क्या गर्भवती महिलाओं के लिए लहसुन खाना सुरक्षित है? जानें प्रेग्नेंसी में लहसुन के फायदे-नुकसान और सावधानियां

प्रेग्नेंसी में लहसुन खाना फायदेमंद भी होता है और नुकसानदायक भी। जानें कितना और कब खाना फायदेमंद है और कब खाना नुकसानदायक है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 02, 2020
क्या गर्भवती महिलाओं के लिए लहसुन खाना सुरक्षित है? जानें प्रेग्नेंसी में लहसुन के फायदे-नुकसान और सावधानियां

लहसुन को गुणकारी माना जाता है क्योंकि इसमें बहुत पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट्स और एक खास तत्व सल्फर होता है। लहसुन को कई तरह की बीमारियों में और रोजमर्रा की समस्याओं में घरेलू इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। लहसुन में एंटीबैक्टीरियल, एंटी वायरल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं, जिसके कारण इसके सेवन के ढेर सारे लाभ होते हैं। लेकिन क्या गर्भवती महिलाओं के लिए लहसुन खाना सुरक्षित है? प्रेग्नेंसी में लहसुन खाने पर क्या फायदे या नुकसान होते हैं और अगर कोई महिला खाए, तो क्या सावधानियां बरतनी चाहिए, इस आर्टिकल में हम इन्हीं बातों को बता रहे हैं।

garlic

क्या प्रेग्नेंसी में लहसुन खाना सुरक्षित है? और कितना खाएं?

एक्सपर्ट्स की मानें तो सामान्य अवस्था में थोड़ी मात्रा में लहसुन खाना प्रेग्नेंसी में सुरक्षित भी होता है और फायदेमंद भी होता है। प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में, जब शिशु भ्रूण रूप में हो, तो आप लहसुन का सेवन रोजाना की ही तरह कर सकती हैं। लेकिन आखिरी के 4 महीनों में आपको लहसुन के प्रयोग में थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि इसका असर गर्भ में विकसित हो चुके शिशु पर पड़ सकता है। आमतौर पर प्रेग्नेंसी के समय में सामान्य खानपान में रोजाना 3-4 कली लहसुन खाना सुरक्षित माना जा सकता है। हालांकि इस दौरान भी आपको कच्चा लहसुन नहीं खाना चाहिए। इसे सब्जी, दाल या दूसरी डिशेज में डालकर खाएं या भूनकर खाएं।

इसे भी पढ़ें: भारतीय महिलाओं में बहुत आम है पेट के निचले हिस्से में दर्द वाली ये बीमारी, लापरवाही बरतने से बढ़ता है खतरा

प्रेग्नेंसी में लहसुन खाना हो सकता है फायदेमंद

गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में लहसुन खाना (कच्चा छोड़कर) आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। ये प्रेग्नेंसी से जुड़ी कई समस्याओं को रोकने में मदद करता है। इसलिए आपको लहसुन जरूर खाना चाहिए, लेकिन सीमित मात्रा में। इससे आपको निम्न फायदे मिल सकते हैं-

इंफेक्श से बचाए

लहसुन में एंटीबैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण होते हैं, इसलिए ये कॉमन इंफेक्शन के खतरे को कम करता है। कई बार प्रेग्नेंसी के समय होने वाले छोटे-मोटे इंफेक्शन भी शिशु के लिए घातक हो सकते हैं।

त्वचा की समस्याओं से बचाए

त्वचा पर होने वाली समस्याओं जैसे- बैक्टीरियल और फंगल इंफेक्शन, खुजली आदि को लहसुन दूर करता है। ये समस्याएं प्रेग्नेंसी में बहुत सारी महिलाओं को होती हैं।

बालों का झड़ना कम करे

प्रेग्नेंसी में हार्मोनल बदलावों के कारण महिलाओं के बाल झड़ने लगते हैं। लहसुन में मौजूद सल्फर बालों को झड़ने से रोकता है और नए बालों को उगाने में मदद करता है।

थकान दूर करे

प्रेग्नेंसी में थकान और आलस भी एक बड़ी समस्या है। महिलाएं अक्सर थकान महसूस करती हैं और लो-एनर्जी फील करती हैं। लहसुन के सेवन से ये समस्याएं दूर होती हैं।

इसे भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान हाई ब्लड प्रेशर कितना खतरनाक होता है?

pregnancy blood pressure

प्रेग्नेंसी में लहसुन खाना कब नुकसानदायक हो सकता है?

प्रेग्नेंसी के अंतिम 4-5 महीनों में बहुत अधिक लहसुन नहीं खाना चाहिए और कच्चा लहसुन तो बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। इससे गर्भवती महिला को कई तरह के नुकसान हो सकते हैं-

  • लहसुन खून पतला करता है, इसलिए ज्यादा खाने पर डिलीवरी के समय बहुत अधिक खून बहने की समस्या हो सकती है।
  • लहसुन ब्लड प्रेशर घटाता है इसलिए कई बार ज्यादा खा लेने पर ब्लड प्रेशर खतरनाक स्तर तक कम हो सकता है। हालांकि जो महिलाएं पहले से हाई ब्लड प्रेशर का शिकार हैं, वो अपने डॉक्टर से पूछकर लहसुन खा सकती हैं।
  • कुछ दवाओं के साथ लहसुन रिएक्ट कर सकता है, इसलिए अगर किसी तरह के दवाएं ले रहे हैं, तो ज्यादा लहसुन न खाएं या अपने डॉक्टर से पूछकर सेवन करें।
  • लहसुन खाने से शरीर को आयोडीन को अवशोषित होने में परेशानी होती है इसलिए होने वाले शिशु को थायरॉइड की समस्या हो सकती है।

Read More Articles on Women's Health in Hindi

 

Disclaimer