40-50 की उम्र में ज्यादा टीवी देखना हो सकता है आपकी सेहत के लिए हानिकारक, डॉक्टर से जानें कारण

यदि आप ज्यादा टीवी देखने के शौकीन है और आपकी उम्र 40+ है तो जरा संभल जाएं। जानें इससे आपकी सेहत को क्या नुकसान हो सकते हैं।

Monika Agarwal
तन मनWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jun 06, 2021
40-50 की उम्र में ज्यादा टीवी देखना हो सकता है आपकी सेहत के लिए हानिकारक, डॉक्टर से जानें कारण

हम सभी जानते हैं कि बहुत देर तक एक ही जगह बैठे टीवी देखना (Watching Too Much TV) स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। लेकिन यह आपकी मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है, कहना है साइकेट्रिस्ट, डॉक्टर अमूल्य सेठ, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, का। जो व्यक्ति 40-50 की उम्र में बहुत अधिक टीवी देखते (Watching Too Much TV) हैं, उनको भविष्य में चलने फिरने की दिक्कतों के साथ-साथ मानसिक परेशानियां होने की संभावना रहती है। इससे उनमें डिमेंशिया की संभावना का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए टीवी देखने के समय के हिसाब से आप खुद को 3 कैटेगरी में विभाजित कर सकते हैं। कम टीवी देखना, कभी कभी टीवी देखना और बहुत टीवी देखना (Watching Too Much TV)। जो लोग तीसरी श्रेणी में आते हैं वह कुछ सालों बाद अपने दिमाग की क्षमता को घटी हुई पाते हैं जिसे केवल कसरत या कोई शारीरिक गतिविधि करने के कारण भी हम टीवी देखने से होने वाले नुकसान को कम नहीं कर सकते। इसका अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि आपको अब कसरत करना छोड़ देना चाहिए।

टीवी देखने से क्या क्या रिस्क जुड़े हुए हैं (The Risks Associated With Watching TV)

जब आप टीवी देखते हैं तो आप बैठ कर एक ही जगह पर कई घंटे बिता देते हैं जोकि आपके शरीर के लिए बिल्कुल भी ठीक नही है। अगर आप एक ही जगह पर इनेक्टिव होकर कई देर तक बैठे रहते है तो आपको हृदय रोग, टाइप 2 डायबिटीज, कोलोन, फेफड़ों की कैंसर और मृत्यु जैसे बहुत से रिस्क होने की संभावना बढ़ जाती है। यह तो जाहिर है कि अगर आप 40 उम्र से अधिक के हैं और बहुत घंटों तक टीवी देखते हैं तो कुछ सालों बाद आपके मस्तिष्क की सेहत खुद ही कम होती जायेगी और वह अच्छे से काम नहीं कर पाएगा। हालांकि यह अभी शोध का विषय है।

man watching tv

टीवी देखने की आदत कम करें (Control the Habit of Watching TV)

अगर आप टीवी देखने के आदी हैं और आपको यह आदत छोड़ने में बहुत दिक्कत हो रही है तो आपको साथ ही कुछ ऐसी गतिविधियां भी करते रहना चाहिए जो आपके शरीर को थोड़ा बहुत लाभ भी पहुंचा सके। जैसे आपको कुछ समय के लिए रोजाना एक्सरसाइज करनी चाहिए और आपको एक संतुलित मील भी लेनी चाहिए। कसरत करने से आप मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहेंगे और आपको कम नुकसान पहुंचेगा।

इसे भी पढ़ें: लगातार एक ही जगह पर बैठकर टीवी देखने से बढ़ता है हार्ट अटैक का खतरा: शोध

लाइफ स्टाइल बनाएं बेहतर (Improve Your Lifestyle)

सभी लोगों का लाइफस्टाइल अलग अलग होता है और इसलिए ही यह उन पर निर्भर करता है कि वह अपने लाइफस्टाइल को हेल्दी बनाने के लिए किन आदतों को छोड़ना चाहेंगे और किन नई और हेल्दी आदतों को अपने रूटीन में एड करना चाहेंगे। आप चाहें तो टीवी के स्थान पर कोई बुक या नॉवेल पढ़ सकते हैं। जो आपको अच्छा भी लगे और आपका टाइम भी पास हो जाए। इससे आपके शरीर को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा। शुरू शुरू में आपको थोड़ी दिक्कत होगी लेकिन अगर आप एक एक घंटा टीवी देखने को छोड़ कर बुक पढ़ने से शुरुआत करेंगे तो धीरे धीरे आपकी आदत बन जायेगी।

कुछ एरोबिक गतिविधियां (Some Aerobic Activities)

इसके अलावा आप अपने शरीर और मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए कुछ आसान सी एरोबिक गतिविधियां भी कर सकते हैं :

  • ब्रिस्क वॉक कर सकते हैं।
  • वॉटर एरोबिक्स ट्राई करें।
  • अगर आपकी रुचि है तो नृत्य ट्राई करें।
  • आप पौधों में अपना समय लगा सकते हैं जैसे गार्डनिंग कर सकते हैं।
  • टेनिस खेल सकते हैं।
  • आराम आराम से साइकिल चला सकते हैं।
old man watching tv

अन्य गतिविधियां (Other Activities)

अगर आपको ऊपर लिखित गतिविधियां बहुत आसान लगती हैं और आप कुछ मुश्किल ट्राई करना चाहते हैं तो आप निम्न ट्राई कीजिए :

  • एक भारी बैग के साथ ऊपर की तरफ चढ़ाई करना।
  • भागना
  • तैराकी करना।
  • एरोबिक डांसिंग।
  • लगातार गड्ढे खोदते रहने जैसी हैवी गार्डेनिंग गतिविधियां करना।
  • थोड़ा तेज साइकिल चलाना।
  • रस्सी कूदना।
  • टेनिस खेलना।

यही नहीं आप अन्य बहुत सी रोजाना की आदतों को बदलकर अपने दिमाग को किसी और कार्य में व्यस्त कर सकते हैं। आपका उद्देश्य अपनी मानसिक सेहत को ठीक रखना है इसलिए जितना हो सके टीवी से दूरी और खुश रहने की कोशिश करें। जब भी आप टीवी के रिमोट को उठाने की सोचते हैं तो आज से कुछ सालों बाद अपने दिमाग की सेहत के बारे में जरूर सोच लें।

डॉक्टर अमूल्य सेठ, साइकेट्रिस्ट, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, गाजियाबाद (यूनिट ऑफ मणिपाल) से बातचीत पर आधारित

Read More Articles on Mind & Body in Hindi

Disclaimer