटिस के कारण होता है। यह संक्रमित व्यक्ति के छूने, तौलिए का इस्तेमाल करने या मक्खियों के कारण भी फैल सकता है। संक्रमित व्यक्ति की आंख या नाक के संपर्क में आने से संक्रमण फैल सकता है। ट्रेकोमा के कारण व्यक्ति अंधेपन का शिकार हो सकता है। 

मॉनसून में आंखों के संक्रमण से बचने के उपाय

1. बारिश के मौसम में आंखों के संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से धोएं और बिना हाथ साफ किए आंखों को हाथ न लगाएं।

2. मानसून में अपने तौलिये, लिनेन, कपड़े और बेडशीट को परिवार के अन्य लोगों से अलग रखने की कोशिश करें ताकि किसी तरह का बैक्टीरियल संक्रमण न फैले।

3. अगर आप कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं, तो बारिश के मौसम में इसकी अच्छे से सफाई करें। लेंस पहनने और उतारने से पहले हाथों को अच्छे से साफ करें। -

4. बारिश के मौसम में कई लोगों को बाहर घूमना पसंद होता है। ऐसे में अगर आप जंगल या पेड़-पौधे वाली जगह पर ट्रेकिंग कर रहे हैं या साइकिल चला रहे हैं, तो सेफ्टी आई गियर जरूर पहनें।

5. अगर आप बारिश में गीले हो जाते हैं, तो आपको गर्म पानी से जरूर नहा लेना चाहिए, ताकि संक्रमण बढ़ने की संभावना न रहे। 

6. अगर आपको आंखों में कोई तकलीफ महसूस हो, तो डॉक्टर की मदद लें। किसी भी तरह के संक्रमण में बिना डॉक्टर की सलाह के दवाईयों का इस्तेमाल न करें। 

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer